UP: गांवों में भी जमकर टूटा कोविड-19 का कहर

UP: गांवों में भी जमकर टूटा कोविड-19 का कहर

नोएडा: गौतम बुद्ध नगर (Gautam Buddh Nagar) यानी नोएडा में कस्बों और गांवों में कोविड-19 वायरस ( Covid-19 ) संक्रमण के तेजी से फैल रहे प्रकोप के मद्देनजर बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराने की कोशिशें जारी हैं दशा संभालने के लिए जिले के प्रमुख स्वास्थ्य ऑफिसर ने महत्वपूर्ण दवाएं उपलब्ध कराने और संक्रमण की जाँच कराने के लिए कई सेंटर खोले जाने की जानकारी साझा की है

नोएडा के मुख्य चिकित्सा ऑफिसर डॉ दीपक अहोरी (CMO Deepak Ohri) ने बताया कि ग्रामीण क्षेत्रों में स्वास्थ्य सुविधाएं बेहतर की जा रही हैं जिसके अनुसार दवाइयां एवं ऑक्सीजन मौजूद कराने तथा Covid-19 की जाँच के लिए कई केन्द्र खोले गए हैं 

सीएमओ ने शहर के लोगों से अपील की है कि संक्रमण के लक्षण दिखाई देने पर तुरंत जाँच कराएं और संक्रमित पाए जाने पर स्वास्थ्य विभाग से सम्पर्क कर दवाइयों की किट हासिल करें उन्होंने ये भी बताया कि घर में रहकर उपचार करा रहे लोगों के लिए जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग ने दवाइयों की किट उनके घरों पर पहुंचानी प्रारम्भ कर दी है साथ ही बताया कि शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों में ऑक्सीजन की कमी को दूर करने के लिए पांच केन्द्र बनाए गए हैं

उन्होंने बताया कि ऑक्सीजन सिलेंडर तथा रेमडेसिविर इंजेक्शन की दर तय कर दी गई है अब यह दवा निजी हॉस्पिटल ों को 1800 रुपए में मिलेगी इसके लिए डॉक्टरों के लिखने पर दवा को स्वास्थ्य विभाग मौजूद कराएगा उन्होंने बताया कि गौतम बुद्ध नगर में अभी पर्याप्त मात्रा मे इंजेक्शन मौजूद है

पंचायत चुनाव के बाद ग्रामीण क्षेत्रों में संक्रमण तेजी से फैला है और कई लोगों की जान जा चुकी है स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों के अनुसार दनकौर, दादरी, जारचा, जेवर, बिलासपुर और रबूपुरा कस्बे में प्रतिदिन दो से चार लोगों की मृत्यु हो रही हैं चुनाव ड्यूटी में लगे कई लोग Covid-19 की चपेट में आए हैं

शुक्रवार को बेसिक एजुकेशन विभाग के दो प्रधान अध्यापकों की मृत्यु हो गई इनमें से एक ने पंचायत चुनाव के प्रशिक्षण में भाग लिया था संक्रमण के लक्षण दिखने के बाद उन्हें चुनाव ड्यूटी से दूर रखा गया था

भारतीय किसान यूनियन (लोक शक्ति) के अध्यक्ष मास्टर श्योराज सिंह ने बताया कि गांव तथा कस्बों में रहने वाले बहुत ज्यादा लोग शहरों में रोजगार कर रहे हैं ग्राम पंचायत के चुनाव के दौरान वोट डालने आए बहुत ज्यादा लोग संक्रमित थे और Covid-19 (Covid-19) नियमों की अनदेखी की वजह से ग्रामीण अंचल में कोविड-19 वायरस फैला

