चीन की कम्युनिस्ट सरकार ने वुहान की त्रासदी को अपने फायदे में बदल दिया

चीन की कम्युनिस्ट सरकार ने वुहान की त्रासदी को अपने फायदे में बदल दिया

एक साल पहले जनवरी के इसी हफ्ते में चीन की कम्युनिस्ट सरकार सदी के सबसे बड़े संकट के मुहाने पर खड़ी थी। कोरोना वायरस ने चीन के वुहान शहर को पूरी तरह ठप कर दिया था। चीन सरकार इस महामारी को दबाने से ज्यादा दुनिया की नजरों से इसे छिपाने में लगी थी। इस महामारी को लेकर चीन में इंटरनेट मीडिया पर भारी बवाल छिड़ गया था। दशकों बाद चीन की सरकार को लोगों के भारी विरोध का सामना करना पड़ रहा था।

वैचारिक रूप से दशकों तक दबाए गए और सख्त सेंसरशिप में रहने वाले चीन के उदारवाली लोग खुलकर अपनी बातें रखने लगे थे। ऐसा लगने लगा था कि चीन सरकार की प्रोपेगंडा मशीनरी कोरोना वायरस को लेकर लोगों के मन में सरकार के प्रति पैदा हुई नाराजगी को दूर करने में विफल रहेगी। लेकिन ऐसा नहीं हुआ।

एक साल बाद चीन सरकार ने विद्रोहियों की आवाजों को पूरी तरह से दबा दिया है। इंटरनेट मीडिया पर कोरोना वायरस को लेकर किसी तरह की बहस नहीं चल रही है। महामारी से निपटने में चीन सरकार की विफलता को लेकर जो अवधारणा बनी थी, वह पूरी तरह बदल गई है। शी चिनफिंग सरकार ने वुहान की त्रासदी को अपने फायदे में बदल दिया है। दमन के बल पर वह अपने ही लोगों समझाने में सफल रही है कि उसने बहुत ही सफल तरीके से इस महामारी को दबा दिया।


वुहान में कोरोना वायरस के बारे में सबसे पहले लोगों को आगाह करने वाले डॉ. ली वेनलियांग को सरकारी मशीनरी द्वारा पकड़ने और कुछ दिनों पर उनकी इस महामारी के चलते हुई मौत ने चीन के युवाओं में सरकार के प्रति आक्रोश पैदा कर दिया था। एक साल बाद युवाओं का आक्रोश भी न जाने कहां गायब हो गया है। चीन में इस महामारी की वजह से अपनी जान गंवाने वालों को श्रद्धांजलि देने के बजाय लोग एक अभिनेत्री और उसके सरोगेट बच्चों को लेकर पैदा हुए विवाद में ज्यादा दिलचस्पी ले रहे हैं।


रात में चमकीली रोशनी से खौफ में आए लोग, फिर...

रात में चमकीली रोशनी से खौफ में आए लोग, फिर...

नई दिल्ली: ऑस्ट्रेलिया के क्वींसलैंड में रात के समय कुछ ऐसा हुआ, जिसे देखकर लोग अचम्भित रह गए। यहां रात में आसमान एकदम से रोशन हो गया। तभी अंतरिक्ष से कुछ बहुत तेजी से जलता हुआ धरती की तरफ आ रहा था। जिसके चलते लोगों को लगा कि कोई उल्कापिंड है। फिर लोगों ने इसकी तस्वीरें और वीडियो सोशल मीडिया पर डाले। आखिरी में जब जांच की गई तो पता चला कि ये चीन द्वारा अंतरिक्ष में भेजे गए रॉकेट था, जो वायुमंडल में वापस आया तो जलने लगा।

स्पेस का कचरा है
क्वींसलैंड के आसमान पर इस रॉकेट के जलने की वजह से काफी देर तक खूब चमकदार रोशनी थी। इसका सबसे पहले वीडियो बनाने वाले जैस्पर नैश ने कहा कि पहले मुझे लगा कि ये कोई मेटियोर यानी उल्कापिंड है। पर जैसे ही यह टूट कर अलग होने लगा तो मैं और मेरी पत्नी ने कहा कि ये स्पेस का कचरा है, जो धरती पर आ रहा है।

इस बारे में साउदर्न क्वींसलैंड यूनिवर्सिटी में सेंटर फॉर एस्ट्रोफिजिक्स के प्रोफेसर जोंटी हॉर्नर ने कहा कि ये चीन का रॉकेट था, जो वापस वायुमंडल में आ गया। और इस रॉकेट ने नवंबर 2019 में चीन के सैटेलाइट को अंतरिक्ष में स्थापित किया था। यह चीन के रॉकेट की धरती पर री-एंट्री थी।


