व्यायाम से पहले मांसपेशियों को खोलने व शरीर को लचीचा बनाने में मददगार है यह तरीके

व्यायाम से पहले मांसपेशियों को खोलने व शरीर को लचीचा बनाने में मददगार है यह तरीके

कोरोना के कहर से जूझ रहे ज्यादातर देश ‘लॉकडाउन’ से ‘अनलॉक’ की दिशा में तेजी से बढ़ रहे हैं. ब्रिटेन सहित तमाम मुल्कों में जुलाई से जिम तक खोलने की योजना है.

 हालांकि, तीन महीने की शारीरिक असक्रियता के बाद जिम जाकर मुश्किल व्यायाम करने पर लेने के देने पड़ सकते हैं. आपको मांसपेशियों में खिंचाव से लेकर कंधे, पीठ, कमर, कूल्हे, जांघ आदि में चोट की शिकायत हो सकती है. ब्रिटेन की जानी-मानी फिटनेस एक्सपर्ट मरियम अलरूबी ने इसी के मद्देनजर पांच ऐसे व्यायाम सुझाए हैं, जिनसे मांसपेशियों को खोलने व शरीर को लचीचा बनाने में मदद मिल सकती है. आइए इन पर नजर डालें-

1.कंधे-गर्दन में दर्द से ऐसे बचें
-एक डंडा हाथ में लेते हुए फर्श पर सीधे खड़े हो जाएं. अब डंडे को दोनों हाथों से पकड़ते हुए बाजुओं को कंधे की सीध में सामने की ओर ले जाएं. ध्यान रखें कि इस दौरान कोहनियां एकदम सीधी होनी चाहिए. धीरे-धीरे जितना हो सके, हाथ सिर के ऊपर ले जाएं व फिर वापस कंधे की सीध में ले आएं. इस प्रक्रिया को 15 से 20 बार दोहराएं. यह एक सेट हुआ. ऐसे कम से कम पांच सेट करें.

2.पीठ में खिंचाव का खतरा यूं घटाएं
-एक मोटी इलास्टिक की डोरी लें. उसे बंद दरवाजे के हैंडल में अपने कमर जितनी ऊंचाई पर फंसाएं. अब हैंडल से दो फीट की दूरी पर खड़े होकर डोरी के दोनों सिरों को हाथों में थाम लें व जितना हो सके पीछे की ओर खींचें. ध्यान रखें कि इस प्रक्रिया में आपके दोनों हाथ पेट के किनारे से सटे होने चाहिए, ताकि कंधे की भी अभ्यास हो सके. इस प्रक्रिया को दस के सेट में दो से तीन बार दोहराएं.

3.कमर की मांसपेशियां लचीली बनाएं
-फर्श पर चटाई बिछाकर पीठ के बल लेट जाएं. अब दाएं पैर के घुटने को दोनों हाथों से पकड़ते हुए ऊपर उठाएं. इस दौरान दाएं पैर के पंजे बाएं पैर के ऊपर आ जाने चाहिए. इसके बाद घुटने को हाथों से सहारा देते हुए पैर दाईं व बाईं तरफ ले जाएं, ताकि जांघों की मांसपेशियों में हल्का खिंचाव महसूस हो. संभव हो तो घुटने को गोलाई में भी घुमाएं. दोनों पैरों से इस प्रक्रिया दस-दस के सेट में पांच बार दोहराएं.

4.कूल्हे में खिंचाव की शिकायत नहीं होगी
-दायां घुटना फर्श पर टिकाते हुए कुछ इस तरह बैठें कि शरीर का सारा वजन बाएं पंजों पर आए. इस दौरान यह सुनिश्चित करें कि दाएं पैर का घुटना व बाएं पैर का पंजा एक सीध में हो. अब दायां हाथ ऊपर उठाएं व कमर के पास से बाईं ओर मुड़ें. 30 सेकेंड तक इसी अवस्था में रहें. ध्यान रखें कि इस प्रक्रिया में कंधे, कोहनी व रीढ़ की हड्डी बिल्कुल सीधी होनी चाहिए. अब वापस उसी मुद्रा में जाएं. दोनों घुटनों से इस प्रक्रिया को दो-दो बार करें.

5.जांघों की मांसपेशियां सरलता से खुलेंगी
-जमीन पर पीठ के बल लेट जाएं. अब दाएं पैर को ऊपर उठाएं व तलुए के किनारे एक तौलिया फंसाएं. तौलिये के सहारे पैरों को दस सेकेंड तक जितना हो सके, चेहरे की तरफ खींचने की प्रयास करें. इसके बाद पैर ऊपर रखते हुए तौलिये को पांच से सात सेकेंड के लिए थोड़ा ढीला छोड़ दें. दोनों पैरों पर पूरी प्रक्रिया को तीन से चार बार दोहराएं. इससे शारीरिक सक्रियता की कमी से स्थिर हुईं जांघों व कूल्हे की मांसपेशियां सरलता से खुल जाएंगी.

आधे से ज्यादा लोगों का वजन बढ़ा
-लॉकडाउन में 67% लोगों ने चॉकलेट-चिप्स ज्यादा खाने की बात मानी .
-35% ने सामान्य दिनों से कहीं ज्यादा कोल्डड्रिंक पीने का खुलासा किया.
-55% लोगों ने कहा, शारीरिक सक्रियता घटने से उनका वजन बहुत ज्यादा बढ़ गया.
-80% ने लॉकडाउन खुलने के बाद एक्सरसाइज़ के जरिये फैट की चर्बी घटाने का वादा किया.