OMG! इस प्रदेश में कुत्तों से अधिक खूंखार बिल्लियां, अभी तक इतने लोग हुए शिकार

OMG! इस प्रदेश में कुत्तों से अधिक खूंखार बिल्लियां, अभी तक इतने लोग हुए शिकार

तिरुवनंतपुरम: केरल में लोगों को कुत्तों से अधिक डर बिल्लियों का है और प्रदेश में पिछले कुछ सालों में बिल्लियों के काटने के मुद्दे कुत्तों के काटने की तुलना में कहीं अधिक सामने आए हैं इस वर्ष केवल जनवरी माह में ही बिल्लियों के काटने के 28,186 मुद्दे सामने आए जबकि कुत्तों के काटने के 20,875 मुद्दे थे

राज्य के स्वास्थ्य विभाग ने हाल ही में एक आरटीआई (सूचना का अधिकार) के उत्तर में यह जानकारी दी

राज्य स्वास्थ्य निदेशालय के अनुसार, पिछले कुछ सालों से बिल्लियों के काटने का उपचार कराने वालों की संख्या कुत्तों के काटने का उपचार कराने वालों से अधिक है

आंकड़ों के अनुसार, इस वर्ष केवल जनवरी में बिल्लियों के काटने के 28,186 मुद्दे सामने आए जबकि कुत्तों के काटने के 20,875 मुद्दे थे प्रदेश के पशु संगठन, ‘एनिमल लीगल फोर्स’ द्वारा दाखिल आरटीआई के उत्तर में यह आंकड़े दिए गए इसमें 2013 और 2021 के बीच कुत्तों और बिल्लियों द्वारा काटने के आंकड़ों के साथ ‘एंटी-रेबीज’ टीके और सीरम पर खर्च की गई राशि की भी जानकारी दी गई है

आंकड़ों के अनुसार, 2016 से बिल्लियों के काटने के मुद्दे में वृद्धि हुई है 2016 में बिल्लियों से काटने का 1,60,534 इतने लोगों ने उपचार कराया जबकि कुत्तों के काटने के 1,35,217 मुद्दे सामने आए 2017 में बिल्लियों के काटने के 1,60,785 मामले, 2018 में 1,75,368 और 2019 और 2020 में यह बढ़कर क्रमश: 2,04,625 और 2,16,551 हो गए दक्षिणी प्रदेश में 2014 से लेकर 2020 तक बिल्लियों के काटने के मामलों में 128 फीसदी वृद्धि हुई

सरकारी आंकड़ों के अनुसार, 2017 में कुत्तों के काटने के 1,35,749, साल 2018 में 1,48,365, साल 2019 में 1,61,050 और साल 2020 में 1,60,483 मुद्दे सामने आए रेबीज से पिछले वर्ष पांच लोगों की मृत्यु हुई थी


यहां रोबोट करवा रहे है लड़कियों की शादी, लड़कियों को मिल रहे है पसंद के दूल्हे

यहां रोबोट करवा रहे है लड़कियों की शादी, लड़कियों को मिल रहे है पसंद के दूल्हे

अक्सर हमारा मानना होता है कि जोड़िया ऊपर वाला बनाता है। लेकिन आप यकीन नहीं करेंगे आज हम आपको दुनिया के एक ऐसे देश के बारे में बताने जा रहे है जहां पर रिश्ते ऊपरवाला नहीं बल्कि रोबोट जोड़ते है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार बता दें कि जापान की राजधानी टोक्यों में जीवन साथी खोजने के लिए एक प्रोग्राम आयोजित किया गया है। जिसमें लड़के लड़कियों के अलावा कई रोबोट भी हिस्सा लिया है। 

रोबोट करवा रहे है शादी:

इन रोबोटों का काम है कि ये लड़की लड़को की बात एक दूसरे के पास पहुंचा रहे है। जो एक दूसरे से बात करने में शरमा रहे है। जानकारी के लिए बता दें कि टोक्यो स्थित आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, रोबोटिक्स और अन्य तकनीक पर काम करने वाली कंटेंट इनोवेशन प्रोग्राम एसोसिएशन ने यह प्रोग्राम आयोजित किया था, जिसमें 25 से 39 साल के 28 लड़के-लड़कियों ने हिस्सा लिया। इन रोबोट्स की वजह से इस प्रोग्राम में चार जोड़ियां भी बन गईं। 

कैसे करते हैं काम:

रोबोट के अंदर लड़कियों के बारे में सभी जनकारी व उनकी इच्छा शौक औऱ नोकरी जैसी जानकारियां फीड की गई है। उसी के चलते इस प्रोग्राम में भाग लेने वालों से सवाल पूछे गए। कंटेट इनोवेशन प्रोग्राम के एक अधिकारी ने बताया है कि रोबोट लोगों की सहायता कर रहे है।इस आयोजन में भाग लेने वाली एक महिला ने बताया है कि रोबोट की सहायता से मुझे वैसा ही साथी मिला जिसकी मै इच्छा रखती थी।