ऐसे में एक और दर्शक जैक रॉबिन्स ने सोशल मीडिया पर वीडियो पोस्ट डाला और कहा कि मुझे पहले लगा ये उल्कापिंड है। लेकिन जब तक मुझे पता नहीं चला कि मैंने क्या देखा, तब तक सब ठीक था। जब मुझे पता चला कि वह चीन के स्पेस कचरा है। तो मैं पूरा हिल गया।

पृथ्वी पर गिरा सबसे बड़ा मलबा
बीते साल 11 मई को चीन के रॉकेट का एक बड़ा हिस्सा धरती पर गिरा था। अंतरिक्ष से पृथ्वी पर पहुंचे इस कचरे का वजन 17 हजार 8 सौ किलोग्राम है और लगभग 30 वर्षों में ये पृथ्वी पर गिरा सबसे बड़ा मलबा है। और ये मलबा चीन के ही Long March 5B रॉकेट का टुकड़ा था। एक हफ्ते तक रॉकेट ने अंतरिक्ष में चक्कर लगाया। उसके बाद बिना नियंत्रण के पृथ्वी की तरफ गिरने लगा।

वहीं इस बारे में हैरान करनेवाली एक बात ये है कि पृथ्वी पर गिरने से पहले ये कचरा अमेरिका के न्यूयॉर्क और लॉस एंजिल्स जैसे शहरों के करीब से गुजरा, और फिर ये अटलांटिक महासागर में गिर गया। और अंतरिक्ष में खराब हो चुके सैटेलाइट्स के टुकड़े बहुत तेजी से धरती का चक्कर लगाते रहते हैं। जिसकी गति 28 हजार किलोमीटर प्रति घंटा तक हो सकती है।


NIOS द्वारा मदरसों में गीता, रामायण की पढ़ाई वाली रिपोर्ट गलत, केंद्र ने कहा...       महाराष्ट्र व केरल में बेतहाशा बढ़ रहे कोरोना के नए मामले       SC का निर्देश, प्राइवेट अस्पतालों में इलाज के लिए बुजुर्गों को मिले प्राथमिकता       जम्मू-कश्मीर परिसीमन आयोग को मिला एक साल का विस्तार       इन राज्यों में आंधी-तूफान के साथ बारिश की चेतावनी, जानें       पीएम मोदी को कल ऊर्जा एवं पर्यावरण संरक्षण के लिए मिलेगा अंतरराष्ट्रीय सम्मान       ओटीटी प्‍लेटफार्म के प्रतिनिधियों से मिले प्रकाश जावडेकर, बोले...       बेटी के पैदा होने पर क्रिकेट से दूर रहे थे विराट कोहली, जानें       Qubool Hai 2.0 Trailer: क्या परवान चढ़ेगी ज़ोया-असद की प्रेम कहानी? देखिए       इंदू की जवानी, साइलेंस और क़ुबूल है 2.0 समेत इस महीने आएंगी ये फ़िल्में और वेब सीरीज़       Dhamaka Teaser: कार्तिक आर्यन ने दी 'ब्रेकिंग न्यूज़', नेटफ्लिक्स पर करेंगे 'धमाका'       Tandav Web Series केस में अमेज़न प्राइम वीडियो ने पहली बार मांगी माफ़ी       Netfilx ने किया 40 से अधिक वेब सीरीज़, फ़िल्मों और शोज़ का एलान, कई सितारों की दस्तक       बताया- क्यों इंग्लैंड की टीम टेस्ट सीरीज को कराना चाहती है ड्रॉ, कप्तान जो रूट ने किया खुलासा!       IPL को लेकर दिए विवादित बयान के बाद डेल स्टेन ने मांगी माफी       मोटेरा की पिच को लेकर इंग्लैंड के दिग्गज ने कसा तंज, बोले...       प्रेस कॉन्फ्रेंस में टर्निंग पिच के सवाल पर भड़के विराट कोहली       फैंस के नंबर्स की तरफ मेरा ध्यान नहीं, एक अच्छा क्रिकेटर व इंसान बनना चाहता हूं : विराट कोहली       ट्रंप बनाएंगे अलग पार्टी! राष्ट्रपति चुनाव लड़ने के दिए संकेत       रात में चमकीली रोशनी से खौफ में आए लोग, फिर...