ओमिक्रोन वेरिएंट को लेकर अलर्ट मोड पर योगी आदित्यनाथ सरकार

ओमिक्रोन वेरिएंट को लेकर अलर्ट मोड पर योगी आदित्यनाथ सरकार

दक्षिण अफ्रीका के साथ ही हांगकांग में कोरोना वायरस के ओमिक्रोन वेरिएंट की तेजी से बढ़ती सक्रियता के बाद योगी आदित्यनाथ सरकार भी हाई अलर्ट पर है। सीएम योगी आदित्यनाथ के निर्देश के बाद से स्वास्थ्य विभाग ने सभी 75 जिलों में जांच तथा सक्रीनिंग की तैयारी तेज कर कर दी है।

कोरोना वायरस संक्रमण के नए वेरिएंट को लेकर पीएम नरेन्द्र मोदी की शनिवार की बैठक के बाद उत्तर प्रदेश सरकार भी सतर्क हो गई है। यहां के स्वास्थ्य विभाग ने पांच जिलों पर अतिरिक्त ध्यान देने के साथ जांच तथा सक्रीनिंग की तेज करने की योजना बना ली है। स्वास्थ्य विभाग की टीमें अब उत्तर प्रदेश भ्रमण पर आने वाले विदेशी यात्रियों के संपर्क में रहेंगी। प्रदेश के वित्त, संसदीय कार्य मंत्री तथा चिकित्सा शिक्षा मंत्री सुरेश कुमार खन्ना ने बताया कि कोरोना वायरस के ओमिक्रोन वेरिएंट को लेकर उत्तर प्रदेश अलर्ट पर है। खन्ना ने बताया कि प्रदेश में विदेशी फ्लाइट की समीक्षा हो रही है। दक्षिण अफ्रीका से अभी तक उत्तर प्रदेश आए दो भारतीय निगेटिव मिले हैं। उत्तर प्रदेश में इसको लेकर सभी प्रकार की सावधानी बरती जा रही है।

ओमिक्रोन वेरिएंट को लेकर देश की सर्वाधिक आबादी वाले राज्य उत्तर प्रदेश में सरकार अलर्ट मोड पर काम कर रही है। प्रदेश में इस नए वैरिएंट को लेकर सभी जिलों में विदेश से आने वालों की पड़ताल का निर्देश भी दिए गए हैं। कोरोना वायरस के डेल्टा वैरिएंट से भी ज्यादा खतरनाक बताए जाने वाले इस नए वेरिएंट ओमिक्रोन को लेकर योगी आदित्यनाथ सरकार बेहद सतर्क है।

उत्तर प्रदेश सरकार के अलर्ट जारी करने के बाद स्वास्थ्य विभाग ने एयरपोर्ट पर सख्ती बढ़ा दी गई है। जिसके कारण अब सभी यात्रियों की एयरपोर्ट पर नि:शुल्क आरटीपीसीआर की जांच की जाएगी। स्टेट सर्विलांस ऑफिसर विकास इंदु अग्रवाल ने बताया कि प्रदेश के 75 जिलों के डीएसओ, सीएमओ, डीआईओ और एक्स्पर्ट संग एक अहम बैठक की गई है। प्रदेश सरकार की ओर से इस बैठक में अधिकारियों को दिशा निर्देश जारी किए गए हैं। उन्होंने बताया कि प्रदेश सरकार ने डेली मॉनीटरिंग को बढ़ाने के आदेश दिए हैं।

विदेश से लौटे यात्रियों में 14 दिन के भीतर लक्षण दिखने पर उनकी जांच की जाएगी। साथ ही पहले से सक्रिय सर्विलांस टीमें और भी तेजी से काम करेंगी। कोरोना की पहली और दूसरी लहर के बाद इस नए वैरिएंट का सामना करने के लिए उत्तर प्रदेश पूरी तौर पर तैयार है। इसके साथ ही कोरोना प्रोटोकॉल का कड़ाई से पालन कराने के आदेश भी जारी किए गए हैं।

एयरपोर्ट पर जांच, बढ़ेगा स्क्रनिंग का दायरा

24 करोड़ वाली आबादी वाले प्रदेश में नए वैरिएंट को लेकर हर एक चरण पर प्रदेश सरकार सर्तकता बरत रही है। एयरपोर्ट पर अब जांच और स्क्रीनिंग का दायरा बढ़ाया जाएगा। सरकार ने विदेश से आने वाले यात्रियों की जांच और स्क्रनिंग अब और तेजी से करने के निर्देश जारी किए हैं। इसके साथ ही अब विदेश से लौटे यात्री 15 दिन स्वास्थ्य विभाग के संपर्क में रहेंगे।

