केन्द्र सरकार ने ‘अनलॉक-2’ के लिए दिशा-निर्देश किए जारी व बताया क्या रहेगा बंद व क्या खुला

केन्द्र सरकार ने ‘अनलॉक-2’ के लिए दिशा-निर्देश किए जारी व बताया क्या रहेगा बंद व क्या खुला

 महाराष्ट्र, दिल्ली व हरियाणा ऐसे उन राज्यों में से हैं जो कोरोना वायरस (Coronavirus) के गंभीर मरीजों के उपचार के लिए प्लाज्मा थेरेपी का प्रयोग करने पर जोर दे रहे हैं। 

उधर देश में लगातार छठे दिन सोमवार को कोविड-19 के नए मामलों की संख्या 15 हजार से अधिक रही। वहीं केन्द्र सरकार ने सोमवार रात को ‘अनलॉक-2’ के लिए दिशा-निर्देश जारी किए व बोला कि शैक्षणिक संस्थान, मेट्रो रेल सेवाएं, सिनेमाघर व जिम अभी बंद रहेंगे।

कोरोना वायरस संक्रमण की वजह से लागू लॉकडाउन में ढील देने के क्रम में पूर्व में ‘अनलॉक-1’ के तहत कुछ ढील दी गई थी व अब सरकार ने ‘अनलॉक-2’ की घोषणा की है। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने ‘अनलॉक-2’ के तहत व्यापक दिशा-निर्देश जारी किए जो 30 जून को ‘अनलॉक-1’ के पूरा होने के बाद बुधवार एक जुलाई से लागू होंगे।

नए दिशा-निर्देशों में बोला गया है कि स्कूल, कॉलेज व कोचिंग संस्थान 31 जुलाई तक बंद रहेंगे। इसके अतिरिक्त मेट्रो रेल, सिनेमाघर, जिम, स्विमिंग पूल, मनोरंजन पार्क, थिएटर, बार, ऑडिटोरियम, असेंबली हॉल व ऐसे अन्य स्थल भी बंद रहेंगे।

इसी तरह सामाजिक, सियासी , खेल, मनोरंजन, शिक्षण, सांस्कृतिक, धार्मिक प्रोग्राम व अन्य बड़े कार्यक्रमों को अभी मंजूरी नहीं मिलेगी।  दिशा-निर्देशों में बोला गया कि घरेलू व अंतर्राष्ट्रीय यात्री उड़ानों ( वंदे भारत मिशन के तहत) जो अभी सीमित रूप में जारी हैं, उनका चरणबद्ध ढंग से विस्तार किया जाएगा।

बता दें कि अनलॉक-2 के दिशा-निर्देश जारी होने से पहले महाराष्ट्र व तमिलनाडु ने बिना व रियायत दिए लॉकडाउन की अवधि 31 जुलाई तक बढ़ा दी है।

गौरतलब है कि महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे ने सोमवार को कोविड-19 के गंभीर मरीजों के उपचार के लिए ‘प्लाज्मा थेरेपी- सह परीक्षण’ परियोजना की शुरूआत की। प्रदेश के चिकित्सा एजुकेशन विभाग के एक ऑफिसर ने इसे संसार में अपनी तरह की सबसे बड़ी पहल बताया।  प्लाज्मा थेरेपी में ऐसे लोगों के रक्त से प्लाज्मा लिया जाता है जो इस संक्रमण से अच्छा हो चुके हैं। इसके बाद वह प्लाज्मा थेरेपी से उपचार करवा रहे रोगियों को दिया जाता है।

वहीं राष्ट्रीय राजधानी में दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने कोविड-19 से संक्रमित गंभीर मरीजों की जान बचाने के लिए ‘प्लाज्मा बैंक’ स्थापित करने की घोषणा की है। सीएम ने वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिए एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए बोला कि यह बैंक दिल्ली सरकार द्वारा संचालित यकृत एवं पित्त विज्ञान संस्थान में स्थापित किया जाएगा। डॉक्टरों व अस्पतालों को मरीज की आवश्यकता को देखते हुए प्लाज्मा के लिए यहां सम्पर्क करना होगा।