भारतीय टेस्ट क्रिकेट में इतिहास रचने वाले श्रेयस अय्यर ने बताया

भारतीय टेस्ट क्रिकेट में इतिहास रचने वाले श्रेयस अय्यर ने बताया

श्रेयस अय्यर ने कानपुर टेस्ट मैच की पहली पारी में शतक और दूसरी पारी में अर्धशतक लगाया। श्रेयस ने दोनों पारियो में काफी अहम मौके पर टीम के लिए ये पारी खेली और भारतीय इनिंग को संभालने का काम बखूबी किया। उन्होंने पारी में 105 रन बनाए थे जबकि दूसरी पारी में अहम 65 रन बनाए। अपनी पारी के बारे में उन्होंने चौथे दिन का खेल खत्म होने के बाद कहा कि मैं इस तरह की परिस्थिति को रणजी ट्राफी मैच खेलते वक्त देख चुका हूं और ये मेरे लिए कोई नहीं बात नहीं थी। मेरा माइंडसेट ये था कि मैं जितना संभव हो सके ज्यादा से ज्यादा गेंदें खेलूं और सेशन दर सेशन खेल को आगे बढ़ाऊं। 


श्रेयस ने आगे कहा कि मैं अपनी पारी के दौरान ज्यादा आगे की तरफ नहीं देख रहा था और सिर्फ मौजूदा परिस्थिति पर ध्यान केंद्रित कर रहा था। श्रेयस भारत की तरफ से डेब्यू टेस्ट क्रिकेट की पहली पारी में शतक और दूसरी पारी में अर्धशतक लगाने वाले पहले भारतीय बल्लेबाज बने और एक नया इतिहास कायम किया। इसके बारे में जब उनसे पूछा गया तो उन्होंने कहा कि मुझे इसकी जानकारी है। जब मैं दूसरी पारी में बल्लेबाजी करने के बाद वापस आया तब कई साथी खिलाड़ियों ने मुझे इसकी जानकारी दी। हां, दूसरी टीमों के खिलाड़ी ऐसा कर चुके हैं, लेकिन मुझसे कहा गया कि भारत के लिए ऐसा करने वाला मैं पहला बल्लेबाज हूं। ये काफी अच्छा अनुभव है, लेकिन ज्यादा महत्वपूर्ण मैच जीतना है। 

श्रेयस अय्यर ने कहा कि राहुल सर ने मुझे कहा कि जितनी देर तक हो सके उतनी देर तक रक्षात्मक तरीके से बल्लेबाजी करो और मैं ये करने के लिए तत्पर था। हमें ऐसा लगा था कि कुल 250 रन की बढ़त काफी अच्छी होगी और हमें खुशी है कि हम जैसा चाहते थे वैसा ही हुआ। हालांकि मैच के चौथे दिन विकेट पर कुछ खास नहीं हो रहा था और गेंद भी थोड़ी नीचे रह रही थी। हमारा लक्ष्य फाइटिंग टोटल तक पहुंचना था और मुझे लगता है कि ये काफी अच्छा टोटल है। हमारे पास बेहतरीन स्पिन गेंदबाज हैं ऐसे में खेल के पांचवें दिन हमें जीत की उम्मीद है। 


गोलकीपर सविता मिली सकती है कप्तानी, चीन को मिला पेनाल्टी शूटआउट

गोलकीपर सविता मिली  सकती है कप्तानी,  चीन को मिला  पेनाल्टी शूटआउट

विस्तार अनुभवी गोलकीपर सविता पूनिया मस्कट में 21 से 28 जनवरी तक होने वाले महिला एशिया कप हॉकी टूर्नामेंट में भारत की 18 सदस्यीय टीम की अगुवाई करेंगी। अनुभवी दीप ग्रेस एक्का को उप कप्तान नियुक्त किया गया है।  '


हॉकी इंडिया की ओर से बुधवार को घोषित 18 सदस्यीय टीम में 16 टोक्यो ओलंपिक में भाग लेने वाली खिलाड़ी शामिल हैं। नियमित कप्तान रानी रामपाल बेंगलुरु में चोट से उबर रही हैं। इसलिए उन्हें टीम में शामिल नहीं किया गया है। भारत को जापान, मलयेशिया और सिंगापुर के साथ पूल ए में रखा गया है। 

भारतीय टीम अपने खिताब के बचाव का अभियान टूर्नामेंट के पहले दिन मलयेशिया के खिलाफ करेगी। प्रतियोगिता में शीर्ष चार में रहने वाली टीमें स्पेन और नीदरलैंड में होने वाले विश्व कप 2022 के लिए क्वालिफाई करेंगी।

21 से 28 जनवरी तक मस्कट में खेला जाएगा महिलाओं का यह टूर्नामेंट। 18 सदस्यीय टीम में चोट के चलते रानी को नहीं किया गया शामिल। 21 को मलयेशिया के खिलाफ अभियान का आगाज करेगी भारतीय टीम। दो बार भारतीय टीम ने अब (2004, 2017) तक जीती है ट्रॉफी। 2017 में हुए पिछले संस्करण में भारत ने चीन को पेनाल्टी शूटआउट में 5-4 से हराकर जीता था खिताब।

टीम 
गोलकीपर: सविता पूनिया (कप्तान), रजनी एतिमारपू। 
डिफेंडर: दीप ग्रेस एक्का (उप कप्तान), गुरजीत कौर, निक्की प्रधान, उदिता। 
मिडफील्डर: निशा, सुशीला चानू, मोनिका, नेहा, सलीमा टेटे, ज्योति, नवजोत कौर। 
फॉरवर्ड: नवनीत कौर, लालरेम्सियामी, वंदना कटारिया, मारियाना कुजूर, शर्मिला देवी।

भारत का कार्यक्रम
vs मलयेशिया 21 जनवरी
vs जापान 23 जनवरी
vs सिंगापुर 24 जनवरी
सेमीफाइनल 26 जनवरी
फाइनल 28 जनवरी