बल्जिंग डिस्क के बारे में जाने यहां

बल्जिंग डिस्क के बारे में जाने यहां

बल्जिंग डिस्क के बारे में आपकी जानकारी के लिए बताते चलें कि ये एक ऐसी बीमारी है जो लंबे समय तक एक ही स्‍थान पर बैठे रहने के कारण होती है. यह बीमारी रीढ़ की हड्डी से प्रारम्भ होती है व शरीर के अन्य अंगों को भी प्रभावित करती है. अगर आपकी रीढ़ की हड्डी में भी अक्सर दर्द बना रहता है तो आपको सावधान हो जाना चाहिए. वैसे आप कुछ सरल तरीकों को अपनाकर इस समस्या से निजात पा सकती हैं.Image result for बल्जिंग डिस्क के बारे में 

बल्जिंग डिस्क की प्रॉब्लम होने पर आप खुद को जितना ज्‍यादा हो सके एक्टिव रखें. एक ही स्थान पर लंबे समय तक बैठे रहने से बचें. प्रतिदिन टहलने की प्रयास करें. साथ ही, अपना फिटनेस ट्रैक जरूर रखें. आप खुक को सक्रिय रखने के लिए साइकिलिंग व डांसिंग भी कर सकती हैं. रीढ़ की हड्डी में ज्‍यादा दर्द होने पर फिजियोथेरेपिस्ट सेएक्सरसाइज व स्ट्रेचिंग करवाएं. इससे आपको दर्द में आराम मिलेगा. लगातार अभ्यास करने से आपका बैक मसल्स मजबूत होगा. साथ ही, आपके पोस्चर में भी सुधार होगा.अगर आपको बल्जिंग डिस्क की प्रॉब्लम है आप अपने बैठने के पोस्चर में सुधार करें. ऐसे में हर बीस-तीस मिनट में अपने बैठने की पोजिशन को बदलते रहें. झुक कर बैठने से बचें क्‍योंकि झुक कर बैठने से भी यह प्रॉब्लम बढ़ सकती है. इसलिए जब भी बैठे तोरीढ़ की हड्डीको सीधे करके ही बैठे.