18 वर्ष के क्रिकेट कैरियर के बाद आज भारतीय क्रिकेट टीम के इस ‘सिक्सर किंग’ ने की सन्यास लेने की घोषणा

 18 वर्ष के क्रिकेट कैरियर के बाद आज भारतीय क्रिकेट टीम के इस ‘सिक्सर किंग’ ने की सन्यास लेने की घोषणा

भारतीय क्रिकेट टीम के ‘सिक्सर किंग’ युवराज सिंह ने अपने 18 वर्ष के क्रिकेट कैरियर के बाद आज संन्यास की घोषणा कर दी। अपने रिटायरमेंट स्पीच में युवराज सिंह ने बोला कि मैंने सौरव गांगुली की कप्तानी में खेला, मुझे लीजेंड सचिन तेंदुलकर के साथ खेलने का मौका मिला। साथ ही युवराज ने अनिल कुंबले, श्रीनाथ, हरभजन सिंह व विश्वकप 2011 को भी याद किया, लेकिन 2011 के विश्वकप विजेता टीम के कैप्टन महेंद्र सिंह धौनी का नाम युवराज सिंह ने नहीं लिया। हालांकि सवालों का जवाब देते हुए युवराज ने धौनी को अपना पसंदीदा कैप्टन बताया। ऐसे में यह सवाल लाजिमी है कि आखिर क्यों युवी ने धौनी का नाम नहीं लिया? 2011 विश्वकप में युवी ‘मैन अॅाफ दि सीरीज’ चुने गये थे।

क्या युवराज सिंह के मन में धौनी को लेकर है कोई खटास?

धौनी पर युवराज के पिता योगराज सिंह ने कई बार आरोप लगाया है कि युवराज के टीम से बाहर रहने का कारण धौनी हैं। योगराज सिंह ने मीडिया से बात करते हुए कई बार आरोप लगाया था कि धौनी उनके बेटे की उपेक्षा करते हैं व टीम में उनके साथ गलत व्यवहार करते हैं। योगराज सिंह ने यह भी आरोप लगाया था कि धौनी युवराज सिंह का भला नहीं चाहते वे युवराज से जलते हैं इसलिए उन्हें ठीक आर्डर पर बैटिंग करने नहीं भेजते हैं व ना ही बॉलिंग देते हैं। योगराज सिंह ने तो धौनी को रावण तक कह दिया था व सार्वजनिक तौर पर गाली-गलौज भी किया था। हालांकि युवराज सिंह ने हमेशा अपने पिता के आरोपों का करारा जवाब दिया व बोला कि उनके व धौनी के बीच संबंध अच्छे हैं व उनके पिता जो कुछ भी कह रहे हैं, वे भावनाओं में बहकर कह रहे हैं। उसका सच्चाई से कोई लेना नहीं हैं।

युवी ने कहा, मौका नहीं मिल रहा था

युवराज सिंह ने एक सवाल के जवाब में बोला कि मैंने पिछले वर्ष ही यह प्लानिंग कर ली थी कि मैं इस आईपीएल के बाद संन्यास ले लूंगा। मैंने सोचा था कि यह सीजन अच्छा जायेगा, लेकिन ऐसा हुआ नहीं। हमेशा आपके सोचे अनुसार नहीं होता है व भी कई बातें थीं, मैंने 2000 में डेब्यू किया था अब 19 वर्ष हो गये व मुझे अब टीम में मौका भी नहीं मिल रहा है। इसके अतिरिक्त व भी कई बातें हैं, जिसके कारण मैंने संन्यास की घोषणा की।