इस बीच कोविड-19 वायरस का प्रसार पहाड़ी प्रदेश के ग्रामीण इलाकों तक पहुंच चुका है देवभूमि उत्तराखंड (Uttarakhand) के मंत्री सुबोध उनियाल (Subodh Uniyal) के अनुसार कोविड-19 कर्फ्यू के बावजूद संक्रमण की गति और बिगड़े दशा पर काबू पाने के लिए प्रदेश सरकार 10 मई से और कड़े निर्णय लेने जा रही है  


गोरखपुर में रोहिन नदी खतरे के निशान से एक मीटर ऊपर, कैंपियरगंज क्षेत्र में लगाई गई नाव

गोरखपुर में रोहिन नदी खतरे के निशान से एक मीटर ऊपर, कैंपियरगंज क्षेत्र में लगाई गई नाव

जिले की नदियों का जलस्तर बढ़त पर है। रोहिन नदी खतरे के निशान से करीब एक मीटर ऊपर बह रही है। ऐसे में कैंपियरगंज तहसील क्षेत्र के दो गांवों में रास्ता बाधित होने के कारण नाव लगा दी गई है। तहसील क्षेत्र के ग्राम चंदीपुर एवं गुढ़ेली टोला कोमर में नाव लगाई गई है। लोग अपने घर का जरूरी सामान लेकर बंधे की ओर भी जा रहे हैं। इधर राप्ती नदी का जलस्तर चेतावनी स्तर के करीब पहुंच गया है यानी खतरे के बिन्दु से लगभग एक मीटर नीचे राप्ती बह रही है और जलस्तर में वृद्धि जारी है। सरयू नदी भी अयोध्या पुल के पास चेतावनी स्तर के करीब है। आने वाले 24 से 48 घंटों में यहां भी जलस्तर में और बढ़ोत्तरी देखने को मिल सकती है। जिला प्रशासन की ओर से जिले में एलर्ट जारी कर दिया गया है। सभी 86 बाढ़ चौकियों को सक्रिय कर दिया गया है। बाढ़ पीडि़तों में राशन सामग्री एवं कोरोना से बचाव का किट बांटने के लिए टेंडर भी खोला जाएगा।

सभी बांधों के निरीक्षण के लिए टीम ग‍ठित

नदियों का जलस्तर बढऩे के साथ ही वरिष्ठ अधिकारियों की ओर से मानीटरिंग की जा रही है। सभी क्षेत्र में बंधों का निरीक्षण करने के लिए टीमों को लगाया गया है। सदर तहसील क्षेत्र में कुछ स्थानों पर रैट होल मिले। यहां कुछ दिन पहले ही बंधे के गैप को बोरे से भरा गया था लेकिन शुक्रवार को एक बार फिर वहां मिट्टी धंसने लगी। ङ्क्षसचाई विभाग के अधिकारियों को इस बात की जानकारी देकर बंधे को दुरुस्त करने को कहा गया है। जिले की सभी बाढ़ चौकियों पर जरूरी सामान उपलब्ध कराकर वहां बैनर लगाने व बैनर पर चौकी प्रभारी सहित सभी कर्मियों के नाम, पदनाम व मोबाइल नंबर दर्ज करने को कहा गया है। जिला आपदा विशेषज्ञ गौतम गुप्ता ने बताया कि नदियों का जलस्तर धीरे-धीरे बढ़ रहा है। रोहिन नदी का जलस्तर खतरे के निशान से ऊपर है, दो स्थानों पर जरूरत थी, इसलिए नाव लगा दी गई है। बाढ़ पीडि़तों के लिए खाद्य सामग्री भी कल जुटा ली जाएगी।

मंडलायुक्त रवि कुमार एनजी शनिवार को देवरिया जाएंगे और वहां बाढ़ बचाव तथा टीकाकरण कार्य की समीक्षा करेंगे। रविवार को गोरखपुर में सिंचाई विभाग के मुख्य अभियंता एवं अपर जिलाधिकारियों के साथ बैठक कर स्थिति का जायजा लेंगे और लोगों की सहायता के लिए जरूरी दिशा-निर्देश देंगे।