10 वर्ष की बच्ची की मृत्यु के मुद्दे में दंग करने वाला हुआ खुलासा

10 वर्ष की बच्ची की मृत्यु के मुद्दे में दंग करने वाला हुआ खुलासा

छत्तीसगढ़ के धमतरी जिले में हुए एक 10 वर्ष की बच्ची की मृत्यु के मुद्दे में दंग करने वाला खुलासा हुआ है। बताया जा रहा है कि पहले किसी ने बच्ची का गला दबाया। फिर उसकी डेड बॉडी को फांसी के फंदे पर लटा दिया। जाहिर तौर पर मर्डर को आत्महत्या की शक्ल देने की प्रयास की गई थी। इस खुलासे के बाद पुलिस ने अज्ञात आरोपी के विरूद्ध मर्डर का मुद्दा दर्ज कर लिया है। अब पुलिस एक नए सिरे से इस मुद्दे की जाँच कर रही है। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक परिवार के लोगों से पुलिस पूछताछ कर रही है। संदेह के आधार पर व भी कुछ लोगों से पूछताछ की जा रही है। ऐसा माना जा रहा है कि जल्द ही इस मुद्दे का खुलासा पुलिस कर देगी। वैसे पोस्टमार्टम के रिपोर्ट के आधार पर पुलिस जाँच कर रही है।



पोस्टमार्टम रिपोर्ट ने खोला आत्महत्या का राज

मिली जानकारी के मुताबिक धमतरी जिले में 26 मई को एक 10 वर्ष की मासूम की मृत्यु फांसी लगा लेने से होनी का बात कही गई थी। बच्ची को उपचार के लिए जिला अस्पताल लाया गया था, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया था। इसके बाद पोस्टमार्टम कर बच्ची के मृत शरीर को उसके परिजनों को सौंप दिया गया था। अब पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मासूम की गला दबाकर मर्डर का मुद्दा सामने आया है। इस खुलासे के बाद पुलिस ने अज्ञात आरोपी के विरूद्ध मर्डर का मुद्दा दर्ज कर लिया गया है। दरअसल विवेकानंद वार्ड के अटल आवास में रहने वाली 10 वर्षीय रिंकी गोस्वामी की डेड बॉडी घर के सीलिंग फेन पर फांसी फंदे पर लटकी मिली थी। बच्ची के परिजनों के मुताबिक खेल-खेल में बच्ची ने फांसी लगा ली थी। इसके बाद पुलिस ने मर्ग कायम कर बच्चे के बॉडी के पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया था। अब रिपोर्ट में ये खुलासा हो गया कि मासूम ने फांसी नहीं लगाई थी। रिंकी की मर्डर कर फांसी पर लटा दिया गया था। बहरहाल कोतवाली पुलिस ने इस मुद्दे दर्ज कर आरोपी के तफ्तीश में जुट गई है।