मायावती ने कहा कि मजदूरों के पलायन के मामले पर नाटक कर रहे हैं सीएम Kejriwal

मायावती ने कहा कि मजदूरों के पलायन के मामले पर नाटक कर रहे हैं सीएम Kejriwal

बसपा (बसपा) की सुप्रीमो मायावती (Mayawati) ने दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) के उस बयान को 'नाटक' करार दिया है, जिसमें उन्होंने लोगों से राष्ट्रीय राजधानी से पलायन नहीं करने की अपील की थी साथ ही मायावती ने गरीबों, दलितों एवं आदिवासी समुदायों के लोगों का नि:शुल्क टीकाकरण किए जाने की मांग भी की है

बसपा नेता ने ट्वीट कर कहा, 'दिल्ली के सीएम ने हाथ जोड़कर है बोला कि दिल्ली के लोग पलायन न करें उन्होंने यही नाटक कोविड-19 वायरस की पहली लहर के दौरान भी किया था महाराष्ट्र, हरियाणा, पंजाब आदि राज्यों में भी अब यही देखने को मिल रहा है अब पंजाब के लुधियाना से भी बड़ी संख्या में लोग पलायन कर रहे हैं यह अति-दुःखद है '

उन्होंने आगे कहा, 'यदि इन जगहों की प्रदेश सरकारें इन लोगों में विश्वास पैदा करके उनकी जरूरतों को समय से पूरा कर देतीं तो ये लोग पलायन नहीं करते ये प्रदेश सरकारें इस मुद्दे में अपनी कमियों को छिपाने के लिए भिन्न-भिन्न तरह की नाटकबाजी कर रही हैं यह किसी से छिपा नहीं है '

1. केवल हाथ जोड़कर दिल्ली के मुख्यमंत्री का यह बोलना कि दिल्ली से लोग पलायन न करें, यही नाटक कोविड-19 के दौरान् पहले भी किया गया था. यह सब अब महाराष्ट्र, हरियाणा और पंजाब आदि राज्यों में भी देखने के लिए मिल रहा है. अब पंजाब में लुधियाना से भी लोग बहुत ज्यादा पलायन कर रहे हैं, यह अति-दुःखद. 1/3

उत्‍तर प्रदेश की पूर्व मुख्‍यमंत्री मायावती ने यह मांग भी की है कि पूरे देश में गरीबों, दलितों एवं आदिवासी समुदायों के लोगों का नि:शुल्क टीकाकरण किया जाना चाहिए और उनकी आर्थिक सहायता भी की जानी चाहिए

बता दें कि कोविड-19 की दूसरी लहर पूरे देश में जमकर कहर बरपा रही है बीते 15 दिनों से 3 लाख से ज्‍यादा और 3 दिनों से प्रतिदिन 4 लाख से ज्‍यादा मुद्दे सामने आ रहे हैं मौतों के आंकड़े भी भयावह हैं इसके चलते कई राज्‍यों और केन्द्र शासित प्रदेशों ने लॉकडाउन की घोषणा कर दी है दिल्‍ली में भी दशा बेकार हैं और कोविड-19 की पहली लहर के बाद कार्य पर लौटे श्रमिकों के सामने रोजगार का संकट खड़ा हो रहा है वे डर के कारण पलायन कर रहे हैं, जिन्‍हें रोकने के लिए केजरीवाल ने यह अपील की थी


खत्म होने लगा है महामारी की दूसरी लहर का प्रकोप, 74 दिनों बाद देश में सबसे कम सक्रिय मामले

खत्म होने लगा है महामारी की दूसरी लहर का प्रकोप, 74 दिनों बाद देश में सबसे कम सक्रिय मामले

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से शनिवार सुबह देश भर में कोविड-19 के आंकड़ों को जारी किया गया। इसके अनुसार भारत में पिछले 24 घंटों के दौरान 60,753 नए मामले सामने आए और 1,647 संक्रमितों की मौत हो गई।  स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, देश में अब कोरोना वायरस के सक्रिय मामले 74 दिनों बाद सबसे कम हैं। रिकवरी रेट बढ़कर 96.16 फीसद हो गया है और दैनिक पॉजिटिविटी रेट 2.98 फीसद है।

कोरोना वैक्सीनेशन का आंकड़ा- 27,23,88,783

देश में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस की 33,00,085 वैक्सीन लगाई गईं। इसके अलावा 97,743 लोग संक्रमण से स्वस्थ हुए। देश में महामारी से बचाव के लिए 16 जनवरी को वैक्सीनेशन अभियान की शुरुआत हुई थी। इसके तहत अब तक 27,23,88,783 खुराकें दी जा चुकी हैं।


2,86,78,390 लोग दे चुके कोरोना को मात

अब तक देश में कुल संक्रमितों का आंकड़ा 2,98,23,546 है और मरने वालों की संख्या 3,85,137 है। सक्रिय मामलों की बात करें तो फिलहाल यहां 7,60,019 लोग संक्रमण से जूझ रहे हैं और 2,86,78,390 लोग अब तक कोरोना को मात दे चुके हैं। 

भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) के अनुसार, भारत में कल कोरोना वायरस के लिए 19,02,009 सैंपल टेस्ट किए गए, कल तक कुल 38,92,07,637 सैंपल टेस्ट किए जा चुके हैं।


महामारी का वैश्विक  प्रकोप 

2019 के अंत में चीन के वुहान में कोरोना संक्रमण का पहला मामला सामने आया था। इसके बाद से अब तक पूरी दुनिया में महामारी बने इस संक्रमण ने 177,753,055 लोगों को अपने चपेट में ले लिया और 3,849,115 संक्रमितों की मौत हो चुकी है। महामारी की शुरुआत से ही दुनिया के तमाम देशों में सबसे अधिक अमेरिका के हालात खराब रहे। यहां अब तक कुल 33,519,262 लोग संक्रमित हुए और 601,281 लोगों की मौत हो चुकी है।