कामयाबी: सीमा ने टोक्यो ओलंपिक के लिए क्वालीफाई किया

कामयाबी: सीमा ने टोक्यो ओलंपिक के लिए क्वालीफाई किया

सीमा बिस्ला टोक्यो ओलंपिक के लिये क्वालीफाई करने वाली हिंदुस्तान की चौथी महिला पहलवान बन गई जिसने विश्व ओलंपिक क्वालीफायर के 50 किलोवर्ग के फाइनल में स्थान बनाई जबकि सुमित मलिक को घुटने की चोट के कारण फाइनल से पीछे हटकर रजत पदक से ही संतोष करना पड़ा 

सीमा ने यूरोपीय चैम्पियनशिप की कांस्य पदक विजेता पोलैंड की अन्ना लुकासियाक को 2 . 1 से हराकर फाइनल में स्थान बनाई  अब वह इक्वाडोर की लूसिया यामिलेथ येपेज गुजमैन से खेलेगी  हिंदुस्तान की विनेश (53 किलो) , अंशु मलिक (57 किलो) और सोनम मलिक (62 किलो) ओलंपिक के लिये क्वालीफाई कर चुकी हैं.

हिंदुस्तान की निशा 68 किलो और पूजा 76 किलोवर्ग में हारकर बाहर हो गई हैं  वहीं पुरूष वर्ग में मलिक 125 किलोवर्ग के फाइनल में नहीं उतरे  उनके कोच जगमंदर सिंह ने बताया कि कुछ हफ्ते पहले राष्ट्रीय शिविर में एक्सरसाइज के दौरान उन्हें दाहिने घुटने में चोट लगी थी लेकिन वह ओलंपिक कोटा हासिल करने के लिये खेल रहे थे 

इससे पहले हाल ही में अलमाटी में एशियाई चैम्पियनशिप में कांस्य पदक जीतने वाली सीमा ने बेलारूस की अनास्तासिया यानोतावा को 8 . 0 से हराया  उसने स्वीडन की एम्मा जोन्ना डेनाइस को 43 सेकंड बाकी रहते मात दी 

निशा (68 किलो) को क्वार्टर फाइनल में बुल्गारिया की मिमि रिस्तोवा ने तकनीकी कौशल के आधार पर हराया  निशा ने पहले दौर में पोलैंड की नतालिया इवोना को मात दी थी  वहीं पूजा 76 किलो वर्ग में लिथुआनिया की कामिले जी से 3 . 4 से हार गई .


17 साल की भारतीय बल्लेबाज ने वो कर दिखाया, जो महिला टेस्ट क्रिकेट में अब तक नहीं हुआ

17 साल की भारतीय बल्लेबाज ने वो कर दिखाया, जो महिला टेस्ट क्रिकेट में अब तक नहीं हुआ

 लंबे समय के बाद भारतीय महिला क्रिकेट टीम को टेस्ट क्रिकेट खेलने का मौका मिला है। इंग्लैंड के खिलाफ ब्रिस्टल में खेले जा रहे इस टेस्ट मैच में भले ही भारतीय टीम की हालत सही नहीं है, लेकिन एक 17 साल की खिलाड़ी ने वो कर दिखाया है, जो महिला टेस्ट क्रिकेट के इतिहास में आज तक नहीं हुआ। इतना ही नहीं, 17 साल की ये खिलाड़ी अपना पहला ही टेस्ट मैच खेल रही थी।

दरअसल, हम बात कर रहे हैं लेडी सहवाग के नाम से फेमस हो चुकीं शेफाली वर्मा की, जिन्होंने एक टेस्ट मैच में सबसे ज्यादा छक्के जड़ने का रिकॉर्ड बनाया है। हालांकि, उन्होंने कोई छक्कों की झड़ी नहीं लगाई है, लेकिन उन्होंने दोनों पारियों में मिलाकर तीन छक्के जड़े, जो कि महिला टेस्ट क्रिकेट में एक विश्व रिकॉर्ड है। एक मैच में अभी तक सिर्फ 1 या 2 छक्के ही खिलाड़ी जड़ पाते थे, लेकिन शेफाली वर्मा ने एक ही मैच में तीन छक्के जड़कर रिकॉर्ड बनाया है।


दाएं हाथ की बल्लेबाज शेफाली वर्मा ने इंग्लैंड के खिलाफ पहली पारी में 2 छक्के जड़े, जबकि दूसरी पारी में उन्होंने एक छक्का जड़ा। पहली पारी में उन्होंने 96 रन बनाए थे, जबकि दूसरी पारी में उन्होंने 63 रन बनाए। हैरान करने वाली बात ये रही कि इनमें से 50 रन उन्होंने चौके-छक्कों से बटोरे। शेफाली ने मेजबान टीम के खिलाफ 11 चौके और एक छक्का जड़ा। वहीं, पहली पारी में उन्होंने 13 चौके और 2 छक्के जड़े थे।

बात अगर इस मुकाबले की करें तो मेजबान इंग्लिश टीम ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 121.2 ओवर में 9 विकेट खोकर 396 रन बनाए। इसके जवाब में भारतीय टीम अपनी पहली पारी में 231 रन बनाकर ढेर हो गई। ऐसे में भारतीय टीम को फॉलोऑन खेलना पड़ा और दूसरी पारी में भी भारतीय टीम ने खबर लिखे जाने तक 35 ओवर में 2 विकेट खोकर 112 रन बना लिए हैं। भारत अभी भी 53 रनों से पिछड़ा हुआ है और मैच का चौथा दिन है।