महाशय धर्मपाल का अजमेर से रहा नाता, निधन पर अजमेर गमगीन

महाशय धर्मपाल का अजमेर से रहा नाता, निधन पर अजमेर गमगीन

अजमेर। दुनियाभर में मशहूर एमडीएच मसालों के संस्थापक महाशय धर्मपाल गुलाटी के निधन पर अजमेरवासी भी गमगीन हुए। अजमेर से उनका नजदीकी नाता रहा है। वे वर्ष 2010 में जब अजमेर आए तब उनकी पत्रकार साथियों को कही यह बात भुलाने से भी नहीं भुलायी जा सकेगी। एक इंटरव्यू के दौरान पूछा गया कि महाशय जी आप करोड़ रुपए का दान यूं ही कर देते हो, कभी आपके परिवार वाले एतराज नहीं करते? इस पर उन्होंने कहा कि वे एमडीएच मसाला का जो विज्ञापन करते हैं उसका कोई मेहनताना नहीं लेते। यदि एमडीएच के विज्ञापन अमिताभ बच्चन करेंगे तो करोड़ों रुपया लेंगे। इसलिए वे अपनी मेहनत का पैसा दान कर देते हैं।

महाशयजी ने अजमेर के जयपुर रोड स्थित स्वामी दयानंद की निर्वाण स्थली भिनाय कोठी और ऋषि घाटी स्थित स्वामी दयानंद की उत्तराधिकारी संस्था परोपकारिणी सभा को विकास कार्यों के लिए करोड़ों रुपए का दान दिया है। इन दोनों स्थानों का निखरा स्वरूप धर्मपाल जी की वजह से ही है। परोपकारिणी सभा के प्रमुख स्व. धर्मवीर जी के प्रति महाशय जी का विशेष स्नेह रहा। निर्वाण स्थली पर स्वामी दयांनद की वस्तुएं संरक्षित रहे तथा आर्य समाज के सिद्धांतों का प्रचार प्रसार होता रहे, इसके लिए महर्षि दयानंद स्मारक ट्रस्ट को दिल खोल कर धनराशि दी।

ट्रस्ट के अध्यक्ष डॉ. श्रीगोपाल बाहेती ने भी महाशयजी की भावना के अनुरूप भिनाय कोठी में विकास कार्य करवाए तथा आर्य समाज की गतिविधियों को संचालित रखा। निर्वाण स्थली पर प्रतिदिन यज्ञ-हवन के साथ साथ आर्य विद्वानों के प्रवचन होते हैं।


किसान आंदोलन पर बाइडेन ने कहा- मोदी सरकार किसानों की मांगें पूरी करे? जानिए इस पोस्ट का सच

किसान आंदोलन पर बाइडेन ने कहा- मोदी सरकार किसानों की मांगें पूरी करे? जानिए इस पोस्ट का सच

क्या हो रहा है वायरल: सोशल मीडिया पर एक पोस्ट वायरल हो रही है। पोस्ट में अमेरिका के प्रेसिडेंट इलेक्ट जो बाइडेन की फोटो है और उस पर डीडी न्यूज का लोगो लगा है। दावा किया जा रहा है कि किसान आंदोलन पर बाइडेन ने कहा, 'दिल्ली बॉर्डर पर किसान ठंड और बारिश में पचास दिन से बैठे हुए हैं। उनकी मांगों का शांतिपूर्ण समाधान हो, जल्द से जल्द मोदी सरकार किसान की मांग पूरी करे। उन्हें अपने घर सम्मानपूर्वक वापस भेजे।'

और सच क्या है?

  • इस पोस्ट की सच्चाई जानने के लिए हमनें डीडी न्यूज पर लगी जो बाइडेन की फोटो को गूगल पर सर्च किया। सर्च रिजल्ट में हमें दूरदर्शन के यूट्यूब चैनल पर इस फोटो का पूरा वीडियो मिला।
  • पड़ताल के दौरान हमनें डीडी न्यूज के इस वीडियो में जो बाइडेन के पूरे बयान को सुना। जो बाइडेन ने अपने बयान में कहीं भी किसान आंदोलन का जिक्र नहीं किया।
  • डीडी न्यूज ने अपने यूट्यूब चैनल पर यह वीडियो 31 अक्टूबर, 2020 को पब्लिश किया था। तब तक किसान आंदोलन दिल्ली नहीं पहुंचा था।
  • पड़ताल के अगले चरण में हमने बाइडेन के बयान से जुड़े की-वर्ड्स गूगल पर सर्च किए। सर्च रिजल्ट में हमें इस बयान से जुड़ा कोई लिंक नहीं मिला।
  • साफ है कि सोशल मीडिया पर बाइडेन की फोटो के साथ किया जा रहा दावा फेक है। जो बाइडेन ने किसान आंदोलन पर कोई बयान नहीं दिया है।

यात्रियों के लिए खुशखबरी! अब आसान होगा सफर       जल्दी हटाईये इसे, लोन देने वाले 453 ऐप्स को गूगल ने किया बैन       इस खिलाड़ी ने ब्रिस्बेन टेस्ट में किया डेब्यू       भारतीय खिलाड़ी हुए परेशान, ऑस्ट्रेलियाई दर्शकों की बदतमीजी       ऐसी महान टेनिस खिलाड़ी, जिन्होंने कम उम्र में बनाए इतने खिताब       वाॅशिंगटन ने स्मिथ को ऐसे किया आउट, बताया...       इस खिलाड़ी के पिता का निधन, खिलाड़ियों के घर शोक       यूपी दिवस: होगा तीन दिवसीय कार्यक्रम, सीएम योगी करेंगे शुभारम्भ       CM योगी लगवाएंगे वैक्सीन! कर दिया बड़ा एलान       यूपी: कोहरे में यात्रा करना पड़ा भारी, एक्सप्रेस वे पर 25 गाड़ियां टकराई       राजनाथ सिंह ने कहा कि भारतीय सेना ने हमेशा देश का हौसला बढ़ाया       मंदिर पर बोले अखिलेश यादव, राजनीति में लिया जाता है चंदा       सीएम योगी ने कोविड-19 वैक्सीनेशन का किया अवलोकन       पहले दिन 223 लोगों को लगी वैक्सीन, अब इस दिन को लगेगी अगली डोज       ईडी ने TMC के इस बड़े नेता पर कसा शिकंजा, कोर्ट में हुई पेशी, जानें       अभी अभी: वैक्सीन के बाद दो महिलाओं की तबियत बिगड़ी, भारत में दिखा पहला मामला       छत्तीसगढ़ में इस महिला को लगा कोरोना का पहला टीका       TMC विधायकों ने नियमों की उड़ाई धज्जियां       छत्तीसगढ़: CRPF जवान शराब तस्करी में गिरफ्तार       कोरोना वैक्सीनेशन, दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान