इस्लामाबाद के आतंकवादी कैंपों को बंद करने की खबरों पर सेना प्रमुख ने पाक के इन आतंकी शिविरों को किया बंद

इस्लामाबाद के आतंकवादी कैंपों को बंद करने की खबरों पर सेना प्रमुख ने पाक के इन आतंकी शिविरों को किया बंद

पाक के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) में इस्लामाबाद के आतंकवादी कैंपों को बंद करने की खबरों पर सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने बोला कि यह सत्यापित नहीं किया जा सकता है कि पाक ने आतंकी शिविरों को बंद कर दिया है या नहीं. हम अपनी सीमाओं पर कड़ी निगरानी रखना जारी रखेंगे.

बता दें कि पाक के इस एक्शन को ना सिर्फ हिंदुस्तान के भय से जोड़ा जा रहा है बल्कि कुछ ही दिनों बाद होने वाली पाक फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (एफएएफटी ) के मीटिंग से भी जोड़ा जा रहा है. अगले एक सप्ताह में FATF की मीटिंग होनी है, इससे पहले पाक आतंकवादी संगठनों पर कार्रवाई का ढोंग कर रहा है. ये संगठन पहले ही पाक को ग्रे लिस्ट में डाल चुका है.

जिन आतंकवादी कैंपों को बंद किया गया है, उनमें कोटली व निकियाल क्षेत्र में चलने वाले कैंप लश्कर-ए-तैयबा के थे, जो हिंदुस्तान के सुंदरबनी व राजौरी क्षेत्र के सामने हैं. वहीं बाघ वपाला क्षेत्र में जैश-ए-मोहम्मद के आतंकवादी कैंप थे तो वहीं कोटली में हिज्बुल मुजाहिद्दीन का आतंकवादी कैंप था.

इतना ही नहीं, इंटेलिजेंस रिपोर्ट की मानें तो मुजफ्फराबाद-मीरपुर के अड्डों को भी बंद कर दिया गया है. जो कि लश्कर-ए-तैयबा, जैश-ए-मोहम्मद व हिज्बुल मुजाहिद्दीन द्वारा संचालित थे.

आपकी जानकारी के लिए बताते चलें कि बालाकोट एयरस्ट्राइक के बाद हिंदुस्तान की ओर से लगातार पाक पर दबाव बनाया जा रहा था. ये सभी आतंकवादी अड्डे एलओसी के पास उपस्थित थे. बताते चलें कि इंडियन आर्मी की लगातार कार्रवाई के बाद पाक की हालत खस्ता थी, यही कारण था कि उनकी तरफ से पाक ने इंडियन आर्मी से बॉर्डर पर फायरिंग रोकने की अपील की थी.