अमित शाह के JAM का अखिलेश यादव ने दिया जवाब, बोले...

अमित शाह के JAM का अखिलेश यादव ने दिया जवाब, बोले...

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की कर्मस्थली गोरखपुर से समाजवादी विजय रथ यात्रा लेकर रविवार को कुशीनगर पहुंचे समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भाजपा के जेएएम का करारा जवाब दिया है। केन्द्र सरकार में गृह मंत्री अमित शाह ने रविवार को सपा मुखिया अखिलेश यादव के संसदीय क्षेत्र आजमगढ़ में उनके ऊपर हमला बोला था, जिसका आज अखिलेश यादव ने जवाब दिया है।

कुशीनगर में समाजवादी पार्टी की विजय रथ यात्रा लेकर पहुंचे अखिलेश यादव ने प्रेस कॉन्प्रेंस में कहा कि सपा भाजपा के लिए जेएएम लेकर आई है। उन्होंने कहा कि भाजपा जे से झूठ, ए से अहंकार तथा एम महंगाई को लेकर चर्चा में है। इसी कारण अब वह जनता को गुमराह करने में लगे हैं। उन्होंने कहा कि है हम भाजपा की अब कोई भी चाल सफल नहीं होने देंगे। सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि बीजेपी को अपने जेएएम का जनता को जवाब देना होगा।


अखिलेश यादव ने कहा कि सपा को जनता का भरपूर समर्थन मिल रहा है। हर वर्ग के लोग समर्थन दे रहे हैं। यह तो तय है कि 2022 में बदलाव होगा। प्रदेश की जनता 2022 में जनता बदलाव चाहती है। इस सरकार ने महंगाई बढ़ाई है।

अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा उन कानूनों को लागू करना चाहती है जिससे खेती छीन जायेगी। इन कानूनों के विरोध में कई किसानों की जान गई लेकिन भाजपा को कोई परवाह नहीं है। हमारी पार्टी का कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन जारी है। हम उन किसानों के समर्थन में हैं जो किसान लगातार आंदोलन कर रहे हैं। उत्तर प्रदेश में किसान को टायर से कुचल दिया गया।


कृषि कानूनों के विरोध में कई किसानों की जान चली गई। सरकार परेशान नहीं है। जिस तरह से सरकार ने यूपी में किसानों के विरोध को कुचलने की कोशिश की, वह दुखद है। मंत्री के बेटे पर गंभीर आरोप है। क्या आप अपनी जीप से अन्नदाता को कुचल सकते हैं। किसानों को कुचल दिया गया। उसके बाद वे कानूनों को कुचल रहे थे। अगर उन्हें दोबारा मौका दिया गया तो यह लोग संविधान को भी कुचल सकते हैं। किसान मायूस हैं, उनकी आमदनी दोगुनी नहीं बल्कि महंगाई बढ़ी है।


अखिलेश यादव ने कहा कि गरीबों की जेब काटी जा रही है। सरकार तो अमीरों की जेब भर रही है। यूपी में कितना निवेश आया कम से कम जनता को सरकार तो यह बता दे। सरकारी संस्थाएं बिक रहे हैं। हम बैकवर्ड होने के बाद भी सोच से अगड़े हैं। 


Makar Sankranti 2022: बाजारों में पंजाबी चिक्की, रामदाना समेत इन चीजों की बढ़ी डिमांड

Makar Sankranti 2022: बाजारों में पंजाबी चिक्की, रामदाना समेत इन चीजों की बढ़ी डिमांड

मकर संक्रांति पर्व को लेकर थोक और फुटकर बाजारों में ग्राहकों की रौनक रही। गजक, तिल के लड्डू, पंजाबी चिक्की, रामदाना समेत गुड़ और शक्कर के बने उत्पादों की अच्छी बिक्री हुई।

नया चावल और उड़द-मूंग की दाल भी खूब बिकी। हालांकि, बाजार में महंगाई की मार भी दिखी। सोशल डिस्टेंसिंग धड़ाम रही, तमाम ग्राहक मास्क तक नहीं लगाए थे। 

कानपुर नमकीन, बेकरी, गजक, पेठा एसोसिएशन के अध्यक्ष निर्मल त्रिपाठी ने बताया कि पिछले साल की तुलना में गुड़ और शक्कर के दाम बढ़े हैं। पिछले साल की तुलना में करीब 10-15 फीसदी दाम तेज हैं। गुड़ की गजक 240 रुपये किलो बिकी। गुड़ रोल और पंजाबी चिक्की का भाव 260 रुपये किलो रहा।

काले तिल का लड्डू 280 और सफेद तिल का लड्डू 260 रुपये किलो में बिका। बाजार में ग्राहकों की पसंद को देखते हुए चॉकलेट, खोवा, मेवा गजक भी हैं। इसके दाम अलग-अलग क्वालिटी के अनुसार 400 से 600 रुपये किलो तक है। महामंत्री शंकर लाल मतानी ने बताया कि बाजार में अच्छी संख्या में ग्राहक थे।

दोनों प्रकार के तिल के लड्डू, रामदाना, लइया की भी अच्छी डिमांड देखने को मिली। चावल और दाल कारोबारी सचिन त्रिवेदी ने बताया कि खिचड़ी में नया चावल ही इस्तेमाल में आता है। इसके चलते चावल और दालों की अच्छी बिक्री हुई।