गुजरात कैबिनेट विस्तार: मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल की टीम में ये मंत्री होंगे शामिल, आज होगा शपथ ग्रहण

गुजरात कैबिनेट विस्तार: मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल की टीम में ये मंत्री होंगे शामिल, आज होगा शपथ ग्रहण

गांधीनगर गुजरात मंत्रिमंडल का विस्तार गुरुवार दोपहर को होगा समाचार है कि इस दौरान 27 मंत्री शपथ ले सकते हैं प्रदेश के नए सीएम भूपेंद्र पटेल की टीम में हर्ष संघवी, राघवजी पटेल को स्थान मिली है सूत्रों ने जानकारी दी थी कि गुजरात मंत्रिमंडल का गठन ‘नो रिपीट थ्योरी’ पर किया जाएगा यानि पुराने मंत्रियों को मौका नहीं मिलेगा गुरुवार दोपहर 1:30 बजे नए मंत्रियों का शपथ ग्रहण कार्यक्रम होना है इससे पहले प्रोग्राम बुधवार को किया जाना था, लेकिन बाद में इसे टाल दिया गया था  सीएम पटेल के कैबिनेट में 8 पटेल, 2 क्षत्रिय, 6 ओबीसी, 2 अनुसूचित जाति, 3 एसटी, 1 जैन, 2 ब्राह्मण और दो स्त्रियों को स्थान मिली है

ये मंत्री होंगे शामिल
हर्ष संघवी (मजूरा), जूती वाघआनी (भावनगर), नरेश पटेल (गणदेवी), प्रदीप परमार (असारवा), गजेंद्र परमार (प्रांतिज), निमिषा सुथार (मोरवा हड़फ), देवा मालम कोड़ी (केशोद), राघवजी पटेल (जामनगर ग्राम्य), अरविंद रैयानी, आर सी मकवाना (महुवा) आज दोपहर राजधानी गांधीनगर स्थित राजभवन में मंत्री पद की शपथ लेंगे

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, कुछ नेताओं ने मंत्रिमंडल में स्थान न मिलने की संभावनाओं पर विरोध जताया है मुख्यमंत्री पटेल ने सोमवार को गुजरात के 17वें सीएम के तौर पर शपथ ली थी इससे पहले प्रदेश की कमान विजय रूपाणी के हाथों में थी बीजेपी के इस कदम को 2022 के अंत में होने वाले गुजरात विधानसभा चुनाव की तैयारियों के रूप में भी देखा जा रहा है 2017 विधानसभा चुनाव में पार्टी ने 182 में से 99 सीटों पर जीत हासिल कर सत्ता बनाई थी

यह समाचार लगातार सामने आ रही है कि गुजरात सरकार के नए मंत्रिमंडल में पुराने किसी भी मंत्री को स्थान नहीं मिलेगी, लेकिन प्रदीपसिंह जडेजा, सौरभ पटेल, जयेश रडाडिया, गनपत वसावा, दिलीप ठाकोर के मंत्री बनने की थोड़ी-बहुत संभावनाएं हैं फिलहाल, कई मंत्रियों के पास नयी जिम्मेदारी के विषय में कॉल पहुंचना प्रारम्भ हो गए हैं

बीजेपी विधायक नरेश पटेल ने कहा, ‘मुझे कुछ मिनट पहले ही पार्टी के प्रदेश प्रमुख सीआर पाटिल की तरफ से कॉल आया है मुझ जैसे आदमी को प्रदेश कैबिनेट में शामिल करने के लिए मैं पीएम नरेंद्र मोदी, अमित शाह और जेपी नड्डा का आभारी हूं 

आधुनिक वार्निग प्रणाली से कारों की तेज रफ्तार पर ब्रेक लगाने की तैयारी, दुर्घटनाओं पर लगेगी लगाम

आधुनिक वार्निग प्रणाली से कारों की तेज रफ्तार पर ब्रेक लगाने की तैयारी, दुर्घटनाओं पर लगेगी लगाम

विभिन्न भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थानों (आइआइटी) के शोधकर्ता वाहनों के लिए अपनी तरह के पहले 'स्मार्ट स्पीड वार्निंग सिस्टम' को विकसित करने की दिशा में काम कर रहे हैं, जो सड़क के बुनियादी ढांचे और भौगोलिक स्थिति के आधार पर चालक को वाहन की तेज गति से हो सकने वाली दुर्घटनाओं से बचने के लिहाज से सतर्क करेगा।सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक भारत में करीब 70 फीसदी सड़क दुर्घटनाएं वाहन की तेज गति के कारण होती हैं। ऐसी दुर्घटनाओं को कम से कम करने के लिए सरकार ने एक जुलाई, 2019 के बाद बिकने वाली सभी नई कारों में गति नियंत्रण उपकरण लगाना अनिवार्य कर दिया है। वाहन की गति 80 किलोमीटर प्रति घंटे से अधिक होने पर यह उपकरण चेतावनी स्वरूप बीच-बीच में बीप की आवाज करेगा और 120 किलोमीटर प्रति घंटे से अधिक रफ्तार होने पर बीप की आवाज लगातार होगी।


हालांकि आइआइटी गुवाहाटी और आइआइटी बंबई के शोधकर्ताओं का मानना है कि गति नियंत्रण उपकरण में उतनी बुद्धिमता नहीं है कि यह पहाड़ी क्षेत्रों, मैदानी इलाकों या रेगिस्तानी स्थानों समेत हर जगह प्रभावी रूप से काम कर सके।आइआइटी गुवाहाटी में सिविल इंजीनियरिंग के प्रोफेसर अखिलेश कुमार मौर्य ने कहा, 'स्मार्ट स्पीड वार्निंग सिस्टम विकसित करने की जरूरत है जो सड़क के ढांचे के मुताबिक गति के बारे में बता सके और तेज गति से हो सकने वाले हादसों को रोका जा सके।'