यूपी के 42 जिलों में कोरोना का अब एक भी मरीज नहीं, सिर्फ पांच जिलों में मिले सात नए संक्रम‍ित

यूपी के 42 जिलों में कोरोना का अब एक भी मरीज नहीं, सिर्फ पांच जिलों में मिले सात नए संक्रम‍ित

बीते 24 घंटे में 1.38 लाख लोगों की कोरोना जांच में सात नए रोगी मिले। यह रोगी पांच जिलों में मिले हैं। इसमें गौतमबुद्ध नगर व प्रयागराज में दो-दो और बलरामपुर, बस्ती व गाजीपुर में एक-एक मरीज मिला है। प्रदेश में 42 जिले अब संक्रमण मुक्त हो चुके हैं। इन जिलों में कोरोना का एक भी मरीज नहीं है। उधर 10 मरीज स्वस्थ हुए हैं। ऐसे में अब सक्रिय केस घटकर 102 रह गए हैं। सक्रिय केस के मामले में यूपी देश में 28 वें पायदान पर है।


मंगलवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उच्च स्तरीय बैठक में कहा कि कोरोना संक्रमितों के संपर्क में आने वालों की बेहतर ढंग से पहचान, अधिक से अधिक टेस्टिंग और तेज गति से किए जा रहे टीकाकरण का यह परिणाम है कि अब कोरोना नियंत्रण में है। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि कोरोना संक्रमण बढ़ने से रोकने के लिए सभी जरूरी उपाए सख्ती के साथ किए जाएं। लोगों को मास्क लगाने व दो गज की शारीरिक दूरी के नियम का पालन करने के लिए जागरूक करें। सबसे ज्यादा 79266 सक्रिय केस केरल में हैं। दूसरे नंबर पर महाराष्ट्र में 16658 और तीसरे नंबर पर 11492 सक्रिय केस हैं।


जिन 42 जिलों में अब कोरोना का एक भी मरीज नहीं है उनमें आगरा, अलीगढ़, अमेठी, अमरोहा, औरैय्या, अयोध्या, बदायूं, बागपत, बलिया, बहराइच, भदोही, बिजनौर, बुलंदशहर, चंदौली, चित्रकूट, देवरिया, एटा, इटावा, गाजीपुर, गोंडा, हमीरपुर, हापुड़, हरदोई, हाथरस, जौनपुर, कानपुर देहात, कासगंज, कुशीनगर, महाराजगंज, महोबा, मैनपुरी, मीरजापुर, प्रतापगढ़, संत कबीर नगर, शामली, श्रावस्ती, सिद्धार्थ नगर, सीतापुर, सोनभद्र, सुलतानपुर, व उन्नाव शामिल हैं।


Makar Sankranti 2022: बाजारों में पंजाबी चिक्की, रामदाना समेत इन चीजों की बढ़ी डिमांड

Makar Sankranti 2022: बाजारों में पंजाबी चिक्की, रामदाना समेत इन चीजों की बढ़ी डिमांड

मकर संक्रांति पर्व को लेकर थोक और फुटकर बाजारों में ग्राहकों की रौनक रही। गजक, तिल के लड्डू, पंजाबी चिक्की, रामदाना समेत गुड़ और शक्कर के बने उत्पादों की अच्छी बिक्री हुई।

नया चावल और उड़द-मूंग की दाल भी खूब बिकी। हालांकि, बाजार में महंगाई की मार भी दिखी। सोशल डिस्टेंसिंग धड़ाम रही, तमाम ग्राहक मास्क तक नहीं लगाए थे। 

कानपुर नमकीन, बेकरी, गजक, पेठा एसोसिएशन के अध्यक्ष निर्मल त्रिपाठी ने बताया कि पिछले साल की तुलना में गुड़ और शक्कर के दाम बढ़े हैं। पिछले साल की तुलना में करीब 10-15 फीसदी दाम तेज हैं। गुड़ की गजक 240 रुपये किलो बिकी। गुड़ रोल और पंजाबी चिक्की का भाव 260 रुपये किलो रहा।

काले तिल का लड्डू 280 और सफेद तिल का लड्डू 260 रुपये किलो में बिका। बाजार में ग्राहकों की पसंद को देखते हुए चॉकलेट, खोवा, मेवा गजक भी हैं। इसके दाम अलग-अलग क्वालिटी के अनुसार 400 से 600 रुपये किलो तक है। महामंत्री शंकर लाल मतानी ने बताया कि बाजार में अच्छी संख्या में ग्राहक थे।

दोनों प्रकार के तिल के लड्डू, रामदाना, लइया की भी अच्छी डिमांड देखने को मिली। चावल और दाल कारोबारी सचिन त्रिवेदी ने बताया कि खिचड़ी में नया चावल ही इस्तेमाल में आता है। इसके चलते चावल और दालों की अच्छी बिक्री हुई।