कोविड वैक्सीन लगवाने वाले का आधार लिंक होगा, सबको कोविन ऐप डाउनलोड करना होगा

कोविड वैक्सीन लगवाने वाले का आधार लिंक होगा, सबको कोविन ऐप डाउनलोड करना होगा

दुनिया की नजर कोरोना की प्रभावी वैक्सीन पर टिकी है। यूं तो दुनिया कुल 73 वैक्सीन अलग-अलग चरणों में हैं, जिनमें 6 का इमरजेंसी यूज शुरू हो गया है। पर इनमें प्रमुख 5 हैं। पांचों वैक्सीन के बाजार में इस साल दिसंबर से अप्रैल तक आने की संभावना है। भारत में कोरोना टीकाकरण के लिए सरकार कोविन ऐप का सहारा लेगी।

टीकाकरण की लिस्ट में शामिल कर व्यक्ति को उसके आधार से लिंक किया जाएगा, ताकि डुप्लीकेसी न हो। जिनके पास आधार नहीं उनके लिए क्या कदम उठाए जाएंगे इसकी जानकारी अभी नहीं है। स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन के अनुसार जुलाई 2021 तक प्राथमिकता के आधार पर 25-30 करोड़ भारतीयों को टीका लग सकता है।

सूत्रों के अनुसार पिछले दिनों नीति आयोग के सदस्य (स्वास्थ्य) डॉ. वीके पॉल, भारत सरकार के प्रधान वैज्ञानिक सलाहकार प्रो. के विजय राघवन और केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण की बैठक में वैक्सीन आने से पहले किसी कंपनी से उसे खरीदने के लिए समझौता करने के तरीके पर भी बात हुई। एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक दवा कंपनियां करीब 530 करोड़ डोज बनाएंगी। इनमें से 270 करोड़ यानी करीब 51% अमेरिका, ब्रिटेन जैसे विकसित देशों को मिलेंगे।

  • मॉडर्ना- इमरजेंसी यूज की तैयारी में। असरदार- 94.5%। दिसंबर में आ सकता है।
  • फाइजर- इमरजेंसी यूज की अनुमति मांगी। असरदार- 95%। दिसंबर में आ सकता है।
  • एस्ट्राजेनेका- तीसरे फेज के नतीजे आएंगे। असरदार- 95%। फरवरी में आ सकता है।
  • कोवैक्सिन- तीसरा ट्रायल शुरू हो चुका। लगभग 26 हजार लोगों पर ट्रायल होगा।
  • स्पुतनिक- दूसरे और तीसरे चरण का ट्रायल चल रहा है। दो डोज की खुराक दी जाएगी।

वैक्सीन के सफर में कहीं बदले न तापमान, ऐप रखेगा नजर

ऐप वैक्सीन के स्टोरेज से लेकर हेल्थ सेंटर, डिस्ट्रिक्ट हॉस्पिटल या वैक्सीनेशन सेंटर तक के सफर को ट्रैक करेगा। अगर कहीं स्टॉक खत्म हो रहा है तो यह ऐप उस पर भी नोटिफिकेशन भेजेगा। पूरे सफर में वैक्सीन के तापमान पर ऐप नजर रखेगा।

आपको डोज लगने के बाद सर्टिफिकेट भी देगा कोविन ऐप
कोविन एप के जरिए लोग अपने वैक्सीनेशन का शेड्यूल, लोकेशन और यहां तक कि वैक्सीन कौन लगाएगा, इसका विवरण भी पता कर पाएंगे। एक बार वैक्सीन की डोज लग गया, तो एप एक सर्टिफिकेट भी मिलेगा। इसे डिजिलॉकर में भी सेव किया जा सकेगा।

कोविन एप में होगा फ्रंटलाइन वर्कर्स और रोगियों का डाटा
ऐप में फ्रंटलाइन वर्कर्स, 50 साल से ज्यादा उम्र के लोग और गंभीर बीमारियों से जूझ रहे लोगों का डाटा रहेगा। जिला स्तर पर इसमें सरकारी और निजी अस्पतालों में काम करने वालों का डाटा भी रहेगा। उन्हें मंजूरी के बाद सबसे पहले वैक्सीन का डोज मिलेगा।

स्कूलों, पंचायती इमारतों और आंगनबाड़ी केंद्र में पोलियो अभियान जैसे बूथ बनेंगे

  • केंद्र सरकार वैक्सीन निर्माताओं से सीधे डोज खरीदेगी। राज्य सरकारें उन इमारतों की पहचान कर रही हैं, जिन्हें वैक्सीनेशन बूथ की तरह इस्तेमाल किया जा सके।
  • स्कूलों, पंचायती इमारतों और आंगनबाड़ी केंद्र की बिल्डिंग का इस्तेमाल भी हो सकता है।
  • देश के सभी जिलों में करीब 28,000 वैक्सीन स्टोरेज सेंटर हैं, जो ईविन से जुड़े हैं। परिवहन में करीब 40,000 फ्रंटलाइन वर्कर्स हैं।
  • स्टोरेज का तापमान चेक करने के लिए करीब 50 हजार तापमान लॉगर्स हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय के पास इलेक्ट्रॉनिक वैक्सीन इंटेलिजेंस नेटवर्क यानी ईविन जैसा डिजिटल प्लेटफॉर्म पहले से मौजूद है। सरकार इसके डाटा को कोविन ऐप से जोड़ सकती है।

