भाई की सुख-समृद्धि के लिए आज करमा एकादशी का व्रत रखेंगी बहनें

भाई की सुख-समृद्धि के लिए आज करमा एकादशी का व्रत रखेंगी बहनें

शुक्रवार को ही पद्मा एकादशी है। बिहार झारखंड में इसे ही करमा एकादशी के नाम से जाना जाता है। बहन अपने भाइयों के लिए इस व्रत को करती हैं। रात्रि में झुर की पूजा करती हैं। करमी और बेलोधर के पत्तों का विशेष रूप से प्रयोग करती हैं। आचार्य लाल मोहन शास्त्री ने बताया कि शनिवार प्रात: 5.56 बजे से पहले पारण कर लेना चाहिए। प्रथम झुर में दही भात दाल करमी के पत्ता डालना चाहिए। झुर को विसर्जन करने के बाद घर में नली इत्यादि में दही भात डालने के बाद स्वयं करमी के पत्ता के साथ दही भात बासी भोजन करने की परंपरा है। इस दिन भोजन नहीं बनाया जाता है।

यह जानना है आवश्यक

जो केवल एकादशी व्रत करते हैं। वे मध्याह्न 12 बजे के बाद 18 सितंबर दिन शनिवार के रोटी इत्यादि से पारण करें। क्योंकि इस दिन वामन अवतार हुआ है। इसलिए इसे वामन द्वादशी भी कहा जाता है। एकादशी के पहले और दूसरे दिन भात नहीं भोजन करना चाहिए।


विश्वकर्मा पूजा आज : व्यवसाय से जुड़ा है धार्मिक महत्व

संवाद सहयोगी, दाउदनगर (औरंगाबाद)। शुक्रवार यानि 17 सितंबर को धूमधाम से विश्वकर्मा भगवान की पूजा अर्चना की जाएगी। किसी भी तरह के वाहन रखने वाले, किसी भी प्रकार के मशीनरी रखने, बिक्री करने वाले, सामग्री निर्माण से जुड़े उपकरण रखने वाले विश्वकर्मा पूजा करते हैं। यह व्यवसाय से जुड़ा धार्मिक अनुष्ठान है। आचार्य लाल मोहन शास्त्री ने बताया कि विश्वकर्मा वैदिक देवता हैं। इनकी चर्चा चारों वेद में है। यज्ञ में मण्डप पूजा, कुंड पूजा एवं अरणी मंथन के समय अग्नि निकलने से पहले पूजा की जाती है। यमलोक, स्वर्गलोक, लंका, द्वारिकापुरी, सुदामा पूरी का निर्माण भगवान विश्वकर्मा ने किया है।

 
बताया कि कहा जाता है कि विश्वकर्मा जी के पुत्र मय ने राजा युधिष्ठिर की यज्ञ शाला का निर्माण किया था। मगध में प्रचलित कहावत है कि भगवान विश्वकर्मा जी ने एक ही रात में देव, देवकुंड और भरारी में मन्दिर निर्माण किया था। परंतु भरारी में मन्दिर निर्माण प्रारम्भ करते ही सबेरा हो गया था। अत: मंदारेश्वर महादेव का मंदिर नहीं बन सका। ऐसे भी कहा जाता है कि देव सूर्य कुंड का जल कांवर में लेकर प्रथम उमगा में और वहां से चलकर देवकुंड में जल एक ही दिन में चढ़ाने की पूर्व परंपरा मगध की थी। जो लुप्त हो गई। बताया कि विश्वकर्मा जी की पूजा अर्चना पहले केवल बड़ी बड़ी कम्पनियों में होती थी। परन्तु आज घर घर होने लगी है।


अगर आपके पास आकर बैठ जाए यह पक्षी तो समझ लीजिये...

अगर आपके पास आकर बैठ जाए यह पक्षी तो समझ लीजिये...

इंसान की मृत्यु एक सार्वभौमिक क्रिया हैं जिसका हर किसी के साथ होना तय है। ऐसे में फिर भी सभी को मौत का भय सताता रहता है और सभी मौत से डरते हैंमौत का संकेत ऐसे में क्या आप जानते हैं कि मौत का पता कैसे चल सकता है, अगर नहीं तो आज हम आपको बताते हैं कि शिवपुराण में इसके संकेतों के बारे में बताया गया है। 

मिलते है ये संकेत:

# शिवपुराण के अनुसार जिस व्यक्ति के सिर पर गिद्ध, कौवा या कबूतर आकर बैठ जाता है उसकी मौत एक महीने में होना तय होती है।

# अगर किसी व्यक्ति का शरीर अचानक पीला व सफेद पड़ जाए अौर लाल निशान दिखाई दे तो समझ जाइए कि व्यक्ति की मृत्यु 6 महीने के भीतर होने वाली है।

# जिस मनुष्य की आंख, कान, मुंह अौर जीभ ठीक से काम न करें उसकी भी मृत्यु 6 महीने के अंदर होना तय होती है।

# जिस व्यक्ति को चंद्रमा या सूर्य के आस-पास काला या लाल घेरा दिखाई देने लगे तो समझ जाएं उस इंसान की मौत 15 दिन के अंदर होने वाली है।

# जब किसी इंसान को जल, घी, तेल या दर्पण में अपनी परछाई न दिखाई दें तो उसकी आयु 6 महीने से अधिक नहीं रहती है और वह मरने वाला होता है।