Harvest Gold ब्रेड के पैकेट से अब नहीं कर सकता कोई छेड़छाड़

Harvest Gold ब्रेड के पैकेट से अब नहीं कर सकता कोई छेड़छाड़

चिकित्सकों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों से अक्सर हम सलाह सुनते हैं कि सुबह और शाम का नाश्ता सेहत के लिए बहुत जरूरी होता है! लेकिन जब बात नाश्ते में खाए जाने वाले आहारों की हो, तब ज्यादातर लोग दुविधा में फंस जाते हैं। उन्हें समझ  नहीं आता कि नाश्ते के लिए किस तरह के आहारों का चुनाव करें, जो न केवल पोषण से भरपूर हो, बल्कि जल्दी तैयार भी हो जाए। बतौर ब्रांड Harvest Gold पौष्टिक ब्रेड बनाकर सालों से लोगों की ऐसी जरूरतों को पूरा कर रहा है। 

सुबह जल्दी नाश्ता बनाने की टेंशन हर किसी को होती है, खासकर उस मां को जो चाहती है कि उसका बच्चा समय पर स्कूल तो पहुंचे, लेकिन भरपेट नाश्ता भी करके जाए। ऐसे में वह एक भरोसेमंद ब्रेड का चुनाव करना चाहती है। Harvest Gold हर मां के इसी भरोसे पर खरा उतरा है और घर में ताजे और पोषण से भरपूर अलग-अलग तरह के अनाजों वाले ब्रेड पहुंचा रहा है।  

Harvest Gold ब्रेड की नई पैकेजिंग की खासियत

नवाचार, जज्बा और ईमानदारी - ये कुछ ऐसी चीजें हैं, जो एक ब्रांड को दूसरे ब्रांड़्स से अलग करती हैं। Harvest Gold की हमेशा चाह रही है कि वह अपने ग्राहकों को कुछ ऐसा दे, जिससे वो उनका भरोसा और मजबूत कर सके। हाल ही में इन्होंने अतिरिक्त स्वच्छता और सुरक्षा को ध्यान में रख कर एक ऐसी पैकेजिंग प्रणाली लॉन्च की, जो हीट सील और क्लिप (Heat Seal and Clip) पर आधारित है। 

ब्रेड पैकेट को इस तरह से डिजाइन किया गया है कि इसकी सील से छेड़छाड़ नहीं की जा सकती। अर्थात यह पूरी तरह से टेंपर प्रूफ पैकेजिंग वाली ब्रेड है। यदि एक बार में ब्रेड की खपत पूरी नहीं होती या बच जाती है, तो इसे दोबारा क्लिप लगाकर री-पैक किया जा सकता है, जिससे ब्रेड ताजी रहती है। इस तरह की पैकजिंग वाली ब्रेड अभी सीमित क्षेत्रों में उपलब्ध है। अगर आपके नजदीकी स्टोर में ये ब्रेड उपलब्ध है, तो यह सील जरूर देखें। हीट सील और प्लास्टिक क्लिप के साथ ब्रेड की पैकेजिंग करने का मकसद जहां एक तरफ अतिरिक्त स्वच्छता और सुरक्षा बरतना है, तो वहीं भविष्य के लिए इसे री-स्टोर भी करना है। बता दें कि हीट सील और क्लिप पैकेजिंग अभी शुरुआती चरण में है और इसे अभी सीमित SKU और सीमित स्थानों पर उपलब्ध कराया जा रहा है। Harvest Gold की योजना भविष्य में सभी टेप किए हुए पैक्स को बदलने की है। 

जिस ईमानदारी के साथ Harvest Gold ब्रेड, बन्स, पाव, कुलचा, रस्क और बर्गर बन बनाकर लोगों तक पहुंचा रहा है, उसी ईमानदारी के साथ वह अपनी सामाजिक जिम्मेदारियों को भी निभा रहा है। प्रोजेक्ट एम्पावर के माध्यम से, Harvest Gold रोजगार की तलाश में रहने वाले लोगों के लिए मुफ्त में पुश-कार्ट (एक तरह की ठेला गाड़ी) वितरित करता है। लोग इससे न केवल 10 से 15 हजार रुपये तक प्रतिमाह आय अर्जित कर पाते हैं, बल्कि गरिमापूर्ण जीवन भी व्यतीत करते हैं। इससे उनका परिवार भी चल रहा है और उनके बच्चों को शिक्षा भी मिल रही है। 

आजीविका के लिए गरीबों को पुश-कार्ट देने के साथ-साथ Harvest Gold लोगों को प्रशिक्षण, वित्तीय और लोजिस्टिकल सपोर्ट प्रदान कर रहा है, और स्थानीय RWA की अनुमति से अलग-अलग जगहों पर पुश-कार्ट्स भी स्थापित कर रहा है। इन्होंने 260 से अधिक पुश-कार्ट्स स्थापित करके जरूरतमंद लोगों की रोजगार में मदद की है। ये स्थापित पुश-कार्ट्स उन लोगों के लिए भी फायदेमंद साबित हो रही हैं, जिन्हें आवश्यक वस्तुओं के लिए घर से दूर जाना पड़ता है।   

