समाजवादी पार्टी के अखिलेश यादव विजय रथ यात्रा से बेहद उत्साहित, बोले...

समाजवादी पार्टी के अखिलेश यादव विजय रथ यात्रा से बेहद उत्साहित, बोले...

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव प्रदेश में समाजवादी पार्टी की विजय रथ यात्रा से बेहद उत्साहित हैं। गाजीपुर से पूर्वांचल एक्सप्रेस से लखनऊ वापसी करने वाले सपा मुखिया को भरोसा है कि 2022 में उत्तर प्रदेश की जनता भाजपा को सत्ता से बाहर कर देगी।

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव का दावा है कि उत्तर प्रदेश की नई विधानसभा में भाजपा की सीट खाली रहेंगी। अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा की रैलियों में खाली सीटें बता रही हैं कि 2022 के चुनाव के बाद उत्तर प्रदेश की नयी विधानसभा में भी भाजपा की सीटें खाली रहेंगी।


समाजवादी पार्टी के सुप्रीमो अखिलेश यादव ने गाजीपुर से लखनऊ तक विजय रथ यात्रा पूरी करने के बाद गुरुवार को कहा कि लोगों का उत्साह बता रहा है कि उत्तर प्रदेश की नई विधानसभा में बीजेपी की सीटें खाली रहेंगी। अखिलेश यादव ने एक ट्वीट किया गाजीपुर से लखनऊ तक उमड़ी जनता के जोश ने दिखा दिया है कि सपा एवं अन्य सहयोगियों की रैली में आये हुए तथा भाजपा की ठंडी रैली में लाए गये लोगों में क्या अंतर है। भाजपा की अब तक की सभी रैलियों में खाली सीटें बता रही हैं कि 2022 के चुनाव के बाद उत्तर प्रदेश की नयी विधानसभा में भी भाजपा की सीटें खाली रहेंगी।


अखिलेश यादव की समाजवादी पार्टी विजय रथ यात्रा बुधवार को दोपहर करीब 12:30 बजे गाजीपुर से शुरू होने के बाद करीब 350 किलोमीटर की दूरी तय करके गुरुवार को तड़के 4:40 बजे लखनऊ पहुंची। पूर्वांचल एक्सप्रेस वे पर समाजवादी पार्टी के समर्थकों की भारी भीड़ यात्रा के स्वागत के लिये रात भर खड़ी रही। यात्रा के इस चौथे चरण के दौरान अखिलेश यादव के साथ सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर और जनवादी पार्टी के संजय चौहान मौजूद थे। विजय रथ यात्रा पिछले महीने कानपुर से बुंदेलखंड क्षेत्र तक शुरू की गई थी। इसके बाद लखनऊ से हरदोई और उसके बाद फिर गोरखपुर से कुशीनगर गई। 


Makar Sankranti 2022: बाजारों में पंजाबी चिक्की, रामदाना समेत इन चीजों की बढ़ी डिमांड

Makar Sankranti 2022: बाजारों में पंजाबी चिक्की, रामदाना समेत इन चीजों की बढ़ी डिमांड

मकर संक्रांति पर्व को लेकर थोक और फुटकर बाजारों में ग्राहकों की रौनक रही। गजक, तिल के लड्डू, पंजाबी चिक्की, रामदाना समेत गुड़ और शक्कर के बने उत्पादों की अच्छी बिक्री हुई।

नया चावल और उड़द-मूंग की दाल भी खूब बिकी। हालांकि, बाजार में महंगाई की मार भी दिखी। सोशल डिस्टेंसिंग धड़ाम रही, तमाम ग्राहक मास्क तक नहीं लगाए थे। 

कानपुर नमकीन, बेकरी, गजक, पेठा एसोसिएशन के अध्यक्ष निर्मल त्रिपाठी ने बताया कि पिछले साल की तुलना में गुड़ और शक्कर के दाम बढ़े हैं। पिछले साल की तुलना में करीब 10-15 फीसदी दाम तेज हैं। गुड़ की गजक 240 रुपये किलो बिकी। गुड़ रोल और पंजाबी चिक्की का भाव 260 रुपये किलो रहा।

काले तिल का लड्डू 280 और सफेद तिल का लड्डू 260 रुपये किलो में बिका। बाजार में ग्राहकों की पसंद को देखते हुए चॉकलेट, खोवा, मेवा गजक भी हैं। इसके दाम अलग-अलग क्वालिटी के अनुसार 400 से 600 रुपये किलो तक है। महामंत्री शंकर लाल मतानी ने बताया कि बाजार में अच्छी संख्या में ग्राहक थे।

दोनों प्रकार के तिल के लड्डू, रामदाना, लइया की भी अच्छी डिमांड देखने को मिली। चावल और दाल कारोबारी सचिन त्रिवेदी ने बताया कि खिचड़ी में नया चावल ही इस्तेमाल में आता है। इसके चलते चावल और दालों की अच्छी बिक्री हुई।