IPL 2021 पार्ट-टू के लिए हिंदी व इंग्लिश कमेंटेटर्स के नाम का एलान, संजय मांजरेकर को नहीं मिली जगह

IPL 2021 पार्ट-टू के लिए हिंदी व इंग्लिश कमेंटेटर्स के नाम का एलान, संजय मांजरेकर को नहीं मिली जगह

आइपीएल 2021 पार्ट-टू के लिए हिंदी व इंग्लिश कमेंटेटर का एलान कर दिया गया है। अब क्रिकेट फैंस लाइव मैच का लुत्फ इन कमेंटेटर्स की आवाज के साथ उठा पाएंगे। हिंदी कमेंटेटर्स की बात करें तो उस पैनल में गौतम गंभीर, इरफान पठान, आकाश चोपड़ा, पार्थिव पटेल, किरण मोरे व निखिल चोपड़ा जैसे नाम शामिल हैं तो वहीं इंग्लिश कमेंट्री पैनल में सुनील गावस्कर, हर्षा भोगले, मुरली कार्तिक व केविन पीटरसन जैसे दिग्गज शामिल हैं। आइपीएल कमेंट्री पैनल में संजय मांजरेकर को शामिल नहीं किया गया। आइपीएल 2021 की शुरुआत 19 सितंबर से होगी जबकि इसका फाइनल मुकाबला 15 अक्टूबर को खेला जाएगा। 

आइपीएल के 14वें सीजन के दूसरे हिस्से के लिए हिंदी कमेंट्री पैनल में कुल 9 कमेंटेटर्स को शामिल किया गया है तो वहीं इंग्लिश पैनल में कुल 14 कमेंटेटर्स शामिल हैं। इंग्लिश कमेंट्री पैनल में भारत के छह, इंग्लैंड के तीन, न्यूजीलैंड के दो जबकि आस्ट्रेलिया, वेस्टइंडीज व जिम्बाब्वे के एक-एक कमेंटेटर शामिल हैं। आइपीएल 2021 के यूएई लेग में कुल 31 मुकाबले खेले जाएंगे। इससे पहले इस लीग के 29 मैच भारत में खेले जा चुके हैं। भारत में इन मैचों के आयोजन के बाद कोविड-19 महामारी के बढ़ते प्रकोप की वजह से लीग को 4 मई को स्थगित कर दिया गया था। बाद में फिर बीसीसीआइ ने इसे यूएई में आयोजित करवाने की योजना बनाई थी। आइपीएएल 2021 के आयोजन के ठीक बाद टी20 वर्ल्ड कप 2021 का आयोजन भी किया जाएगा। 


आइपीएल 2021 पार्ट-टू के लिए हिंदी कमेंट्री पैनल-

आकाश चोपड़ा, इरफान पठान, गौतम गंभीर, पार्थिव पटेल, निखिल चोपड़ा, तान्या पुरोहित, किरण मोरे, जतिन सप्रू और सुरेन सुंदरम।

आइपीएल 2021 पार्ट-टू के लिए इंग्लिश कमेंट्री पैनल-

सुनील गावस्कर, एल शिवरामाकृष्णन, मुरली कार्तिक, हर्षा भोगले, दीप दासपुग्ता, अंजुम चोपड़ा, केविन पीटरसन, डैनी मॉरिसन, साइमन डूल, पौमी म्बांग्वा, निकोलस नाइट, इयान बिशप, मैथ्यू हेडन और एलन विकलिंस।


एशेज से नाम वापस ले सकते हैं इंग्लैंड के शीर्ष खिलाड़ी, बोर्ड की फिर बढ़ी मुसीबत

एशेज से नाम वापस ले सकते हैं इंग्लैंड के शीर्ष खिलाड़ी, बोर्ड की फिर बढ़ी मुसीबत

हाल ही में मैनचेस्टर टेस्ट रद होने का सदमा झेलने वाला इंग्लैंड एवं वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ईसीबी) अब एक नई मुसीबत में फंस गया है। ऐसी खबरें हैं कि इंग्लैंड के बड़े खिलाड़ी साल के अंत में होने वाली एशेज सीरीज से नाम वापस ले सकते हैं। ईसीबी में टीम और अधिकारियों के बीच बातचीत के बाद एशेज में इंग्लैंड की काफी कमजोर टीम के मैदान पर उतरने की संभावना बढ़ गई है।

एक रिपोर्ट के मुताबिक, इंग्लैंड के शीर्ष खिलाड़ी इस साल के अंत में आस्ट्रेलिया में होने वाली एशेज सीरीज का बहिष्कार कर सकते हैं, क्योंकि वे आस्ट्रेलिया के क्वारंटाइन के कड़े नियमों के कारण चार महीने तक होटल के कमरों तक सीमित नहीं रहना चाहते हैं। क्रिकइंफो के अनुसार, ईसीबी अब भी अपने शीर्ष खिलाड़ियों को भेजने पर अड़ा हुआ है और उसने सीरीज स्थगित करने में बारे में नहीं सोचा है। इससे सीनियर खिलाड़ी और सहयोगी स्टाफ नाराज है।


रिपोर्ट के अनुसार, "टीम और ईसीबी अधिकारियों के बीच बातचीत के बाद एशेज में इंग्लैंड की कमजोर टीम उतारने की संभावनाएं बढ़ गई हैं।" खिलाड़ी ईसीबी के रवैये से नाराज हैं, क्योंकि उसने दौरे को आंशिक या पूर्ण रूप से स्थगित करने की उनकी मांग को सिरे से नकार दिया है। रिपोर्ट में कहा गया है, "इसके परिणामस्वरूप वे अपने विकल्पों पर विचार कर रहे हैं, जिसमें समझा जा रहा है कि पूरी टीम का दौरे के बहिष्कार का सामूहिक निर्णय लेना भी शामिल है। इसमें कोचिंग और सहयोगी स्टाफ भी शामिल हैं।" अगर ऐसा हुआ तो ईसीबी के साथ-साथ क्रिकेट आस्ट्रेलिया को भी बड़ा झटका लग सकता है।

 
मालूम हो कि आस्ट्रेलिया में क्वारंटाइन के नियम बेहद कड़े हैं, जिससे इंग्लैंड के खिलाड़ी बेहद निराश हैं। रिपोर्ट के मुताबिक इंग्लैंड के खिलाड़ियों को गोल्ड कोस्ट में एक होटल में तो रखा जाएगा, लेकिन खिलाड़ी सिर्फ दो या तीन घंटों के लिए ही ट्रेनिंग के लिए अपने होटल रूम से बाहर निकल पाएंगे। साथ ही ये भी कहा जा रहा है कि खिलाड़ियों को कड़े बायो-बबल का सामना करना पड़ सकता है।

इसके अलावा खिलाड़ियों और उनके परिवारों को होटल के कमरे में 14 दिन तक क्वारंटाइन भी रहना होगा। इंग्लैंड के कई खिलाड़ी आइपीएल में हिस्सा ले रहे हैं और साथ ही वे इसके बाद टी-20 विश्व कप भी खेलेंगे। इन दोनों टूर्नामेंट में भी खिलाड़ी और उनका परिवार बायो-बबल में रहेगा। इसके बाद एशेज सीरीज के लिए इतने कठोर क्वारंटाइन नियम इंग्लैंड के खिलाड़ियों को कतई रास नहीं आ रहे हैं।