अमितजी, आपके कारण जम्मू कश्मीर में हुआ नए युग का सूत्रपात : जस्टिस अरुण मिश्रा

अमितजी, आपके कारण जम्मू कश्मीर में हुआ नए युग का सूत्रपात : जस्टिस अरुण मिश्रा

राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (NHRC) के अध्यक्ष जस्टिस अरुण मिश्रा ने मंगलवार को गृहमंत्री अमित शाह से कहा कि 'आपके अथक प्रयासों से जम्मू-कश्मीर व उत्तर-पूर्व में शांति व कानून व्यवस्था के एक नए युग का सूत्रपात हुआ है।' एनएचआरसी के स्थापना दिवस कार्यक्रम में आये गृहमंत्री अमित शाह का अभिनंदन करते हुए मंगलवार को जस्टिस मिश्रा ने यह बात कही। साथ ही बाहरी ताकतों द्वारा भारत पर मानवाधिकार अधिकारों के हनन का छद्म आरोप लगाने और देश विदेश में हो रही राजनीतिक हिंसा पर भी चिंता जताई।

मोदी सरकार के सत्ता में आने के बाद गृहमंत्री अमित शाह ने जम्मू कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले संविधान के अनुच्छेद 370 को समाप्त करने और जम्मू कश्मीर को दो भागों में बांट कर जम्मू कश्मीर को एक और लद्दाख को दूसरा केंद्र शासित प्रदेश बनाने का प्रस्ताव संसद में पेश कर पारित कराया था। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह की मौजूदगी में जस्टिस मिश्रा इसी ओर इशारा कर रहे थे।


एनएचआरसी अध्यक्ष जस्टिस मिश्रा ने मानवाधिकारों के प्रति चिंता जताते हुए कहा कि मानव ही मानवता के विनाश पर आमादा है। यह दुर्भाग्य है कि देश विदेश में राजनीतिक हिंसा आज भी समाप्त नहीं हुई है। जस्टिस मिश्रा ने कहा कि निर्दोष व्यक्तियों के हत्यारों को गौरवान्वित नहीं किया जा सकता। ऐसे छद्म आतंकवादियों को स्वतंत्रता सेनानी कहना अनुचित है हालांकि उन्होंने इस बात को ज्यादा विस्तार नहीं दिया।


जस्टिस मिश्रा ने पुलिस जांच तंत्र को और सुदृढ़ बनाए जाने पर दिया और जोर

उन्होंने कहा कि समाजसेवी संस्थाओं और मानवाधिकार संरक्षकों को राजनैतिक हिंसा व आतंकवाद की घोर निंदा करनी चाहिए। इस संबंध में उदासीनता कट्टरवाद को जन्म देगी और इतिहास हमें इसके लिए कभी क्षमा नहीं करेगा। समय आ गया है जब हमें इसका डटकर प्रतिरोध करना होगा, कम से कम इस हिंसा के विरुद्ध आवाज तो उठानी ही होगी। उन्होंने यह भी कहा कि बाहरी ताकतों द्वारा भारत पर मानवाधिकारों के हनन का छद्म आरोप लगाना सामान्य बात हो गई है। इसके प्रतिकार के साथ ही संस्कृति तथा प्रचलित भाषाओं को समूल नष्ट करने के प्यासों का पुरजोर प्रतिरोध भी आवश्यक है। जस्टिस मिश्रा ने पुलिस जांच तंत्र को और सुदृढ़ बनाए जाने पर जोर देते हुए कहा कि पुलिस अन्वेषण प्रणाली को और अधिक प्रभावी एवं स्वतंत्र बनाए जाने की आवश्यकता है। यह प्रणाली ऐसी हो कि सीबीआइ जांच की जरूरत ही न पड़े। पुलिस मुठभेड़ों पर टिप्पणी करते हुए उन्होंने कहा कि तत्काल न्याय की आड़ में पुलिस द्वारा मुठभेड़ और इस हेतु उकसाना असंवैधानिक और निंदनीय कृत्य है। हमें इस बर्बरता से मुक्ति पाने का प्रयास करना होगा।


आरक्षण का लाभ अंतिम पंक्ति तक पहुंचाने के प्रयासों पर जोर देते हुए जस्टिस मिश्रा ने कहा आरक्षण का लाभ उन्नत आरक्षित वर्ग के उपभोग कर लेने के कारण अभी तक इस वर्ग की पंक्ति के अंतिम व्यक्ति तक लाभ नहीं पहुंच पाया है।

जस्टिस मिश्रा ने मानवाधिकारों की रक्षा के लिए आयोग द्वारा किये जा रहे कामों और निस्तारित की गई शिकायतों का ब्योरा देते हुए कहा कि आयोग का प्रयास अपने प्रतीक चिह्न की मूल भावना को सार्थक करना है जो कि यह इंगित करता है कि सूर्य की किरणें आशा व गति की सूचक हैं। वे बिना किसी भेदभाव के सबको लाभ पहुंचाती हैं।


आधुनिक वार्निग प्रणाली से कारों की तेज रफ्तार पर ब्रेक लगाने की तैयारी, दुर्घटनाओं पर लगेगी लगाम

आधुनिक वार्निग प्रणाली से कारों की तेज रफ्तार पर ब्रेक लगाने की तैयारी, दुर्घटनाओं पर लगेगी लगाम

विभिन्न भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थानों (आइआइटी) के शोधकर्ता वाहनों के लिए अपनी तरह के पहले 'स्मार्ट स्पीड वार्निंग सिस्टम' को विकसित करने की दिशा में काम कर रहे हैं, जो सड़क के बुनियादी ढांचे और भौगोलिक स्थिति के आधार पर चालक को वाहन की तेज गति से हो सकने वाली दुर्घटनाओं से बचने के लिहाज से सतर्क करेगा।सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक भारत में करीब 70 फीसदी सड़क दुर्घटनाएं वाहन की तेज गति के कारण होती हैं। ऐसी दुर्घटनाओं को कम से कम करने के लिए सरकार ने एक जुलाई, 2019 के बाद बिकने वाली सभी नई कारों में गति नियंत्रण उपकरण लगाना अनिवार्य कर दिया है। वाहन की गति 80 किलोमीटर प्रति घंटे से अधिक होने पर यह उपकरण चेतावनी स्वरूप बीच-बीच में बीप की आवाज करेगा और 120 किलोमीटर प्रति घंटे से अधिक रफ्तार होने पर बीप की आवाज लगातार होगी।


हालांकि आइआइटी गुवाहाटी और आइआइटी बंबई के शोधकर्ताओं का मानना है कि गति नियंत्रण उपकरण में उतनी बुद्धिमता नहीं है कि यह पहाड़ी क्षेत्रों, मैदानी इलाकों या रेगिस्तानी स्थानों समेत हर जगह प्रभावी रूप से काम कर सके।आइआइटी गुवाहाटी में सिविल इंजीनियरिंग के प्रोफेसर अखिलेश कुमार मौर्य ने कहा, 'स्मार्ट स्पीड वार्निंग सिस्टम विकसित करने की जरूरत है जो सड़क के ढांचे के मुताबिक गति के बारे में बता सके और तेज गति से हो सकने वाले हादसों को रोका जा सके।'