अकमल ने कहा- मुझे वही मिलना चाहिए, जिसका मैं हकदार हूं

अकमल ने कहा- मुझे वही मिलना चाहिए, जिसका मैं हकदार हूं

पाक के विकेटकीपर कामरान अकमल बांग्लादेश के विरूद्ध टी-20 टीम में न चुने जाने के बाद से ही नाराज चल रहे हैं. उन्होंने कहा,‘‘आर्थर के कोच रहते फिटनेस पर आवश्यकता से ज्यादा जोर दिया गया, जबकि युवा खिलाड़ी मौके का इंतजार करते रह गए. मैं 5 सालसे घरेलू क्रिकेट में प्रदर्शन कर रहा हूं. मैं कितना बर्दाश्त करूं. क्या मुझे पीएम के पास जाना चाहिए व यह बोलना चाहिए कि यह मेरा 5 वर्ष का प्रदर्शन है?’’

उन्होंने सिलेक्टर्स पर घरेलू क्रिकेट में अच्छा प्रदर्शन करने वाले खिलाड़ियों को नजरअंदाज करने का आरोप लगाया. इस बल्लेबाज ने कहा, ‘‘मैंने उम्मीद नहीं छोड़ी है, लेकिन नजरअंदाज होने की भी एक सीमा होती है. मैंने उनसे कहा, आवश्यकता हो तो मुझे एक विकेटकीपर के रूप में खिलाएं. कम से कम टी-20 टीम में तो एक जगह ऐसा है, जहां मैं खेल सकता हूं. लेकिन आप जबरदस्ती किसी व को खिला रहे हैं. यह पाक की टीम है, आप सिर्फ देश के बारे में सोचें.मेरे जैसे कई खिलाड़ी हैं, जो टीम में चुने जाने के लिए योग्य हैं.’’ जैसे फवाद आलम, उनके आंकड़े देखिए. मुझे लगता है कि वह भी बहुत ज्यादा बर्दाश्त कर चुका है.

अकमल ने आगे कहा, ‘‘इस वर्ष के आखिर में टी-20 वर्ल़्ड कप है. मैंने पीएसएल व घरेलू क्रिकेट में अच्छा प्रदर्शन किया. कम से कम कोच मिस्बाह उल हक को तो यह देखना चाहिए. मिकी आर्थर ने पाक के क्रिकेट के साथ क्या किया, यह सभी जानते हैं. मिस्बाह जानते हैं कि वे खुद प्रयत्न के बाद इस मुकाम तक पहुंचे. मुझे लगता है कि मुझे भी वही मिलना चाहिए, जिसका मैं हकदार हूं.’’ हालांकि, अब सिलेक्टर्स काबिलियत व घरेलू क्रिकेट के प्रदर्शन को नहीं देखते. जब से पाक सुपर लीग (पीएसएल) प्रारम्भ हुआ, तब से इक्का-दुक्का पारियों के दम पर ही खिलाड़ी टीम में चुने जा रहे हैं. आसिफ अली, हुसैन तलत, अहसान अली जैसे खिलाड़ी 30-40 रन की पारी खेलकर टीम में आ रहे.

अकमल ने 53 टेस्ट व 157 वनडे खेले हैं

अकमल ने दो वर्ष पहले वेस्टइंडीज के विरूद्ध अपना आखिरी वनडे व टी-20 खेला था. वे अब तक 53 टेस्ट, 157 वनडे व 58 टी-20 खेल चुके हैं. इसमें उन्होंने 6 हजार से ज्यादा रन बनाए हैं.