सबकी शिक्षा - सबकी ब्रेड

अपने स्वादिष्ट और पौष्टिक ब्रेड से लोगों का भरोसा जीतने वाला Harvest Gold अपने दायित्व को पूरा करने के लिए निरंतर प्रयास करता रहता है। इन्होंने ‘Good Neighbour Project’ नामक एक प्रोग्राम की शुरुआत की है। इसका उद्देश्य समुदायों में विभिन्न उपक्रमों और गतिविधियों के माध्यम से परिवर्तन लाना है। अगर आप सामाज से कुछ ले रहे हैं, तो आपका फर्ज बनता है कि आप सामाज को कुछ दें भी। यही नीति Harvest Gold की भी है। 

‘Good Neighbour Project’ के तहत इन्होंने ‘सबकी शिक्षा - सबकी ब्रेड’ नाम से एक अभियान की शुरुआत की, जिसका मकसद स्कूल शिक्षा के लिए गरीब परिवारों की सहायता करना है। इसके लिए Harvest Gold ने अपने विनिर्माण संयंत्रों (Manufacturing Plants) के आस-पास के क्षेत्रों में बने स्कूलों को चुना है। इन स्कूलों में यह टेबल, कुर्सियां, बेंच, अलमारी, कालीन, पंखे और ट्यूब लाइट की पूरी वायरिंग व फिटिंग और स्कूलों में पेंट कराकर अपना योगदान दे रहे हैं। इसके अलावा, वह स्वच्छता और सुरक्षा संबंधित सुविधाएं भी प्रदान कर रहे हैं। इस तरह की सहायता और भागीदारी से न केवल बच्चों में शिक्षा को लेकर रुचि पैदा होगी, बल्कि भविष्य को लेकर उनके माता-पिता की चिंता भी दूर होगी। 

जानें Harvest Gold के बारे में

Harvest Gold एक भारतीय खाद्य कंपनी है, जो कई प्रकार की ब्रेड और उससे जुड़े उत्पादों को बनाती है। इसका मुख्यालय नई दिल्ली में है। 27 साल पहले भिवाड़ी से शुरू हुई Harvest Gold ब्रेड आज दुनिया भर में एक जाना माना नाम है। कंपनी की लोकप्रियता का अंदाजा आप इसी बात से लगा सकते हैं कि इसके कारखानों को डिस्कवरी चैनल के लोकप्रिय शो ‘The Great Indian Factory Series’ में दिखाया गया था। 2017 में Harvest Gold ने बेकरी का अगुआ कहे जाने वाले Grupo Bimbo (बहुराष्ट्रीय कंपनी) से हाथ मिलाया। इसका मकसद Grupo Bimbo की विशेषज्ञता और अनुभव को Harvest Gold किचन तक लाना था। इससे Harvest Gold के उत्पादों की गुणवत्ता बढ़ी और ब्रांड का नाम भी बढ़ा।  

स्वच्छता और सेल्स टीम का प्रयास

कोई भी युद्ध अग्रिम पंक्ति में खड़े सैनिकों के बिना नहीं जीता जा सकता। इस समय चिकित्सक, पुलिसकर्मी, सफाईकर्मी और घर तक जरूरी सामान पहुंचाने वाले डिलीवरी मैन भी अग्रिम पंक्ति में खड़े हैं और कोरोना योद्धा के रूप में Covid-19 के खिलाफ लड़ाई लड़ रहे हैं। यहां Harvest Gold की सेल्स टीम भी पीछे नहीं है। यह टीम अपनी जिम्मेदारियों को निभाते हुए आप तक ताजी और स्वादिष्ट ब्रेड पहुंचा रही है।

Harvest Gold की सेल्स टीम दुकानदारों व खुदरा विक्रेताओं तक ताजी ब्रेड और बन्स पहुंचाने के लिए सुबह जल्दी उठ जाती है। यह टीम सरकार द्वारा जारी किए गए स्वच्छता के नियमों का अच्छी तरह से पालन करती है। कंपनी ने सेल्स टीम के कर्मचारियों के लिए मास्क पहनना, सामाजिक दूरी को बनाए रखना, हाथ साफ करने के लिए सैनिटाइजर का इस्तेमाल करना जैसे नियमों को अनिवार्य कर दिया है। इसके अलावा, कंपनी ने स्वच्छता और सुरक्षा से संबंधित उपायों को अपनाने के लिए अपने सभी कर्मचारियों को प्रशिक्षित भी किया है। यही नहीं, संयंत्रों, डिपो, कार्यालयों और ब्रेड वितरण वाहनों की साफ-सफाई का भी पूरा ख्याल रखा जा रहा है।


