भाजपा कार्यालय से तिरंगे में लपेटकर अंतिम यात्रा के लिए अरुण को गया निकाला , हजारों आँखे ही नम

केन्द्रीय वित्तमंत्री अरुण जेटली का दिल्ली के निगम बोध घाट पर रविवार को राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया. नम आंखों से हजारों लोगों ने उन्हें श्रद्धांजलि दी. उन्हें भाजपा कार्यालय से तिरंगे में लपेटकर अंतिम यात्रा के लिए निकाला गया. इससे पहले, अरुण जेटली का पार्थिव शरीर लोगों के अंतिम दर्शन के लिए राष्ट्रीय राजधानी में उनके आवास कैलाश कालोन से बीजेपी मुख्यालय लाया गया.

जेटली के पार्थिव शरीर को फूलों से सजे सेना के वाहन से बीजेपी मुख्यालय लाया गया. पूर्व वित्त मंत्री का शनिवार को दिल्ली के एम्स में लम्बी बीमारी के बाद निधन हो गया था .

इस मौका पर पार्टी मुख्यालय में बीजेपी के अध्यक्ष अमित शाह, कार्यकारी अध्यक्ष जे पी नड्डा, रेल मंत्री पीयूष गोयल, श्री जेटली की पत्नी व पुत्री तथा अन्य नेता मौजूद थे.

इससे पहले राष्ट्रवादी कांग्रेस के प्रमुख शरद पवार, मध्य प्रदेश के पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान, पूर्व मंत्री प्रफ्फुल पटेल, दूतावासों के अधिकारियों तथा कई अन्य नेताओं ने कैलाश कालोनी में जेटली को श्रद्धांजलि दी । जेटली को श्रद्धांजलि देने के लिए कल से ही लोगों का तांता लगा हुआ रहा.

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद , उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडु , पीएम नरेन्द्र मोदी की ओंर से रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह , बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह , पूर्व पीएममनमोहन सिंह, कांग्रेस पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी तथा अन्य पार्टियों के नेताओं ने जेटली के आवास पर जाकर शनिवार को उन्हें श्रद्धांजलि दी थी। पीएम इन दिनों विदेश यात्रा पर हैं .