पाक की झोली में आए 11 प्वाइंट्स साफ हुआ वर्ल्ड कप से पत्ता, जानिये क्या होगा अब मोहम्मद हफीज़ का

पाक की झोली में आए 11 प्वाइंट्स साफ हुआ वर्ल्ड कप से पत्ता, जानिये क्या होगा अब मोहम्मद हफीज़ का

वर्ल्ड कप से पाक का पत्ता साफ हो गया है। पाक की झोली में 11 प्वाइंट्स तो आए लेकिन नेट रनरेट के मुद्दे में वो न्यूज़ीलैंड से पीछे रह गए। फैंस बेहद नाराज हैं। ऐसा लग रहा है कि आने वाले दिनों में पाक क्रिकेट बोर्ड में पराजय को लेकर हंगामा मचने वाला है। इससे पहले ही वर्ल्ड कप में फ्लॉप रहे शोएब मलिक ने वनडे क्रिकेट से संन्यास का ऐलान कर दिया।ऐसा लग रहा है कि आने वाले दिनों में कई सीनियर क्रिकेटरों की टीम से छुट्टी हो जाएगी।

Image result for शोएब तो रिटायर हो गए, अब इस बल्लेबाज को निकाला जाएगा!

क्या होगा मोहम्मद हफीज़ का?

वर्ल्ड कप में मैच दर मैच मोहम्मद हफीज़ फ्लॉप होते रहे लेकिन फिर भी उन्हें मौका मिलता रहा। कैप्टन सरफराज इस उम्मीद में बैठे थे कि हफीज एक न एक पारी में जरूर रन बनाएंगे। लेकिन ऐसा हुआ न ही। हफीज के फ्लॉप होने का सिलसिला लगतार जारी रहा। उन्होंने 8 मैचों में 31.62 की औसत से सिर्फ 253 रन बनाए। अच्छी आरंभ के बावजूद वो हथियार डालते रहे। शुरुआती मैचों में तो वो 4 में से तीन बार भाग टाईम बॉलर के शिकार बने। ऐसा लग रहा था कि मानो वो जानबूझ कर आउट हो रहे हैं। गेंदबाज़ी के मोर्चे पर भी वो फ्लॉप रहे।

कब लेंगे संन्यास?
शोएब मलिक ने वर्ल्ड कप में पाक का सफर समाप्त होते ही रिटायरमेंट का ऐलान कर दिया। क्रिकेटप्रेमियों को लगा कि शायद शोएब के साथ-साथ हफीज भी संन्यास ले लेंगे। लेकिन ऐसा हुआ नहीं। ऐसे में सवाल उठाता है कि वर्ष 2003 में डेब्यू करने वाले हफीज आखिर कब क्रिकेट को अलविदा कहेंगे। वो 38 वर्ष के हो चुके हैं व बेकार प्रदर्शन के चलते लगातार आलोचकों के निशाने पर रहे हैं।

नॉन स्टॉप फ्लॉप शो

16 वर्ष के इंटरनैशनल करियर में हफीज कितनी दफा टीम से अंदर बाहर हुए हैं ये शायद उन्हें भी याद नहीं होगा। कभी इलीगल बॉलिंग एक्शन के चलते तो कभी बेकार फॉर्म ने उन्हें टीम से बाहर रहने पर विवश किया। वर्ष 2003 में डेब्यू करने वाले हफीज को 2011 से लगातार मौके मिलने प्रारम्भ हुए। उन्होंने पिछले वर्ष टेस्ट क्रिकेट को अलविदा कह दिया था।अब ये तय है कि पाक की टीम में उन्हें आगे मौका नहीं मिलेगा।