ये डॉक्टर बना मानवता की मिशाल, किडनी ट्रांसप्लांट किया, मरीज को खून भी दिया

ये डॉक्टर बना मानवता की मिशाल, किडनी ट्रांसप्लांट किया, मरीज को खून भी दिया

भोपाल हमीदिया हॉस्पिटल को प्रदेश में पहला किडनी ट्रांसप्लांट करने का खिताब मिल चुका है. इस ट्रांसप्लांट यूनिट को प्रारम्भ कराने के लिए डाक्टर हिमांशु शर्मा बीते पांच वर्षों से कोशिश कर रहे थे.
जब पहले ट्रांसप्लांट की घड़ी आई तो मरीज का हीमोग्लोबिन कम निकला. ट्रांसप्लांट के लिए करीब 6 यूनिट ब्लड की आवश्यकता थी. मरीज के बेटे राजीव शर्मा ने कोशिश किया लेकिन ओ पॉजीटिव ग्रुप का ब्लड नहीं मिल पा रहा था जब इसकी जानकारी डाक्टर हिमांशु शर्मा को लगी तो उन्होंने स्वयं ब्लड दिया. बुधवार को हमीदिया में मुरैना से पहुंचे मरीज केशव दत्त शर्मा के संबंधियों ने डाक्टर शर्मा के सरेंडर की सराहना की.


अब मिली सफलता
डाक्टर हिमांशु शर्मा ने 2017 में एमडी करने के बाद हमीदिया हॉस्पिटल में ज्वाइनिंग दी थी. तभी से वे यहां किडनी ट्रांसप्लांट यूनिट प्रारम्भ करने के कोशिश में जुट गए. डेढ़ वर्ष पहले आई कोविड-19 महामारी ने उनके कोशिश को रोक दिया लेकिन जैसे ही मरीज कम हुए उन्होंने फिर अपनी मुहिम प्रारम्भ की और 7 सितंबर को मुरैना के पोरसा निवासी केशव दत्त शर्मा को उनकी पत्नी की किडनी प्रत्यारोपित कर प्रदेश में पहले सरकारी ट्रांसप्लांट करने वाले हॉस्पिटल में शामिल किया.

तीन दिन में डिस्चार्ज
केशव दत्त शर्मा के बेटे राजीव ने बताया कि दो-तीन दिन में हॉस्पिटल से माता-पिता को डिस्चार्ज किया जाएगा. इस मौके पर पूरा परिवार हॉस्पिटल पहुंचकर डाक्टर हिमांशु और पूरी टीम को धन्यवाद देंगे.


मुसाफिर को लूटने वाले बदमाशों को गाड़ी वाले ने सिखाया ऐसा सबक

मुसाफिर को लूटने वाले बदमाशों को गाड़ी वाले ने सिखाया ऐसा सबक

सोशल मीडिया पर एक वीडियो खूब वायरल हो रहा है, जिसे देख आप हैरान हो जाएंगे। वीडियो देख आप गाड़ी वाले की जमकर तारीफ करेंगे। वहीं, मुसाफिर भी गाड़ी वाले की तारीफ कर शुक्रिया अदा कर रहा है। इसके अलावा, वीडियो से यह सीख भी मिलती है कि राह चलते लोगों की हमें मदद करनी चाहिए। अक्सर लोग राह चलते मुसाफिरों की मुसीबत को उनके हाल पर छोड़ देते हैं। लोगों को इन हरकतों से बाज आकर एक दूसरे की मदद जरूर करनी चाहिए। इस वीडियो में गाड़ी वाले ने मदद की अनुपम उदाहरण पेश की है।


इस वीडियो में साफ देखा जा सकता है कि एक मुसाफिर सड़क पर तेजी से कदम बढ़ाकर अपनी मंज़िल की तरफ बढ़ रहा है। वह मन ही मन अपने जीवन और पारिवारिक समस्याओं को गिन रहा है। तभी दूसरी दिशा से दो बदमाश बाइक पर सवार होकर आते हैं। इनमें एक बदमाश रिवाल्वर निकालकर मुसाफिर पर तान देता है। यह देख मुसाफिर घबरा जाता है। इस दौरान मुसाफिर के हाथ से थैला छूटकर नीचे गिर जाता है। वह घबराकर दीवार के सहारे सावधान मुद्रा में खड़ा हो जाता है। वहीं, एक बदमाश मुसफिर से सभी चीजें देने के लिए कहता है। यह सब कुछ दिनदहाड़े बीच सड़क पर किया जा रहा है।

तभी एक गाड़ी वाले की नजर बदमाशों पर पड़ती है। उस समय वह व्यक्ति मुसाफिर के लिए देवदूत बनकर आता है और न केवल बदमाशों को सबक सिखाता है, बल्कि मुसाफिर की संकट को भी दूर कर देता है। उस समय गाड़ी वाले फ़िल्मी स्टाइल में गाड़ी तेज कर बदमाशों की बाइक को जोरदार टक्कर मारता है। इससे दोनों बदमाश बाइक सहित हवे में उछलकर दूर गिर जाते हैं।

वहीं, गाड़ी वाला बिना रुके आगे बढ़ जाता है। बदमाश चोटिल होने पर तुरंत उठकर बाइक लेकर नौ दो ग्यारह हो जाते हैं। इस तरह मुसाफिर की जान बच जाती है। इस वीडियो को UncleRandom नामक शख्स ने सोशल मीडिया ट्विटर पर अपने अकांउट से शेयर किया है। इस वीडियो को खबर लिखे जाने तक सैकड़ों बार देखा गया है।