सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में 80 तालिबानी ढेर

सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में 80 तालिबानी ढेर

अफगानिस्तान में सुरक्षा बलों और तालिबान के बीच पूरे देश में जबर्दस्त संघर्ष चल रहा है। पिछले 24 घंटों के दौरान 80 तालिबानी मारे गए, साठ से ज्यादा घायल हुए हैं।

स्थानीय मीडिया के अनुसार सुरक्षा बलों की मदद के लिए वायु सेना का ऑपरेशन भी चल रहा है। तालिबान को कड़ा जवाब देने के लिए वायुसेना ने गजनी, लोगर, जाबुल, हेरात, फराह, हेलमंद और बघलान में हवाई हमले किए।

रक्षा मंत्रालय के अनुसार तालिबानी आतंकियों के द्वारा 115 स्थानों पर बारूदी सुरंग बिछा दी थीं, जिन्हें निष्क्रिय  कर दिया गया। भारी तादाद में हथियार और बारूद भी मिला है।

अफगान सुरक्षा बलों ने बघलान में भी आतंकियों को जबर्दस्त नुकसान पहुंचाया है। काबुल में बिजलीघर से जुड़े नेटवर्क को बम विस्फोट से क्षति पहुंची है। इसके बाद काबुल में पूरी रात अंधेरा छाया रहा। बिजली के नेटवर्क को पहले भी नुकसान पहुंचाने की कोशिश होती रही है।

विदेशी सेनाओं पर आतंकियों का कोई हमला नहीं

अमेरिका के ज्वॉइंट चीफ ऑफ स्टाफ के चेयरमैन मार्क मिले ने कहा कि एक मई के बाद से अमेरिका और नाटो देशों की सेनाओं पर अफगानिस्तान में कोई हमला नहीं किया गया है। यह जानकारी उन्होंने रक्षा मंत्री लॉयड ऑस्टिन के साथ एक संयुक्त वार्ता में दी। उन्होंने कहा कि सेना की वापसी के बाद भी अफगान सेना को बराबर सहयोग मिलता रहेगा। उन्होंने कहा कि अफगानिस्तान से हमारे एयरक्राफ्ट और उपकरण वापस होना शुरू हो गए हैं। 11 सितंबर तक सभी सैनिक वापस हो जाएंगे।


नेपाल में मंडरा रहा बाढ़ का खतरा, तमाकोशी नदी के किनारे रहने वाले लोगों के लिए जारी हुई चेतावनी

नेपाल में मंडरा रहा बाढ़ का खतरा, तमाकोशी नदी के किनारे रहने वाले लोगों के लिए जारी हुई चेतावनी

नेपाल में बाढ़ का खतरा बढ़ गया है। ताजा रिपोर्ट के मुताबिक, डोलखा जिला प्रशासन (Dolakha district) ने तमाकोशी नदी के किनारे रहने वाले लोगों के लिए बाढ़ की चेतावनी जारी की है। भूस्खलन ने रोंगक्सिया शहर (RongXia city) टिंगरी काउंटी (Tingri County)के पास नदी प्रणाली को क्षतिग्रस्त कर दिया है। यह अचानक बाढ़ का कारण बन सकता है।

बाढ़ में 11 लोगों की मौत, 25 लोग लापता

बता दें कि सिंधुपालचोक जिले में लगातार हो रही बारिश के कारण भूस्खलन और बाढ़ ने 11 लोगों की जान ले ली है। वहीं, 25 लोगों के लापता हो चुके हैं। मृतकों में एक भारतीय और दो चीनी नागरिक शामिल हैं। तीनों मृतक विदेशी नागरिक हैं और ये एक चीन की कंपनी के लिए काम कर रहे थे।

जिला प्रशासन के मुताबिक तीनों मृतक इलाके में चल रही एक विकास परियोजना में श्रमिक के तौर पर काम कर रहे थे। मृतकों के शव जिले के मेलमची शहर के पास बरामद किए गए थे। इलाके में बुधवार को अचानक आई बाढ़ ने अपनी चपेट में ले लिया था। जिला अधिकारी बाबूराम खनाल के मुताबिक, तीनों मृतक विदेशी नागरिक थे और ये एक चीन की कंपनी के लिए काम कर रहे थे। जो पेयजल परियोजना के तहत काम पर लगी है।

वहीं नेपाल के गृह मंत्रालय ने गुरुवार देर रात पुष्टी की है कि, चीन के तिब्बत क्षेत्र की सीमा से लगे पहाड़ी जिले सिंधुपालचोक और देश के अन्य हिस्सों में आई बाढ़ में 25 लोग लापता हैं। गौरतलब है कि नेपाल में आमतौर पर मानसून की बारिश जून के महीने में शुरू होती है और सितंबर के आखिरी तक चलती है। रिपोर्ट के मुताबिक, नेपाल में हर साल बारिश के महीनों में हजारों लोगों की मौत होती है।