भाजपा की चुनावी रणनीति बनाने आएंगे डिप्टी सीएम, ये है रणनीति

भाजपा की चुनावी रणनीति बनाने आएंगे डिप्टी सीएम, ये है रणनीति

भाजपा चुनाव की तैयारी में सरगर्मियों से जुट गई है। 25 नवंबर को जेवर में पीएम मोदी की विशाल रैली है। इसके दूसरे ही दिन जिले में डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य का कार्यक्रम है। वह 26 नवंबर को अलीगढ़ आ रहे हैं। जिला और विधानसभा क्षेत्र चुनाव संचालन समिति के सदस्यों के साथ बैठक करें। बैठक में अलीगढ़ मंडल के अलीगढ़, हाथरस, एटा और कासगंज के प्रतिनिधियों को बुलाया गया है। मंडल के चारों जिलों में चुनाव की तैयारियों का जायजा लेंगे और चुनावी रणनीति भी बनाएंगे।


रैली से हो रही शुरूआत

भाजपा में आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर रैली और सम्मेलनों की शुरुआत हो गई है। हालांकि, पार्टी ने अभी तूफानी चुनावी रैलियां तो नहीं घोषित की है, मगर लगातार कार्यक्रम चचुनाव में हम सभी को प्रभावी बनाएगा।ल रहे हैं। प्रदेश के चार स्थानों से रथयात्रा भी निकाले जाने की तैयारी हो चुकी है। चुनाव की तैयारियों का जायजा लेने के लिए 26 नवंबर को डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य आ रहे हैं। वो आगरा से सड़क मार्ग से होते हुए पूर्वाहृन 11 बजे अलीगढ़ पहुंचेंगे। आगरा रोड स्थित ग्रीन व्यू रिसोर्ट में बैठक करेंगे। इसमें चारों जिलों के जिला और विधानसभा चुनाव संचालन समिति के सदस्य होंगे। एक विधानसभा क्षेत्र में 17 के करीब संचालन समिति में सदस्य शामिल किए गए हैं। जिले में भी 17 के करीब संचालन समिति के सदस्य होंगे। करीब 17 विधानसभा क्षेत्रों के प्रतिनिधि शामिल होंगे। डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य चुनावी तैयारी की टोह भी ले सकते हैं। साथ ही चुनाव में किन बातों का ध्यान रखना है? किसानों के बीच कैसे पैठ बनानी है? केंद्र और प्रदेश सरकार की योजनाओं को जन-जन तक पहुंचाना इसके बारे में भी जानकारी दे सकते हैं। भाजपा महानगर अध्यक्ष डा. विवेक सारस्वत ने बताया कि बैठक की तैयारी पूरी कर ली गई है। डिप्टी सीएम का भव्य स्वागत किया जाएगा। चुनाव के निकट उनका पाथेय हम सभी को ऊर्जा से भरने वाला होगा।


Makar Sankranti 2022: बाजारों में पंजाबी चिक्की, रामदाना समेत इन चीजों की बढ़ी डिमांड

Makar Sankranti 2022: बाजारों में पंजाबी चिक्की, रामदाना समेत इन चीजों की बढ़ी डिमांड

मकर संक्रांति पर्व को लेकर थोक और फुटकर बाजारों में ग्राहकों की रौनक रही। गजक, तिल के लड्डू, पंजाबी चिक्की, रामदाना समेत गुड़ और शक्कर के बने उत्पादों की अच्छी बिक्री हुई।

नया चावल और उड़द-मूंग की दाल भी खूब बिकी। हालांकि, बाजार में महंगाई की मार भी दिखी। सोशल डिस्टेंसिंग धड़ाम रही, तमाम ग्राहक मास्क तक नहीं लगाए थे। 

कानपुर नमकीन, बेकरी, गजक, पेठा एसोसिएशन के अध्यक्ष निर्मल त्रिपाठी ने बताया कि पिछले साल की तुलना में गुड़ और शक्कर के दाम बढ़े हैं। पिछले साल की तुलना में करीब 10-15 फीसदी दाम तेज हैं। गुड़ की गजक 240 रुपये किलो बिकी। गुड़ रोल और पंजाबी चिक्की का भाव 260 रुपये किलो रहा।

काले तिल का लड्डू 280 और सफेद तिल का लड्डू 260 रुपये किलो में बिका। बाजार में ग्राहकों की पसंद को देखते हुए चॉकलेट, खोवा, मेवा गजक भी हैं। इसके दाम अलग-अलग क्वालिटी के अनुसार 400 से 600 रुपये किलो तक है। महामंत्री शंकर लाल मतानी ने बताया कि बाजार में अच्छी संख्या में ग्राहक थे।

दोनों प्रकार के तिल के लड्डू, रामदाना, लइया की भी अच्छी डिमांड देखने को मिली। चावल और दाल कारोबारी सचिन त्रिवेदी ने बताया कि खिचड़ी में नया चावल ही इस्तेमाल में आता है। इसके चलते चावल और दालों की अच्छी बिक्री हुई।