बदायूं में किशोर की अपहरण के बाद हत्या, बवाल,हमले में घायल थानेदार

बदायूं में किशोर की अपहरण के बाद हत्या, बवाल,हमले में घायल थानेदार

बदायूं में किडनैपिंग के बाद किशोर की मर्डर कर दी गई. शनिवार को मृत शरीर बरामद हुआ तो परिजनों समेत गांव वाले आपा खो बैठे. मौके पर पहुंची पुलिस टीम पर भीड़ हमलावर हो गई और थानेदार समेत सिपाहियों को जमकर पीटा गया. हमले में थानेदार और एक सिपाही गंभीर रूप से घायल हुए हैं. मुद्दे की जानकारी पर SP देहात सिद्धार्थ वर्मा आसपास के थानों का फोर्स लेकर मौके पर रवाना हुए हैं.

भीड़ के चंगुल से भागता सिपाही

घटना वजीरगंज थाना क्षेत्र के गांव पेपल की है. यहां रहने वाले जयपाल का बेटा सुखवीर (17) 24 जुलाई को लापता हो गया था. तीन दिन तलाशने के बाद कोई सुराग नहीं लगा तो 27 जुलाई को वजीरगंज थाना पुलिस ने उसकी गुमशुदगी दर्ज कर ली. इसके दूसरे दिन सुखवीर के भाई सुनील कुमार ने किडनैपिंग की संभावना जताते हुए पास के गांव बरखेड़ा निवासी कोमिल समेत उसकी पत्नी सुखदेई, रामपाल और कल्लू पर किडनैपिंग की संभावना जताई तो केस किडनैपिंग की धाराओं में तरमीम कर लिया गया.

गुस्साए भीड़

पुलिस को पीटती गुस्साए भीड़

दिल्ली में लोकेशन का दिया बयान
31 जुलाई को पुलिस ने दावा किया कि किशोर की लोकेशन दिल्ली में मिली है. परिजन पुलिस को लेकर दिल्ली गए लेकिन बताए गए जगह पर उसका कोई सुराग नहीं लगा और थक-हारकर टीम लौट आई. वहीं आरोपियों को हिरासत में लेकर पूछताछ भी की गई लेकिन पुलिस उनसे राज नहीं उगलवा सकी.

हमले में घायल सिपाही को सीएचसी लाया गया

अब मृत शरीर मिली तो बिफरे परिजन
शनिवार सुबह तकरीबन 10 बजे किशोर की मृत शरीर खेतिहर क्षेत्र में मिली. बताया जाता है कि धारदार हथियार से प्रहार कर उसकी मर्डर की गई है. पुलिस मौके पर पहुंची और मृत शरीर कब्जे में लेना चाहा. इधर, परिजन पुलिस को देख आपा खो बैठे. परिजनों समेत गांव वालों का बोलना था कि पुलिस यदि मुद्दे को गंभीरता से लेती तो किशोर की जान बच जाती.
दौड़ाकर कूटी गई खाकी
आक्रोशित भीड़ ने पुलिस टीम को घेरा और पिटाई प्रारम्भ कर दी. थानाध्यक्ष महेश सिंह समेत सिपाहियों को दौड़ाकर पीटना प्रारम्भ किया तो पुलिस ने वहां से दौड़ लगा दी लेकिन भीड़ ने एसओ समेत सिपाही को जमकर पीटा. इस हमले में दोनों गंभीर रूप से घायल हुए हैं. बाकी के पुलिसवालों को भी चोट लगी है.