100 साल से भी पहले भारत से चुरायी गयी अन्नापूर्णा की अनोखी मूर्ति लौटाएगा यह देश

100 साल से भी पहले भारत से चुरायी गयी अन्नापूर्णा की अनोखी मूर्ति लौटाएगा यह देश

टोरंटो। कनाडा का एक विश्वविद्यालय ‘ऐतिहासिक गलतियों को सही करने’ और ‘उपनिवेशवाद की अप्रिय विरासत’ से उबरने की कोशिश के तहत हिंदू देवी अन्नपूर्णा की अनोखी मूर्ति भारत को लौटाएगा, जिसे एक सदी से अधिक समय पहले भारत से चुराकर लाया गया था। यह मूर्ति मैकेंजी आर्ट गैलरी में रेजिना विश्वविद्यालय के संग्रह का हिस्सा है। यह मूर्ति नोर्मान मैकेंजी के 1936 के मूल वसीयत का हिस्सा है। विश्वविद्यालय ने बृहस्पतिवार को एक बयान में बताया कि कलाकार दिव्या मेहरा ने इस तथ्य को ओर ध्यान आकृष्ट किया कि इस मूर्ति को एक सदी से भी पहले गलत तरीके से लाया गया। जब वह मैकेंजी के स्थायी संग्रह को खंगाल रही थीं और अपनी प्रदर्शनी की तैयारी कर रही थीं तब उनका ध्यान इस ओर गया। बयान के अनुसार, 19 नवंबर को इस मूर्ति का डिजिटल तरीके से लौटाने का कार्यक्रम हुआ और अब उसे शीघ्र ही वापस भेजा जाएगा।

विश्वविद्यालय के अंतरिम अध्यक्ष और कुलपति डॉ थॉमस चेज ने इस मूर्ति को आधिकारिक रूप से भारत भेजने के लिए कनाडा में भारतीय उच्चायुक्त अजय बिसारिया से डिजिटल तरीके से मुलाकात की। बिसारिया ने कहा, ‘‘हम खुश हैं कि अन्नपूर्णा की यह अनोखी मूर्ति अपनी गृह वापसी की राह पर है। मैं भारत को इस सांस्कृतिक विरासत को लौटाने को लेकर सक्रिय कदम उठाने को लेकर रेजिना विश्वविद्यालय के प्रति आभारी हूं।’’ विश्वविद्यालय ने कहा कि अपनी गहन छानबीन के आधार पर मेहरा इस निष्कर्ष पर पहुंचीं कि 1913 में अपनी भारत यात्रा के दौरान मैकेंजी की नजर इस प्रतिमा पर पड़ी और जब एक अजनबी को मैकेंजी की इस मूर्ति को पाने की इच्छा का पता चला तो उसने वाराणसी में गंगा के घाट पर उसके मूल स्थान से उसे चुरा लिया।


परमाणु बम बनाने की नई 'फैक्‍ट्री' बना रहा पाकिस्‍तान, सैटलाइट तस्‍वीरों से खुलासा

परमाणु बम बनाने की नई 'फैक्‍ट्री' बना रहा पाकिस्‍तान, सैटलाइट तस्‍वीरों से खुलासा

भारत से जारी तनाव के बीच पाकिस्तान अपनी परमाणु हथियारों की ताकत को बढ़ा रहा है। सैटेलाइट तस्वीरों से खुलासा हुआ है कि पाकिस्तान अपने चश्मा परमाणु संयंत्र में परमाणु बम बनाने के लिए प्लूटोनियम पृथक्करण केंद्र का काफी विस्तार किया है। पाकिस्तान सरकार ने अपने परमाणु संयंत्र के विकास कार्यक्रम को बेहद गुपचुप तरीके से 2018 के मध्य में शुरू किया था। अब हाल में ही मैक्सार टेक्नोलॉजी की सैटेलाइट तस्वीरों से यह खुलासा हुआ है कि सितंबर 2020 तक इस कार्यक्रम को पूरा कर लिया गया है। (तस्वीरें- Maxar Technologies)

परमाणु बम बनाने के लिए प्लूटोनियम पृथक्करण केंद्र बना रहा पाक

दुनियाभर के परमाणु कार्यक्रम पर नजर रखने वाली संस्था इंस्टीट्यूट फॉर साइंस एंड इंटरनेशनल सिक्योरिटी (ISIS) ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि पाकिस्तान के चश्मा परमाणु संयंत्र में प्लूटोनियम के रिप्रोसेसिंग प्लांट को साल 2007 में ही पहचान लिया गया था। हालांकि, 2015 में पाकिस्तान इस परमाणु संयंत्र को चालू कर पाया था। चश्मा एक्सटेंशन प्लांट में परमाणु बम को बनाने के लिए ज्यादा मात्रा में प्लूटोनियम को इकट्ठा किया जा रहा है। (तस्वीरें- Maxar Technologies)

चीन की मदद से पाकिस्तान ने विकसित किया परमाणु संयंत्र

चश्मा परमाणु संयंत्र को पाकिस्तान ने कनाडा की मदद से 1972 में शुरू किया था। इस संयंत्र में चार 300 मेगावाट के प्रेशराइज्ड वॉटर रिएक्टर ऑपरेशनल हैं। जिसमें से 2, 3 और चार को चीन की मदद से शुरू किया गया है। अब पाकिस्तान इस संयंत्र में भारी मात्रा में प्लूटोनियम का निर्माण कर रहा है। जिसका इस्तेमाल भविष्य में परमाणु बम को बनाने के लिए किया जा सकता है। बता दें कि पाकिस्तान परमाणु नियामक प्राधिकरण इस केंद्र की देखरेख करती है।