पांच जिलों पर पैनी नजर

कोरोना वायरस के नए वैरिएंट ओमिक्रोन को लेकर सरकार ने आगरा, प्रयागराज, वाराणसी, लखनऊ व कानपुर में बड़ी संख्या में आने वाले विदेशियों पर नजर रखने के निर्देश दिए हैं। अधिकारी लगातार इसको लेकर जिलों से सम्पर्क में हैं। जिलों से कोविड की स्थिति के साथ वहां पर टीका की पहली व दूसरी डोज का लाभ लेने वालों की सूची मांगी गई है। पहले व मौजूदा हालात और उसके आगे की योजनाओं के मद्देनजर वरिष्ठ अधिकारियों से प्लान भी मांगा गया है।

नए वैरिएंट ओमिक्रोन का सामना करने के लिए यूपी है तैयार

केजीएमयू के पल्मोनरी मेडिसिन विभाग के पूर्व विभागाध्यक्ष व एराज मेडिकल कॉलेज के पल्मोनरी मेडिसिन विभाग के अध्यक्ष प्रो. राजेंद्र प्रसाद ने बताया कि प्रदेश सरकार ने कोरोना संक्रमण के दौरान हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर को बहुत सुधारा है। अब प्रदेश को नई चुनौतियों का सामना करने के लिए सक्षम है। सरकार ने कम समय में प्रदेश में नए ऑक्सीजन प्लांट, नए मेडिकल कॉलेज, बेड की संख्या में विस्तार, डॉक्टरों की भर्ती, सीएचसी पीएचसी का विस्तार करते हुए यूपी को सवास्थ्य सुविधाओं से बेहतर ढंग से लैस किया है। जिससे आने वाले समय में भी यूपी ऐसी चुनौतियों का सामना डटकर कर सकता है। कोरोना की पहली और दूसरी लहर का सफलतापूर्वक सामना करने वाला यूपी नए वैरिएंट ओमिक्रोन का सामना करने के लिए भी तैयार है। 


Makar Sankranti 2022: बाजारों में पंजाबी चिक्की, रामदाना समेत इन चीजों की बढ़ी डिमांड

Makar Sankranti 2022: बाजारों में पंजाबी चिक्की, रामदाना समेत इन चीजों की बढ़ी डिमांड

मकर संक्रांति पर्व को लेकर थोक और फुटकर बाजारों में ग्राहकों की रौनक रही। गजक, तिल के लड्डू, पंजाबी चिक्की, रामदाना समेत गुड़ और शक्कर के बने उत्पादों की अच्छी बिक्री हुई।

नया चावल और उड़द-मूंग की दाल भी खूब बिकी। हालांकि, बाजार में महंगाई की मार भी दिखी। सोशल डिस्टेंसिंग धड़ाम रही, तमाम ग्राहक मास्क तक नहीं लगाए थे। 

कानपुर नमकीन, बेकरी, गजक, पेठा एसोसिएशन के अध्यक्ष निर्मल त्रिपाठी ने बताया कि पिछले साल की तुलना में गुड़ और शक्कर के दाम बढ़े हैं। पिछले साल की तुलना में करीब 10-15 फीसदी दाम तेज हैं। गुड़ की गजक 240 रुपये किलो बिकी। गुड़ रोल और पंजाबी चिक्की का भाव 260 रुपये किलो रहा।

काले तिल का लड्डू 280 और सफेद तिल का लड्डू 260 रुपये किलो में बिका। बाजार में ग्राहकों की पसंद को देखते हुए चॉकलेट, खोवा, मेवा गजक भी हैं। इसके दाम अलग-अलग क्वालिटी के अनुसार 400 से 600 रुपये किलो तक है। महामंत्री शंकर लाल मतानी ने बताया कि बाजार में अच्छी संख्या में ग्राहक थे।

दोनों प्रकार के तिल के लड्डू, रामदाना, लइया की भी अच्छी डिमांड देखने को मिली। चावल और दाल कारोबारी सचिन त्रिवेदी ने बताया कि खिचड़ी में नया चावल ही इस्तेमाल में आता है। इसके चलते चावल और दालों की अच्छी बिक्री हुई।