बच्चा आगे चलकर प्रॉपर्टी में न मांगे हिस्सा , उत्तर प्रदेश के शख्स ने गर्भ में पल रहे आठ माह के बच्चे की ली जान

बच्चा आगे चलकर प्रॉपर्टी में न मांगे हिस्सा , उत्तर प्रदेश के शख्स ने गर्भ में पल रहे आठ माह के बच्चे की ली जान

उत्तर प्रदेश के आगरा में गर्भवती महिला की मर्डर का सनसनीखेज मुद्दा सामने आया है. यहां गर्भवती महिला की मर्डर इस वजह से की गई ताकि उसका बच्चा आगे चलकर प्रॉपर्टी में भाग ना मांगे. महिला आठ माह की गर्भवती थी. मृत शरीर घर में पलंग पर मिला. मायकेवालों ने पति, सौतन व उसके तीन भाइयों के विरूद्ध मुकदमा दर्ज कराया है. महिला का पति घर पर नहीं मिला. पुलिस ने उसे फोन मिलाया तो उसने बताया कि वह तो दिल्ली आया हुआ है.

Image result for क्राइम

घटना की प्रातः काल करीब नौ बजे मिली. किदवई पार्क, राजामंडी निवासी ताराचंद्र ने पुलिस को फोन किया. बताया कि नाला बुढ़ान सैयद में उनकी बेटी रजनी (29) की मर्डर कर दी गई है. पड़ोसियों ने फोन पर उन्हें यह जानकारी दी है.

बेटी की विवाह 27 फरवरी 2017 को जयपुर हाउस निवासी केशव उर्फ संजू के साथ हुई थी. सूचना पर हरीपर्वत पुलिस मौके पर पहुंच गई. रजनी के घर के बाहर मजमा जुटा था. पुलिस अंदर पहुंची. मृत शरीर पलंग पर था. ऐसा लग रहा था जैसे सोते समय किसी ने धोखे से उसका गला रेत दिया. उसे अपनी स्थान से हिलने तक का मौका नहीं मिला. पूरा पलंग खून से सना हुआ था. रजनी का मोबाइल पास ही पड़ा था. पुलिस ने उसे कब्जे में लिया. मृत शरीर को पोस्टमार्टम के लिए भेजा. पड़ोसियों से वार्ता की गई. उन्होंने बताया कि पति-पत्नी में आए दिन झगड़ा हुआ करता था. रजनी के भाई हरेश ने बताया कि रविवार की शाम उसकी बहन से फोन पर बात हुई थी. चचेरा भाई विकास शाम को उसे दवा भी देकर गया था. बहन आठ माह की गर्भवती थी.

दो बच्चों का पिता है केशव
रजनी के मायके वालों ने बताया कि केशव पहले से विवाहित था. यह बात उसने उनकी बेटी से छिपाई थी. बेटी को यह जानकारी बाद में हुई. केशव की पहली पत्नी का नाम मनीषा है.पहली पत्नी से उसके दो बच्चे हैं. मनीषा अपने पति की दूसरी विवाह से खफा थी. मनीषा के भाई कोमल, पवन, संजय और ससुर रामकिशन कई बार रजनी को मर्डर की धमकी दे चुके थे.

हत्या के मुकदमे में पांच नामजद
इंस्पेक्टर हरीपर्वत प्रवीन मान ने बताया कि रजनी हत्याकांड में नामजद मुकदमा लिखाया गया है. मुकदमे में पति केशव, सौतन मनीषा, उसके भाई पवन, संजय, कोमल और ससुर रामकिशन नामजद है. केशव को बुलाया गया है. उससे पूछताछ में राज खुलेंगे. इतना तय है कि हत्याकांड के तार कहीं बाहर से नहीं जुड़े हैं.

गर्भवती होते ही प्रारम्भ हुआ था झगड़ा

रजनी ने जिससे प्यार किया उसी पर उसके कत्ल का आरोप है. घरवाले चीख-चीखकर बोल रहे हैं कि केशव उसकी पहली पत्नी व वर्षों के अतिरिक्त कोई व नहीं हो सकता. यह मर्डरसाजिश के तहत की गई है. केशव चाहता ही नहीं था कि रजनी की कोख से कोई बच्चा पैदा हो. उसे भय था कि यही बच्चा आगे चलकर उससे प्रॉपर्टी में भाग मांगेगा.
किदवई पार्क निवासी हरेश ने बताया कि रजनी उसकी छोटी बहन थी. सारे परिवार में पढ़ाई में सबसे होशियार थी. एमए,बीएड पास थी. रजनी जयपुर हाउस स्थित सेंट जेवियर स्कूल में शिक्षिका थी. यह स्कूल केशव का है. केशव भी एमएससी,बीएड है. केशवने उसकी बहन को अपने प्रेमजाल में फंसा लिया. उनकी मर्जी के खिलाफ दोनों ने साल 2017 में आर्य समाज मंदिर में विवाह कर ली. केशव ने नाला बुढ़ान सैयद में किराए पर मकान ले रखा था. रजनी जब गर्भवती हुई तो केशव ने विरोध किया. उस पर गर्भपात का दबाव बनाया. रजनी इसके लिए तैयार नहीं थी. उसने साफ बोल दिया था कि उसने विवाह की है. वह मां बनना चाहती है. जीते-जी अपने बच्चे को नहीं मार सकती है. इसी बात पर आए दिन घर में क्लेश होती थी.उसे पूरा यकीन है कि इसी वजह से उसकी बहन की मर्डर की गई है. यह मर्डर कोई अकेला आदमी नहीं कर सकता है. उसने घटना स्थल देखा था. उसकी बहन को पलंग से हिलने तक का मौका नहीं मिला. ऐसा लगता है कि उसे कई लोगों ने जकड़ लिया था. उसके बाद उसका गला काटा गया.