बासी रोटियां खाने के ये फायदे जानकर इन्हें देखकर नहीं बनाएंगे मुंह!

बासी रोटियां खाने के ये फायदे जानकर इन्हें देखकर नहीं बनाएंगे मुंह!

बासी रोटी सुनते ही ज्यादातर लोग मुंह बना लेते हैं लेकिन स्वाद की बजाय सेहत की बात करें, तो बासी रोटियां पोषण से भरपूर होती है। जैसा कि हम सभी जानते हैं कि गेहूं के आटे से बनी रोटियों को सबसे ज्यादा पौष्टिक और सुपाच्य माना जाता है लेकिन इन रोटियों के गुण तब और भी बढ़ जाते हैं, जब ये बासी हो जाती हैं। आइए, जानते हैं बासी रोटी खाने फायदे-  



बासी रोटी के फायदे
बासी रोटी को रोज दूध के साथ खाने से डायबिटिज और बीपी नियंत्रित रहता है। रोटी के बासी हो जाने से उनमें कुछ लाभकारी बैक्टिरिया आ जाते हैं इसके अलावा ग्लूकोज की मात्रा भी कम होती है। 

बासी रोटी को दूध के साथ खाने से पेट की बीमारियों से भी राहत मिलती है। इससे एसिडिटी, कब्ज जैसी समस्याएं दूर होती है। बासी रोटी में फाइबर होने से यह पाचन को भी ठीक करता है।

बासी रोटी शरीर के तापमान को भी संतुलित बनाए रखने में मददगार है। दूध के साथ बासी रोटी को खाने से शरीर का तापमान नियंत्रित रहता है। खासकर गर्मियों में इसका सेवन करने से हाई स्ट्रोक जैसी समस्याओं का खतरा नहीं रहता है। 

दूध के साथ बासी रोटी खाने से शरीर का दुबलापन भी दूर होता है और शरीर में बल की वृद्धि होती है। शरीर के दुबलेपन को दूर करने का यह सबसे कारगर उपाय भी है। खासकर रात के समय बासी रोटी खाना ज्यादा फायदेमंद होगा।


महामारी से बचाव में कारगर 'मास्क' वन्यजीव के लिए साबित हो रहा नुकसानदेह

महामारी से बचाव में कारगर 'मास्क' वन्यजीव के लिए साबित हो रहा नुकसानदेह

वाशिंगटन। कोरोना वायरस महामारी (coronavirus pandemic) के दौरान कारगर मास्क ( Masks) वन्यजीवों, पक्षी और पानी में रहने वाले जीव-जंतुओं के लिए नुकसानदेह और घातक साबित हो रहा है।  जब से कोविड-19 संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए  सार्वजनिक जगहों पर मास्क को अनिवार्य किया गया है तब से एकबार इस्तेमाल किए जाने वाले सर्जिकल मास्क दुनिया भर के सड़कों, पानी और समुद्री तटों पर बिखरे पड़े हैं। एक बार पहना जानेवाला पतला सा प्रोटेक्टिव मटीरियल नष्ट होने में सैंकड़ों साल लगा देता है। पशु अधिकारों के समूह पेटा (PETA) के एश्ले फ्रुनो (Ashley Fruno) ने कहा, 'फेस मास्क का इस्तेमाल जल्दी नहीं खत्म होने वाला है लेकिन इस्तेमाल के बाद जब हम इसे  फेंक देते हें तब यह पर्यावरण और जानवरों को नुकसान पहुंचा सकता है।' 

 मलेशिया की राजधानी कुआलालंपुर के बाहरी इलाके में लंगूरों को मास्क के स्ट्रेप चबाते हुए देखा गया। वहीं ब्रिटेन के चेम्सफोर्ड सिटी में भी समुद्री पक्षी का पैर इस मास्क के फंदे में एक सप्ताह तक फंसा रह गया था। एनिमल वेलफेयर चैरिटी ने इस घटना का जिक्र कर सतर्क किया। चैरिटी की नजर जब इस पक्षी पर गई तब इसके पैर बंधे होने के कारण यह बेहोशी की अवस्था में था इसे तुरंत वन्यजीव अस्पताल (wildlife hospital) ले जाया गया।  

पर्यावरण के लिए काम करने वाले ग्रुप ओशंस एशिया (OceansAsia) के अनुसार,  पिछले साल 1.5 बिलियनसे अधिक मास्क समुद्रों में प्रवाहित किए गए। 


ये देश लिखना पढ़ना नहीं जानते, क्या सच में है ऐसा ?       क्या गांजे को करे दें लीगल, जनता से पूछा गया सवाल       ऐसे लोगों में कोविड-19 से संक्रमित होने का खतरा कम, सीरो सर्वे का चौंकाने वाला दावा       शुभेंदु की ममता को ललकार, चुनावी सीट पर घमासान       अभी अभी: लड़ाकू विमान राफेल- आसमान में दिखेगी ताकत, जोधपुर में गरजेगा ये देश       धमाके से कांपा जमशेदपुर, ब्लास्ट से डरे-सहमे लोग       SC की दो टूक, दिल्ली में कौन आएगा, तय करे पुलिस       शुभेंदु अधिकारी की रैली में बड़ा हंगामा, भयानक झड़प BJP-TMC कार्यकर्ताओं में       सबसे ऊंचा कृष्ण मंदिर, अब जयपुर में पधारेंगे कन्हैया       इस बड़े बैंक ने करोड़ों ग्राहकों को दिया बड़ा तोहफा       अदाणी समूह द्वारा संचालित तीन हवाई अड्डों को मिला सम्मान       फटाफट कर लें खरीदारी, जानें क्या है नई कीमत       कुंडली में सबसे खास ये ग्रह, कमजोर हुआ तो बनेंगे कंगाल       आ रही शानदार कारें, जल्द भारत में होंगी लॉन्च       Amazon दे रहा शानदार डील, iPhone 12 सीरीज मिल रहा गजब के ऑफर में       कार खरीदते वक्त RSA सर्विस लेना न भूलें       गूगल ने चुपके से इस खास सेवा पर लगा दी रोक       Samsung Galaxy S21 Ultra 5G की ऐसे करें प्री-बुकिंग       खुले मैदान में फ्रेंड्स के साथ गोल्फ खेलती नजर आईं जैकलीन, दिल जीत लेंगी ये मनमोहक तस्वीरें       बॉयफ्रेंड के साथ सुला वाइनयार्ड्स पहुंचीं ये एक्ट्रेस, बगीचे में लिया रेड वाइन का मजा