आजाद ने न्यायालय को दिलाया भरोसा, सूबे में नहीं करेंगे कोई रैली

आजाद ने न्यायालय को दिलाया भरोसा, सूबे में नहीं करेंगे कोई रैली

उच्चतम न्यायालय (Supreme Court) ने कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद (Ghulam Nabi Azad) को जम्मू और कश्मीर (Jammu-Kashmir) जाने की अनुमति दे दी है। हालांकि, शीर्ष न्यायालय ने अपने आदेश में स्‍पष्‍ट कर दिया है कि आजाद वहां कोई सियासी रैली ना करें। मुख्‍य न्यायाधीश रंजन गोगोई (CJI Ranjan Gogoi) की अध्‍यक्षता वाली पीठ ने जम्मू और कश्मीर के पूर्व सीएम को जम्मू, अनंतनाग, बारामुला व श्रीनगर जाकर लोगों से वार्ता करने की अनुमति दी है। पीठ में जस्टिस एसए बोबडे व एसए नजीर भी शामिल थे।



कांग्रेस पार्टी के वरिष्‍ठ नेता गुलाम नबी आजाद का पक्ष रख रहे वरिष्ठ अधिवक्‍ता अभिषेक मनु सिंघवी (Abhishek Manu Singhavi) ने पीठ से बोला कि वह लोगों से मिलकर उनका हालचाल जानना चाहते हैं। सिंघवी ने बताया कि गुलाम नबी आजाद ने तीन बार जम्‍मू-कश्‍मीर जाने की प्रयास की, लेकिन हर बार उन्हें हवाई अड्डे से ही लौटा दिया गया। आजाद ने याचिका में शीर्ष न्यायालय से अपने परिवार के सदस्यों व संबंधियों से मिलने जाने के लिए अनुमति मांगी थी। आजाद ने न्यायालय को भरोसा दिलाया कि वह वहां कोई रैली नही करेंगे।

गुलाम नबी आजाद ने जम्‍मू-कश्‍मीर को विशेषाधिकार देने वाले अनुच्‍छेद-370 (Article-370) को हटाए जाने के बाद प्रशासन की ओर से आम कश्‍मीरियों पर लगाए गए प्रतिबंधों के मद्देनजर सामाजिक दशा का मुआयना लेने के लिए वहां जाने की अनुमति मांगी थी। कांग्रेस पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने भी विपक्षी दलों के प्रतिनिधिमंडल के साथ जम्मू और कश्मीर जाने की प्रयास की थी, लेकिन उनको भी इसकी इजाजत नहीं दी गई थी। राहुल गांधी समेत सभी विपक्षी दलों के नेताओं को श्रीनगर एयरपोर्ट पर ही रोककर वापस दिल्ली भेज दिया गया था। प्रतिनिधिमंडल में माकपा नेता सीताराम येचुरी (Sitaram Yechuri) भी शामिल थे।

येचुरी व महबूबा मुफ्ती की बेटी को भी मिल गई थी अनुमति
सीताराम येचुरी ने जम्मू और कश्मीर जाने की मंजूरी नहीं दिए जाने के विरूद्ध उच्चतम न्यायालय का दरवाजा खटखटाया। न्यायालय में उन्होंने बोला कि वह माकपा नेता यूसुफ तारीगामी का हालचाल जानने के लिए जम्मू और कश्मीर जाना चाहते हैं। इसलिए उन्‍हें जाने की इजाजत दी जाए। इसके बाद उच्चतम न्यायालय ने कुछ शर्तों के साथ उनको जम्मू और कश्मीर जाने की अनुमति दे दी थी। वहीं, 5 सितंबर को जम्मू और कश्मीर की पूर्व सीएम महबूबा मुफ्ती (Mehbooba Mufti) की बेटी इल्तिजा को भी अपनी मां से मिलने की इजाजत दी गई थी। उच्चतम न्यायालय ने यह भी बोला था कि अगर वह श्रीनगर में कहीं व जाना चाहें तो जिला प्रशासन की इजाजत से जा सकती हैं।