हिंदुस्तान से अपने देश तुरंत लौट आएं सभी लोग, अमेरिका की अपने नागरिकों से अपील

हिंदुस्तान से अपने देश तुरंत लौट आएं सभी लोग, अमेरिका की अपने नागरिकों से अपील

वॉशिंगटन: Covid-19 के मामलों में बेतहाशा वृद्धि को देखते हुए अमेरिका ने अपने नागरिकों से हिंदुस्तान की यात्रा नहीं करने की अपील की है और शुक्रवार को उसने उनसे अपील की कि वर्तमान में उपस्थित उड़ानों से वे स्वदेश लौट आएं विदेश विभाग ने स्वास्थ्य अलर्ट जारी कर बोला कि यूनाइटेड एयरलाइंस और एअर इंडिया वर्तमान में हिंदुस्तान से अमेरिका के लिए साप्ताहिक सीधी उड़ानों का संचालन कर रहे हैं

एयर फ्रांस, लुफ्थहांसा और कतर एयरवेज पर पेरिस, फ्रैंकफर्ट और दोहा होते हुए भी उड़ानों का विकल्प उपस्थित है स्वास्थ्य अलर्ट में बोला गया है कि अमेरिका के जो नागरिक हिंदुस्तान से आना चाहते हैं उन्हें एयरलाइन के माध्यम से टिकट बुक करने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है

इसने बोला कि अमेरिका की यात्रा करने वाले किसी भी आदमी के लिए (दो साल एवं इससे अधिक के) आवश्यक है कि वह यात्रा से तीन दिन पहले Covid-19 की जाँच कराए और विमान में सवार होने से पहले नेगेटिव रिपोर्ट होना महत्वपूर्ण है यात्रियों को Covid-19 से उबरने का दस्तावेज दिखाना चाहिए

इसने बोला कि अमेरिका पहुंचने पर यात्रियों को यात्रा बाद दिशानिर्देशों का पालन करना चाहिए अमेरिका ने इस सप्ताह हिंदुस्तान को लेकर यात्रा परामर्श जारी किया था और अपने नागरिकों से अपील की थी कि वहां Covid-19 के मामलों में बेतहाशा वृद्धि के कारण हिंदुस्तान की यात्रा नहीं करें


नेपाल में मंडरा रहा बाढ़ का खतरा, तमाकोशी नदी के किनारे रहने वाले लोगों के लिए जारी हुई चेतावनी

नेपाल में मंडरा रहा बाढ़ का खतरा, तमाकोशी नदी के किनारे रहने वाले लोगों के लिए जारी हुई चेतावनी

नेपाल में बाढ़ का खतरा बढ़ गया है। ताजा रिपोर्ट के मुताबिक, डोलखा जिला प्रशासन (Dolakha district) ने तमाकोशी नदी के किनारे रहने वाले लोगों के लिए बाढ़ की चेतावनी जारी की है। भूस्खलन ने रोंगक्सिया शहर (RongXia city) टिंगरी काउंटी (Tingri County)के पास नदी प्रणाली को क्षतिग्रस्त कर दिया है। यह अचानक बाढ़ का कारण बन सकता है।

बाढ़ में 11 लोगों की मौत, 25 लोग लापता

बता दें कि सिंधुपालचोक जिले में लगातार हो रही बारिश के कारण भूस्खलन और बाढ़ ने 11 लोगों की जान ले ली है। वहीं, 25 लोगों के लापता हो चुके हैं। मृतकों में एक भारतीय और दो चीनी नागरिक शामिल हैं। तीनों मृतक विदेशी नागरिक हैं और ये एक चीन की कंपनी के लिए काम कर रहे थे।

जिला प्रशासन के मुताबिक तीनों मृतक इलाके में चल रही एक विकास परियोजना में श्रमिक के तौर पर काम कर रहे थे। मृतकों के शव जिले के मेलमची शहर के पास बरामद किए गए थे। इलाके में बुधवार को अचानक आई बाढ़ ने अपनी चपेट में ले लिया था। जिला अधिकारी बाबूराम खनाल के मुताबिक, तीनों मृतक विदेशी नागरिक थे और ये एक चीन की कंपनी के लिए काम कर रहे थे। जो पेयजल परियोजना के तहत काम पर लगी है।

वहीं नेपाल के गृह मंत्रालय ने गुरुवार देर रात पुष्टी की है कि, चीन के तिब्बत क्षेत्र की सीमा से लगे पहाड़ी जिले सिंधुपालचोक और देश के अन्य हिस्सों में आई बाढ़ में 25 लोग लापता हैं। गौरतलब है कि नेपाल में आमतौर पर मानसून की बारिश जून के महीने में शुरू होती है और सितंबर के आखिरी तक चलती है। रिपोर्ट के मुताबिक, नेपाल में हर साल बारिश के महीनों में हजारों लोगों की मौत होती है।