वैक्सीन स्टोरेज पहले से भी उपलब्ध हैं
दरअसल, भारत में बच्चों के लिए जो टीकाकरण अभियान चलते हैं, उनके लिए देश में कुछ वैक्सीन स्टोरेज चेन पहले से उपलब्ध हैं, लेकिन वे मॉडर्ना और फाइजर वैक्सीन को स्टोर करने के काम नहीं आएंगे। ऑक्सफोर्ड और भारत में बनने वाली कोवैक्सिन को सामान्य फ्रिज के तापमान पर स्टोर किया जा सकता है। इसलिए सरकार की उस पर उम्मीद टिकी है।


आंदोलनरत किसानों से ममता बनर्जी ने की फोन पर बात, TMC सांसद को भेजा

आंदोलनरत किसानों से ममता बनर्जी ने की फोन पर बात, TMC सांसद को भेजा

नई दिल्‍ली दिल्‍ली से लगी हरियाणा, उत्तर प्रदेश की सीमा पर सरकार की ओर से लाए गए 3 कृषि कानूनों (Farm Laws) के विरोध में आंदोलन कर रहे किसानों के समर्थन में ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) भी आ गई हैं पश्चिम बंगाल की मुख्‍यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस पार्टी की प्रमुख ममता बनर्जी ने शुक्रवार को आंदोलनरत किसानों (Farmer protest) से फोन पर बात की इस दौरान उन्‍होंने उनको एकजुटकता और समर्थन का संदेश दिया इसके साथ ही उन्‍होंने टीएमसी सांसद डेरेक ओ ब्रायन को भी दिल्‍ली में किसानों से मिलने के लिए भेजा है



शुक्रवार को ममता बनर्जी ने किसानों को समर्थन करते हुए ट्वीट भी किया उन्‍होंने इसमें कहा, '14 वर्ष पहले 4 दिसंबर 2006 को मैंने कोलकाता में 26 दिन की भूख हड़ताल प्रारम्भ की थी मेरी मांग थी कि कृषि भूमि का जबरन अधिकरण न किया जाए मैं उन सभी किसानों के प्रति एकजुटता व्‍यक्‍त करती हूं, जो केन्द्र द्वारा बिना चर्चा किए लाए गए कृषि कानूनों का विरोध कर रहे हैं '


ममता बनर्जी के आदेश पर टीएमसी के राज्‍यसभा सांसद भी शुक्रवार को सिंघु बॉर्डर पर किसानों से मिलने पहुंचे उन्‍होंने किसानों के बीच करीब 4 घंटे बिताए इस दौरान उन्‍होंने किसानों से उनके मुद्दों पर बात की साथ ही ममता बनर्जी का किसानों से एकजुटता जताने के लिए धन्‍यवाद दिया ममता बनर्जी ने वहां फोन पर कई किसान नेताओं से बात की है


PCB ने किया ऐलान! इस देश में खेला जाएगा एशिया कप 2021       अजीत अगरकर के नाम दर्ज हैं कई रिकॉर्ड       भारत की हुई जीत, ऑस्ट्रेलिया 11 रनों से हारा       इस नए नियम से भारत को मिली संजीवनी, जानिए इसके बारे में       टीम में न होने पर भी चहल बने हीरो, भारत को ऐसे जिताया पहला टी-20       NCB अफसरों पर एक्शन, ड्रग्स केस में भारती समेत इनसे जुड़े तार       कंगना से भिड़े दिलजीत, गुस्से में बोले पंजाबी सिंगर       नेहा-रोहनप्रीत का TV शो, शादी के बाद पहली बार दिखें साथ       किसानों के मुद्दे पर मीका सिंह ने कंगना को सुनाई खरी-खोटी       सैफ की चाहत, बेटे की इस एक्टर की तरह बॉलीवुड में हो धमाकेदार एंट्री       दिलजीत दोसांझ से पंगा लेना कंगना को पड़ा भारी       इस एक्ट्रेस ने पहनी ऐसी ड्रेस, सोशल मीडिया पर हुईं ट्रोल       जावेद जाफरी की ये बातें नहीं जानते होंगे आप       कंगना और दलजीत के फैंस में हुआ बड़ा जंग, ट्विटर पर किए ये कमेंट       इस एक्ट्रेस का सबसे बड़ा खुलासा, कहा...       बॉलीवुड के नेचुरल एक्टर, काजोल की नानी से था रिश्ता       फैशनेबल युग फैशन प्रीन्योर, चौंका दिया सबको       किसानों के प्रदर्शन पर धर्मेंद्र ने ट्वीट किया डिलीट, लोगों ने किया ट्रोल       किसानों पर बयान के बाद निशाने पर कंगना       ओम प्रकाश शर्मा ने कहा कि धांधली से चुनाव जीती BJP, 13 को करेंगे आंदोलन का ऐलान