कहां स्थित है पाकिस्तान का चश्मा परमाणु संयंत्र

चश्मा परमाणु संयंत्र पाकिस्तान की राजधानी इस्लामाबाद से लगभग 250 किलोमीटर दूर मियांवाली जिले में स्थित है। यह संयंत्र पाकिस्तान और चीन के बीच परमाणु हथियारों और ऊर्जा के क्षेत्र में बढ़ते सहयोग का उदाहरण है। पिछले कुछ समय से पाकिस्तान बिजली की गंभीर कमी से जूझ रहा था। इसलिए पाकिस्तान इन रिएक्टरों की मदद से बड़ी मात्रा में बिजली उत्पादन की योजना भी बना रहा है। पाकिस्तान अपनी ऊर्जा जरूरतों के लिए परमाणु संयंत्रों पर ही आश्रित होना चाहता है क्योंकि उसके पास हाइड्रो पावर से बिजली बनाने के संसाधन सीमित हैं।

भारत-पाक दोनों के परमाणु बम काफी ताकतवर

आज दुनिया के पास इससे कई गुना ज्यादा क्षमता वाले परमाणु बम हैं। ऐसे में परमाणु युद्ध की कल्पना ही कंपा देती है। भारत और पाकिस्तान दोनों के पास न्यूक्लियर हथियार को ले जाने वाले मिसाइल हैं। खास बात यह है कि दोनों देश एक-दूसरे के आखिरी कोने तक हमले की क्षमता वाले मिसाइल विकसित कर चुके हैं। भारत के पास तो 5000 किलोमीटर तक मार करने वाली मिसाइल है, जो पाकिस्तान के बाहर भी हमला करने की क्षमता रखती है। पाकिस्तान के पास भी न्यूक्लियर हथियार ले जाने वाले मिसाइल है, जो 2,750 किलोमीटर तक लक्ष्य साध सकता है।

चीन, पाकिस्तान के पास भारत से ज्यादा एटम बम

SIPRI के मुताबिक चीन के पास भारत से दोगुने 320 ऐटमी हथियार हैं जबकि पाकिस्तान के पास 160 परमाणु वेपन है। भारत के पास 150 परमाणु हथियार है। चीन ने पिछले एक साल में 30 परमाणु हथियार बढ़ाए हैं, वहीं भारत ने 10 एटम बम। भले ही चीन और पाकिस्तान के पास भारत के मुकाबले परमाणु हथियार ज्यादा हों लेकिन नई दिल्ली अपने न्यूक्लियर वेपन की क्षमता को लेकर आश्वस्त है। यही नहीं, भारत लगातार अपने एटमी हथियारों को उन्नत कर रहा है। जमीन से हवा तक भारत की एटमी ताकत बेहद मजबूत है।


भारत ने गवाई तीन मैच की वन-डे सीरीज, जाने भारत-ऑस्ट्रेलिया के बीच टी-20 सीरीज का पूरा शेड्यूल       हरियाणा में कोविड-19 मरीजों की मृत्यु का आंकड़ा हुआ बढ़कर इतना, जाने खबर       सिंघु बॉर्डर पर कोविड-19 वायरस के दौरान प्रदर्शनकारी किसानों में फैला इन बीमारियों का कहर       कजियाणा के नजदीक वन विभाग की ओर से बनाए गए बांध के निर्माण में हुआ यह बड़ा घोटाला, जाने केस दर्ज       दुल्हन बन डायन ने मचाया कोहराम,तस्वीरें देख फैंस हुए घायल       अदा शर्मा के बाद Monalisa ने कराया सिर्फ फूलों वाली ड्रेस में फोटोशूट       क्या नई शिक्षा नीति में खत्म हो जाएगा SC/ST आरक्षण? जानें सच्चाई       कियारा आडवाणी की फिल्म इंदू की जवानी का सॉन्ग दिल तेरा रिलीज       महंगा हो गया LPG Cylinder, जानें नई कीमत       अपराधी गिरोह कोविड-19 का नकली टीका बेच सकते हैं: इंटरपोल की चेतावनी       PM Kisan की सातवीं किस्त का कर रहे इंतजार तो यहां जानें कहां अटका है आपका 2000 रुपया       बासी रोटियां खाने के ये फायदे जानकर इन्हें देखकर नहीं बनाएंगे मुंह!       आयुर्वेद के अनुसार सर्दियों में हर व्यक्ति को करना चाहिए इन पांच चीजों का सेवन       दिशा पाटनी ने शेयर की बोल्ड फोटो, यूजर्स करने लगे ट्रोल, कहा- मास्क तो पहन लो दीदी       दिशा पाटनी का ब्लू ड्रेस में ग्लैमरस लुक, फैन्स बोले- ब्यूटी क्वीन       भारत-बांग्लादेश के बीच रोहिंग्या (Rohingya Muslims) के साथ-साथ कोरोना वैक्सीन पर होगी बात, 17 दिसंबर को पीएम मोदी और शेख हसीना की मीटिंग       गोविंदा ने आदित्य नारायण के वेडिंग रिसेप्शन में अपने ही गाने पर किया डांस, पत्नी सुनीता ने भी दिया साथ       भाजपा राज्यों के शीर्ष नेताओं को राष्ट्रीय राजनीति में लाएगी, बिहार के बाद कर्नाटक में भी बदलाव के आसार       हथेली में ऐसी रेखा होने पर नौकरी में आती है बाधाएं, जानें इसके बारें में...       परमाणु बम बनाने की नई 'फैक्‍ट्री' बना रहा पाकिस्‍तान, सैटलाइट तस्‍वीरों से खुलासा