तनाव की स्थिति में पड़ने पर आदमी भविष्य में ऐसी स्थितियों को ज्यादा अच्छे से है संभालता

 तनाव की स्थिति में पड़ने पर आदमी भविष्य में ऐसी स्थितियों को ज्यादा अच्छे से है संभालता

स्ट्रेस का नाम सुनते ही दिमाग में निगेटिव विचार आने लग जाते हैं. ऐसा इसलिए क्योंकि स्ट्रेस को आमतौर पर नेगेटिव ही माना जाता है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि स्ट्रेस अच्छा भी होता है. स्ट्रेस दो प्रकार के होते हैं जिन्हें गुड स्ट्रेस (Eustress) व बैड स्ट्रेस (Chronic stress) बोला जाता है.

गुड स्ट्रेस को आदमी के लिए अच्छा माना जाता है क्योंकि यह न सिर्फ शारीरिक रूप से बल्कि मानसिक रूप से भी लाभ पहुंचाता है. एक स्टडी के मुताबिक, जिस तरह वैक्सीन लगाने पर आदमी उस बीमारी को लेकर इम्यून हो जाता है उसी तरह अगर ठीक तरह व अमाउंट में स्ट्रेस हो तो आदमी भविष्य में तनाव को बुरा बनने से रोकने में सफल हो जाता है. इसके अतिरिक्त भी स्ट्रेस के कई फायदे हैं.

गुड स्ट्रेस के फायदे
* स्ट्रेस के कारण आदमी मुश्किलों का सामना ज्यादा सरलता से करता है.

* तनाव की स्थिति में पड़ने पर आदमी भविष्य में ऐसी स्थितियों को ज्यादा अच्छे से संभालता है.

* आदमी को खुद को तनाव मुक्त रखना आ जाता है.

* वह यह तय करने में व दिमाग को समझाने में सक्षम हो जाता है कि उसे किस बात का स्ट्रेस लेना है व किसका नहीं.

* स्ट्रेस के कारण आदमी के डिप्रेशन जैसी स्थिति में पड़ने की संभावना बहुत ज्यादा कम हो जाती है.