ओआईसी ने दूतावास यरुशलम ले जाने के निर्णय पर इस  विवादित शहर की करी कड़ी आलोचना

इस्लामी योगदान संगठन (ओआईसी) ने अमेरिका द्वारा अपना दूतावास यरुशलम ले जाने व विवादित शहर को इजरायल की राजधानी के तौर पर मान्यता देने के निर्णय की शनिवार को आलोचना की. सत्तावन राष्ट्रों के संगठन ने एक बयान में बोला कि संगठन अमेरिका व ग्वाटेमाला के दूतावासों को यरुशलम स्थानांतरित करने की निंदा करता है ।

आईओसी सभी सदस्यों से उन राष्ट्रों का बहिष्कार करने का अनुरोध करता है जिन्होंने यरूशलम में अपने राजनयिक मिशन खोले हैं. आईओसी के सम्मेलन की मेजबानी सऊदी अरब इस्लाम के सबसे पवित्र शहर मक्का में कर रहा है. बता दें कि अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप के दामाद जेरेड कुशनर को इस महीने के अंत में बहरीन में एक सम्मेलन में अपनी लंबे समय से प्रतीक्षित पश्चिम एशिया शांति योजना के आर्थिक पहलुओं को जारी करना है.

Image result for दूतावास यरुशलम

ट्रंप ने इस योजना को ‘सदी का समझौता’ बताया है, लेकिन फलस्तीनियों ने इसे खारिज कर दिया है. उन्होंने बोला कि उन्हें ट्रंप प्रशासन की नीतियां इजरायल के पक्ष में झुकी दिखती है. इजरायल का दावा है कि यरुशलम उसकी अभिन्न व अविभाजित राजधानी है, जबकि फलस्तीन शहर के पूर्वी हिस्से पर अपना दावा करता है. इजरायल व फलस्तीन दोनों के लिए ही आस्था के लिहाज से यरुशलम जरूरी शहर है.