आयुष्मान खुराना की फिल्म आर्टिकल 15 का ट्रेलर हुआ लॉन्च

 आयुष्मान खुराना की फिल्म आर्टिकल 15 का ट्रेलर हुआ लॉन्च

बॉलीवुड के दमदार अभिनेताओं में शुमार हो चुके आयुष्मान खुराना की फिल्म आर्टिकल 15 का ट्रेलर लॉन्च हो गया है व कास्ट सिस्टम पर आधारित इस फिल्म के ट्रेलर को दर्शकों का खूब प्यारा रिस्पॉन्स भी मिल रहा है। वहीं अक्सर फिल्मों में अलग किस्म के विषयों को चुनने के लिए ख़ास पहचान रखने वाले आयुष्मान ने इस बार भी एक ऐसे सबजेक्ट को अपनाया है जिसके चलते देश का एक बड़ा भाग वर्षों से बुरी तरह प्रभावित बताया जाता है।

ख़ास बात यह है कि आयुष्मान खुराना ने इस फिल्म में एक अपरकास्ट पुलिसवाले का भूमिका निभाया है व हाल ही में उन्होंने इस फिल्म के बारे में वार्ता में के खुलासे किए हैं। हाल ही में जब आयुष्मान से पूछा गया कि इस फिल्म को चुनने की वजह क्या रही ? तो इस पर आयुष्मान कहते हैं कि मैंने पांच वर्ष पहले एक डॉक्यूमेंट्री देखी थी जिसका नाम था इंडिया अनटच्ड। इसकी कहानी प्रारम्भ होती है तमिलनाडु में जहां एक दलित, ब्राहाण गांव में घुसने की प्रयास करता है व वो जब इस गांव में घुसता है तो उसे अपने जूते निकालने पड़ते है, उसे अपनी साइकिल के कैरियर पर रखना होता है व फिर वो आगे जाता है।

आगे आयुष्मान ने बोला कि 'आज भी ये हमारे देश के कई हिस्सों में हो रहा है। गुजरात में दलितों, ब्राहाणों व ठाकुरों के लिए भिन्न-भिन्न कुएं बने हुए हैं व ऐसे माहौल में पानी के अधिकार को लेकर कई बार विवाद भी होता रहता है। वहीं जब आयुष्मान से किसी तरह के जातिवाद का सामना किया के बारे में पूछा तो उन्होंने बोला कि मैंने देश के भिन्न-भिन्नहिस्सों में स्ट्रीट थियेटर किया है व मुझे याद है कि एक बार हम राजस्थान में बिट्स पिलानी फेस्टिवल के लिए गए थे व मुझे याद है कि वहां पर शुरूआत ही आपकी जाति के बारे में सवालों से होती है। आपकी जाति के हिसाब से ही फिर आपके साथ बात आगे बढ़ाई जाती है। मतलब अगर वहां कोई आपसे दोस्ती करना चाहता है तो वो पहले ये देखता है कि समाज में आपकी स्थिति क्या है, व ये अर्थ नहीं रखता है कि आप एक इंसान के रूप में कैसे हैं। लेकिन चूंकि मेरी अपरकास्ट है, तो मुझे जाति को लेकर भेदभाव नहीं झेलना पड़ा, लेकिन यह सब समाप्त होना चाहिए।