आसमान में स्पाइसजेट प्लेन की विंडशील्ड क्रैक

आसमान में स्पाइसजेट प्लेन की विंडशील्ड क्रैक

नई दिल्ली मंगलवार को स्पाइसजेट के कांडला-मुंबई विमान को उस समय आपात स्थिति में मुंबई में लैंड करना पड़ा जब बीच आकाश में विमान का शीशा या बाहरी विंडशील्ड में दरारें आने लगी हालांकि गनीमत यह रही है कि विमान में सवार सभी यात्री और चालक दल के सदस्यों को सुरक्षित जमीन पर उतार लिया गया विमान परिचालन से संबंधित गड़बड़ियों का एक दिन में यह दूसरा दुर्भाग्यपूर्ण मामला है इससे पहले स्पाइसजेट का ही एक अन्य विमान में तकनीकी खराबी आ गई जिसके कारण इसे पाक के कराची में आपात लैंडिंग करनी पड़ी यह विमान दिल्ली से दुबई जा रहा था

23 हजार फुट की ऊंचाई पर घटना
अधिकारियों ने बोला कि स्पाइसजेट की कांडला-मुंबई उड़ान जब 23,000 फुट की ऊंचाई पर थी तो इसके विंडशील्ड का बाहरी शीशा टूट गया उन्होंने बताया कि इसके बाद पायलटों ने मुंबई हवाई अड्डे पर अहमियत के आधार पर विमान को उतारा नवीनतम घटना पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए स्पाइसजेट ने कहा, ‘पांच जुलाई, 2022 को, स्पाइसजेट क्यू 400 विमान एसजी 3324 (कांडला- मुंबई) उड़ान पर था जब यह 23,000 फुट की ऊंचाई पर था तो इसकी पी 2 साइड के विंडशील्ड का बाहरी शीशा टूट गया दबाव सामान्य देखा गया विमान मुंबई में सुरक्षित उतर लिया गया और सभी यात्रियों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया

17 दिनों में स्पाइसजेट के विमान में तकनीकी खराबी की यह सातवीं घटना
23,000 फुट की ऊंचाई पर विंडशील्ड में दरार आने के बाद मंगलवार को मुंबई हवाई अड्डे पर अहमियत के आधार पर उतारा गया डीजीसीए के ऑफिसरों के अनुसार पिछले 17 दिनों में स्पाइसजेट के विमान में तकनीकी खराबी की यह कम से कम सातवीं घटना है इससे पहले दिन में, स्पाइसजेट की दिल्ली-दुबई उड़ान को ईंधन संकेतक में खराबी दिखने की वजह से कराची की ओर मोड़ दिया गया ऑफिसरों ने बोला कि नागर विमानन महानिदेशालय (डीजीसीए) मंगलवार को हुई दोनों घटनाओं के साथ पिछली पांच घटनाओं की भी जांच कर रहा है

इससे पहले स्पाइसजेट का एक अन्य विमान बोइंग 737 मैक्स जो दिल्ली से दुबई जा रहा था, में फ्यूल इंडिकेटर में गड़बड़ी आ गई है अचानक बाएं टैंक में ईंधन की मात्रा में कमी दिखने लगी जिसके कारण विमान को कराची की ओर मोड़ दिया गया ऑफिसरों ने बोला कि जब कराची हवाई अड्डे पर जांच की गई, तो बाएं टैंक से कोई रिसाव नहीं पाया गया यानी इंडिकेटर में ही गड़बड़ी थी