सोते समय क्या करना चाहिए और क्या नहीं करना चाहिए, जानें

सोते समय क्या करना चाहिए और क्या नहीं करना चाहिए, जानें

इंसान की भावनाएं अधिक प्रबल होती हैं। अगर वह अच्छे वक्त से गुजरता है तो फूले नहीं समाता है। वहीं, अगर बुरे वक्त से गुजरता है तो उसकी नींद उड़ जाती है। साथ ही डिजिटल दुनिया में इलेक्ट्रॉनिक्स उपकरणों की वजह से भी लोगों की नींद गायब हो रही है। ऐसे में आपको यह जानना जरूरी है कि सोते समय क्या करना चाहिए और क्या नहीं करना चाहिए। अगर आपको पता नहीं है तो आइए जानते हैं-

रोजाना एक्सरसाइज जरूर करें

जैसा कि हम सब जानते हैं कि कोरोना वायरस महामारी के कारण लोग अपने घरों में रहने को मजबूर है। इस वजह से लोग अपने घरों से से ही काम कर रहे हैं। लॉकडाउन के चलते लोग शारीरिक श्रम नहीं कर पा रहे हैं, जिसके चलते उन्हें रात में नींद नहीं आती है। ऐसे में अच्छी नींद के लिए रोजाना हल्की-फुल्की एक्सरसाइज जरूर करनी चाहिए।

झपकी जरूर लें

अगर आप रात में ठीक से सो नहीं पाते हैं तो दिन में 20 मिनट की झपकी जरूर लें। इससे आपको रात में नींद नहीं आने की समस्या से निजात मिल सकता है।

चाय और कॉफी से दूर रहें

अगर आप रात में अच्छी नींद लेना चाहते हैं तो चाय और कॉफ़ी से दूर रहें। इनमें कैफीन पाया जाता है जिससे रात की नींद उड़ जाती है। अगर बहुत तलब है तो दिनभर में एक कप कॉफ़ी पिएं।

अल्कोहल से दूर रहें

ऐसा माना जाता है कि अल्कोहल के सेवन से एक पहर की नींद आती है, लेकिन दूसरे पहर में नींद गायब हो जाती है। इससे सर्काडियन रिदम ( सोने की प्रक्रिया ) प्रभावित होता है। अगर आप रात में अच्छी नींद चाहते हैं तो अल्कोहल से दूर रहें।

मोबाइल का यूज़ न करें

रात में सोने से एक घंटा पहले मोबाइल और गैजेट्स को स्लीप मोड में डालकर रख दें। ऐसा कहा जाता है कि इन उपकरणों से निकलने वाली ब्लू रोशनी नींद को प्रभावित करती है।


ट्रंप बनाएंगे अलग पार्टी! राष्ट्रपति चुनाव लड़ने के दिए संकेत       रात में चमकीली रोशनी से खौफ में आए लोग, फिर...       असम दौरे पर प्रियंका गांधी, कामाख्या देवी मंदिर में की पूजा       इन राज्यों में 5 दिन होगी भारी बारिश, IMD ने जारी किया अलर्ट       पहला डोज लिया पीएम ने, वैक्सीनेशन का दूसरा फेज शुरू       इन राज्यों में बारिश का अलर्ट, जमकर बरसेंगे बादल       आखिर क्या होती है वीगन डाइट? आज़माने से पहले जानें नुकसान       सोते समय क्या करना चाहिए और क्या नहीं करना चाहिए, जानें       कब्ज दूर करने से लेकर वजन घटाने तक में बेहद फायदेमंद है ये...       रहना चाहते हैं सेहतमंद तो अपने डाइट में इन चीज़ों को जरूर जोड़ें, जानें       वक्त पर हो जाए इलाज तो ब्रेन ट्यूमर भी नहीं खतरनाक       World Brain Tumor Day 2020: कैसे होती है ब्रेन ट्यूमर की शुरुआत, जानें       जब बच्चे करें हैंड सैनिटाइज़र का इस्तेमाल तो जरूर रखें ध्यान       जीना चाहते हैं लंबी उम्र, तो रोज़ाना करें ये काम       पथरी की समस्या से तुरंत निजात पाने के लिए अपनाएं ये घरेलू उपाय       बॉडी की इम्युनिटी पावर को बढाती है किशमिश       श्वेता तिवारी ने किया गज़ब का ट्रांसफॉर्मेशन       Bigg Boss 15: मेकर्स ने शुरू किए ‘बिग बॉस 15’ के लिए ऑडिशन       Rubina Dilaik के लिए कॉफी न लाना बन गई थी उनके तलाक का वजह       Rakhi Sawant की मां की कैंसर की खबर सुनकर सन्न रह गईं काम्या पंजाबी, लिखा...