चक्रवात 'बुलबुल' को लेकर अलर्ट हुआ जारी

चक्रवात 'बुलबुल' को लेकर अलर्ट हुआ जारी

बंगाल की खाड़ी के ऊपर बन रहे चक्रवात के अगले दो दिनों में बहुत गंभीर चक्रवात में तब्दील होकर पश्चिम बंगाल, बांग्लादेश व ओडिशा के तट के करीब से गुजरने की संभावना है। ऐसे में भारतीय मौसम विभाग की माने तो, अगले 24 घंटों के दौरान चक्रवाती तूफान बुलबुल वखतरनाक रूप ले सकता है। इसी के साथ विभाग ने अलर्ट भी जारी कर दिया है। वहीँ अलर्ट करते हुए मछुआरों को तट पर लौटने व अगले आदेश तक समुद्र में नहीं जाने की सलाह दी जा चुकी है। आपकी जानकारी के लिए बताते चलें कि मौसम विभाग के क्षेत्रीय निदेशक जी। के। दास ने कहा, ''चक्रवात 'बुलबुल' कोलकाता से 930 किलोमीटर दक्षिण-दक्षिणपूर्व अवस्थित है व गुरुवार रात तक इसके वमजबूत होने की आसार है।Image result for चक्रवात 'बुलबुल' को लेकर अलर्ट हुआ जारी

शनिवार को यह व शक्तिशाली होकर बहुत गंभीर श्रेणी में पहुंच जाएगा जिससे समुद्र में स्थिति प्रतिकूल हो सकती है। तूफान के उत्तर-उत्तरपश्चिम में पश्चिम बंगाल व बांग्लादेश के तट की ओर रुख करने की आसार है। '' इसी के साथ समाचार है कि चक्रवात 'बुलबुल' के असर क्षेत्र में हवा की गति 70 से 80 किलोमीटर प्रतिघंटे दर्ज की गई व जबकि केन्द्र में इसकी गति 90 किलोमीटर प्रति घंटे है। वहीं इस बारे में मौसम वैज्ञानिक ने बताया कि, ''अगर यह बहुत गंभीर चक्रवाती तूफान में तब्दील होता है तो इसकी अधिकतम गति 115 से 125 किलोमीटर प्रति घंटे पहुंच जाएगी व तूफान के केन्द्र में गति 140 किलोमीटर प्रति घंटे होगी। '' वहीं मौसम विभाग के महानिदेशक मृत्युंजय महापात्रा ने बोला कि, ''चक्रवाती प्रणाली की निगरानी की जा रही है व तट से टकराने के संभावित जगह का आकलन किया जा रहा है। इस बीच मौसम विभाग ने पश्चिम बंगाल के तटीय जिलों पूर्वी मिदनापुर, उत्तर 24 परगना व दक्षिण 24 परगना जिले में नौ से 11 नवंबर तक भारी बारिश होने की आसार जताई है। ''

इसी के साथ एक सरकारी ऑफिसर ने बोला कि, ''संबंधित जिलों के अधिकारियों को स्थिति पर नजर रखने व आपात स्थिति से निपटने के लिए काम योजना तैयार करने को बोला गया है। मौसम विभाग के मुताबिक, पश्चिम बंगाल व ओडिशा के तटीय इलाकों में शुक्रवार शाम से 50 किलोमीटर प्रति घंटे की गति से हवाएं चलेंगी व यह गति बढ़ती चली जाएगी। ''