क्या आपको पता है की शतावरी के फायदे

क्या आपको पता है की शतावरी के फायदे

आप जानते ही हैं शतावरी एक औषधीय पौधा है। यह कई रोगों के उपचार में बहुत ज्यादा उपयोगी साबित होती है। सालों से इसका प्रयोग आयुर्वेद में किया जाता आ रहा है। इसके प्रयोग से कई परेशानियां चुटकी में दूर हो जाती हैं। आपको बता दें, यह एक झाड़ीनुमा पौधा है। एक शोध के अनुसार, शतावरी की जड़ में इतने गुण छिपे होते हैं कि यह दिल के रोगों में बेहद प्रभावी होते हैं। स्वाद में कड़वी शतावरी वायु व पित्त नाशक होती है। पुरुषों को शारीरिक ताकत देती है, ब्रेस्ट मिल्क बढ़ाने में मदद करती है, आंखों की दृष्टि बढ़ाती है। जानिए इसके अन्य फायदे।

1 यदि आपको रात में नींद ठीक ढंग से नहीं आती तो शतावरी की जड़ का सेवन करें। इसके लिए आप इसके जड़ को किसी भी भोजन में मिलाकर पकाएं या खीर की तरह पका लें। इसमें गौ माता का घी भी मिला दें। इससे सारी चिंता व तनाव दूर होगी व आपको रात में गहरी नींद आएगी।

2 पीरियड्स के दिनों में अक्सर महिलाएं दर्द, ऐंठन से परेशान रहती हैं। इसके सेवन से दर्द से छुटकारा मिलेगा। यदि आपका वजन बढ़ रहा है, तो भी यह लाभकारी है।

3 माइग्रेन का दर्द जब भी सताए, तो शतावरी का जड़ को लेकर मोटा कूट लें। इसके रस को निचोड़ लें। इसमें बराबर मात्रा में तिल का रस मिलाकर पका लें। इस मिलावट के सेवन से माइग्रेन या किसी भी तरह के सिर दर्द से छुटकारा मिल जाएगा।

4 डिलीवरी के बाद बच्चे को स्तनपान कराते समय दूध ठीक तरीका से नहीं आ रहा है, तो भी शतावरी का प्रयोग कर सकती हैं। इसकी जड़ों को धूप में सुखाकर चूर्ण बना लें या फिर मार्केट से खरीद लें। इस चूर्ण को दिन में तीन-चार बार लेती रहें। दूध आने की मात्रा बढ़ जाएगी।

5 शतावरी डायबिटीज के मरीजों के लिए भी हेल्दी होती है। शतावरी की जड़ों के चूर्ण को दूध में डालें। इसमें थोड़ा सा चीनी मिलाएं व पी जाएं। डायबिटीज कंट्रोल में रहेगा।

6 पेशाब करते समय खून आए, तो शतावरी का सेवन करें। पेशाब में खून आना बंद हो जाएगा। वैसे, इस समस्या को नजरअंदाज करना अच्छा नहीं। यदि समस्या इसके बाद भी बनी रहती है, तो चिकित्सक से सम्पर्क करें।

7 शतावरी की तासीर ठंडी होती है। यह जलन, पेट के अल्सर व बुखार को भी कम करने में सहायक है।