पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी भी इसका बहुत ज्यादा समय से कर रही कड़ा विराेध

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी भी इसका बहुत ज्यादा समय से कर रही कड़ा विराेध

केंद्र की नरेन्द्र मोदी सरकार साेमवार काे नागरिकता संशोधन बिल यानि (सीएबी) काे संसद में रखने जा रही है. जिसका सारे देश में जमकर विरोध हो रहा है, विशेषकर पूर्वाेत्तर राज्याें व पश्चिम बंगाल में. पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी भी इसका बहुत ज्यादा समय से कड़ा विराेध कर रही हैं.

इसके चलते हाल ही में टीएमसी सुप्रीमो ममता बनर्जी ने बोला है कि सीएबी व राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्ट्रेशन (NRC) एक ही सिक्के के दो पहलू हैं. यह विधेयक संविधान के बुनियादी सिद्धांताें के खिलाफ है. उन्हाेंने बोला कि मैं इनका आखिरी सांस तक विराेध करूंगी. एनआरसी के डर से प्रदेश में कम से कम 30 लाेग आत्महत्या कर चुके हैं. वहीं दूसरी तरफ टीएमसी नेता डेरेक ओब्रायन ने बोला है कि CAB पेश किए जाने की आसार काे देखते हुए पार्टी ने अपने सभी सांसदाें काे साेमवार से 4 दिन के लिए सदन में मौजूद रहने का व्हिप जारी किया है.

आपको बता दें कि केन्द्र सरकार साेमवार काे लाेकसभा में CAB पेश कर सकती है. इस बिल में पाकिस्तान, बांग्लादेश, अफगानिस्तान से मजहब के आधार पर उत्पीड़न की वजह से हिंदुस्तान आए गैर-मुस्लिमाें काे नागरिकता देने का प्रावधान है. विराेध काे देखते हुए संशाेधित कानून असम, अरुणाचल प्रदेश, मेघालय, मिजोरम, नगालैंड व त्रिपुरा में प्रभावी नहीं होगा.