दैनिक जीवन के अनमोल घरेलू नुस्खे

दैनिक जीवन के अनमोल घरेलू नुस्खे

घरेलु नुस्खे हमेशा से ही असरकारी रहे हैं और इनका प्रयोग सदियों से लोग करते आ रहे। आपको कुछ ऐसे ही घरेलु नुस्खों के बारे में बताएँगे जो बहुत सी बीमारियों में फायदेमंद है।

घरेलू नुस्खे: 

सौंफ चबाना: भोजन के बाद दोनों समय आधा चम्मच सौंफ चबाने से मुख की अनेक बीमारियाँ और सूखी खाँसी दूर होती है, बैठी हुई आवाज़ खुल जाती है, गले की खुश्की ठीक होती है और आवाज मधुर हो जाती है। 

भूख ना लगना: भूख न लगती हो तो बराबर मात्रा में मुनक्का बीज निकला हुआ, हरड़ और चीनी को पीसकर चटनी बना लें। इसे पाँच छह ग्राम की मात्रा में, थोड़ा शहद मिला कर खाने से पहले दिन में दो बार चाटें।

पेट में गैस बनना: पेट में वायु बनने की अवस्था में भोजन के बाद 125 ग्राम दही के मट्ठे में दो ग्राम अजवायन और आधा ग्राम काला नमक मिलाकर खाने से वायु-गैस मिटती है। 

काले धब्बे: चेहरे व कोहनी पर काले धब्बे दूर करने के लिये आधा चम्मच नारियल के तेल में आधे नीबू का रस निचोड़ें और त्वचा पर रगड़ें, फिर गुनगुने पानी से धो लें।

कोलेस्ट्राल: सुपारी का रस लार के साथ मिलकर रक्त को पतला करने जैसा काम करता है। जिससे कोलेस्ट्राल में गिरावट आती है और रक्तचाप भी कम हो जाता है।


प्रेग्नेंट महिलाएं इस तरह करें बादाम तेल का इस्तेमाल

प्रेग्नेंट महिलाएं इस तरह करें बादाम तेल का इस्तेमाल

प्रेग्नेंसी में महिला को कई चीजों का ख्याल रखना होता है। बादाम तेल के नियमित सेवन से एक ओर जहां दिल से जुड़ी बीमारियों के होने का खतरा कम हो जाता है वहीं ये दिमागी सेहत के लिए भी फायदेमंद है। एनिमिया की शिकायत को दूर करके ये इम्यून सिस्टम को भी बूस्ट करने का काम करता है।

बादाम तेल के फायदे:

# बादाम के तेल में ओमेगा-6 फैटी एसिड्स होते हैं। ओमेगा-6 दिमाग की सेहत के लिए एक आवश्यक तत्व है। इससे दिमाग को पोषण मिलता है।

# अगर आपका हीमोग्लोबिन कम है तो आज से ही बादाम के तेल को अलग-अलग रूपों में लेना शुरू कर दें। इसमें भरपूर मात्रा में आयरन होता है, जो हीमोग्लोबिन के स्तर को बढ़ाने का काम करता है।

# बादाम तेल के सेवन से कोलेस्ट्रॉल संतुलित रहता है। बादाम के नियमित सेवन से दिल से जुड़ी बीमारियों के होने का खतरा कम हो जाता है।

# गर्भावस्था में बादाम तेल के सेवन से डिलीवरी के नॉर्मल होने की संभावना बढ़ जाती है। इसमें मौजूद फॉलिक एसिड, आयरन, कैल्शियम और दूसरे पोषक तत्व मां और बच्चे दोनों को फायदा पहुंचाते हैं।