12 सीटों के लिए होने वाले विधानसभा उपचुनाव को लेकर सभी सियासी पार्टियां अपने इस ढंग से कर रही है तैयारियां

 12 सीटों के लिए होने वाले विधानसभा उपचुनाव को लेकर सभी सियासी पार्टियां अपने इस ढंग से कर रही है तैयारियां

उत्तर प्रदेश में इस वक्‍त 12 सीटों के लिए होने वाले विधानसभा उपचुनाव को लेकर सभी सियासी पार्टियां अपने-अपने ढंग से तैयारियां कर रही हैं। सूबे में सत्‍तारूढ़ बीजेपी ने चुनाव जीतने के लिए अपने कई मंत्रियों को रणनीति बनाने की जिम्‍मेदारी सौंपी है तो बसपा ने भी अकेले दम पर चुनाव में उतरने का निर्णय किया है। जबकि बीएसपी के साथ गठबंधन टूटने के बाद अखिलेश यादव की समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) भी उपचुनाव में सारे दमखम के साथ मैदान में है। मजेदार बात ये है कि समाजवादी पार्टी ने अपने कार्यकर्ताओं, नेताओं व पदाधिकारियों के नाम जारी एक संदेश में बोला है कि अगर किसी भी कार्यकर्ता को विधानसभा का उपचुनाव लड़ना है तो उन्हें आवेदन करना होगा।

Related image

आवेदन के लिए करना होगा ये काम

आवेदन का फॉर्मेट भी तैयार किया गया है जिसमें चुनाव लड़ने के इच्छुक आदमी को अपना पूरा बायोडाटा व राजनीतिक ज़िंदगी में किए गए कामों का ब्यौरा देना होगा। तय फॉर्मेट के हिसाब से अपना फॉर्म भरकर आदमी विशेष लखनऊ स्थित सपा ऑफिस में 20 जुलाई 2019 तक आवेदन कर सकता है। 20 जुलाई तक आने वाले आवेदनों की स्कैनिंग होगी व सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव इस बात का निर्णय लेंगे कि आखिर किस विधानसभा सीट से कौन प्रत्याशी चुनाव लड़ेगा।

समाजवादी पार्टी ने टिकटों के लिए आवेदन करने की शर्त के साथ ही यह बात भी साफ कर दी है कि अब उनकी पार्टी एकला चलो की राह पर निकल चुकी है। बीएसपी मुखिया मायावती के हालिया बयानों के बाद यह बात साफ हो गई है कि इस बार 2019 के विधानसभा उपचुनाव में बसपा पूरी तरह से भाग लेगी। यही नहीं, बीएसपी मुखिया मायावती ने जुलाई के पहले हफ्ते में यूपी के सभी मंडलों के कोऑर्डिनेटर की मीटिंग करके यह बता दिया है कि उनकी तैयारी तेजी से चल रही है।

अखिलेश ने कार्यकताओं में भरा जोश
राष्‍ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव आज सपा ऑफिस पहुंचे व पार्टी के पदाधिकारियों, कार्यकर्ताओं व नेताओं से मुलाकात की। इस दौरान अखिलेश यादव ने पार्टी कार्यकर्ताओं से बोलाकि वो जनता के बीच में जाएं व बताएं कि समाजवादी सरकार ने उनके लिए बेहतर कार्य किया था। वैसे चुनाव लड़ने के लिए सपा की तरफ से आवेदन की रखी गई। शर्त के बाद कुछ नेता असमंजस की स्थिति में है, लेकिन जब आदेश ऊपर से आया है तो जिस किसी को भी विधानसभा का उपचुनाव लड़ना है तो उन्हें 20 जुलाई से पहले अपना आवेदन लेटर सपा ऑफिस में जमा करना ही होगा।