सर्दियों में मूली खाने के होते हैं ये फायदे

सर्दियों में मूली खाने के होते हैं ये फायदे

सर्दियों में मूली हमारी सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होती है, मूली में कार्बोहाइड्रेट्स की बहुत कम मात्रा मौजूद होती है और साथ ही इसमें भरपूर मात्रा में पानी मौजूद होता है, जिसके कारण इसके सेवन से वजन कम होता है, आज हम आपको मूली खाने के कुछ फायदों के बारे में बताने जा रहे है। 

मूली खाने के फायदे:

मूली में भरपूर मात्रा में विटामिन-सी, फास्फोरस, जिंक और विटामिन-बी कॉम्प्लेक्स मौजूद होते है जो स्किन के लिए बहुत लाभकारी होते है, मूली के सेवन से स्किन अंदर से हाइट्रेट रहती है। 

पेट और लिवर की समस्याओ में भी मूली का सेवन बहुत फायदेमंद होता है, मूली के सेवन से हमारे शरीर में मौजूद  विषाक्त पदार्थ आसानी से बाहर निकल जाते है।

पीलिया की बीमारी में मूली का सेवन बहुत फायदेमंद होता है, ये हमारे शरीर में खून बनने की प्रक्रिया को बेहतर बनाने के साथ साथ हीमोग्लोबिन को भी बढ़ाने का काम करती है।


अपनों से दूर रहकर लोग दिमागी तौर पर बीमार हो रहे, ब्रिटेन की सरकार ने मेंटली फिट रहने के 8 तरीके बताए

अपनों से दूर रहकर लोग दिमागी तौर पर बीमार हो रहे, ब्रिटेन की सरकार ने मेंटली फिट रहने के 8 तरीके बताए

कोरोना ने बड़ी संख्या में लोगों को दिमागी तौर पर बीमार किया है। यही वजह है कि अब सरकारें लोगों को इससे उबारने के लिए आगे आ रही हैं। अमेरिका के बाद ब्रिटेन की एजेंसी पब्लिक हेल्थ इंग्लैंड ने लोगों को दिमागी बीमारी से निजात पाने के तरीके बताए हैं। फोकस लाइफ-स्टाइल पर है।

एजेंसी का कहना है कि यदि आप मानसिक परेशानियों से बचना चाहते हैं तो लाइफ-स्टाइल में बदलाव जरूर करें।

पब्लिक हेल्थ इंग्लैंड ने मानसिक समस्याओं से निपटने के 8 तरीके बताए

1. डेली रूटीन पर काम करें

हमें डेली रूटीन को बहुत ज्यादा तरजीह देनी चाहिए। इसलिए सबसे पहले इसके बारे में गंभीरता से सोचें। फिर ऐसा डेली रूटीन प्लान बनाएं, जो हमें पॉजिटिव रखे। आमतौर पर डेली रूटीन हमारे काम के हिसाब से होता है। यह अप्रोच गलत है। काम जरूरी है, लेकिन हेल्थ उससे ज्यादा जरूरी है। फोकस इस बात पर करें कि दिनभर में कितना समय खुद को दे रहे हैं?

इसलिए दिन की शुरुआत एक्सरसाइज से करें और हेक्टिक शेड्यूल में रिफ्रेश, रेस्ट और पॉजिटिव महसूस करने के लिए ब्रेक जरूर लें।

2. अपनों से जुड़े रहें

मानसिक समस्याओं की सबसे बड़ी वजहों में से एक अपनों से दूर हो जाना भी है। एक स्टडी के मुताबिक, ज्यादातर वर्किंग लोगों के पास अपनों के लिए वक्त नहीं है। ये दूरी मानसिक शांति यानी मेंटल पीस को खत्म कर देती है। इसलिए अपनों से कनेक्ट रहने की कोशिश करें। इसके लिए सोशल मीडिया और वीडियो चैट का सहारा भी ले सकते हैं।

3. दूसरों की मदद करें

आसपास के लोगों की मदद करने के बारे में सोचें। इससे दूसरों को फायदा होगा और आपको भी अच्छा महसूस होगा। हमें दूसरों की समस्याओं और चिंताओं को सुनना और समझना चाहिए। इससे आपको निगेटिव फीलिंग नहीं आएगी। आप आशावादी होंगे, अकेलेपन और एंग्जाइटी से भी उबर पाएंगे।

4. अपनी चिंताओं के बारे में बात करें

महामारी जैसे हालात में चिंता, डर और असहाय महसूस करना बहुत सामान्य है। हर किसी ने इसे अनुभव भी किया होगा। स्टडी में पता चला है कि तनाव साझा करने से मानसिक दबाव आधे से ज्यादा कम हो जाता है। समस्याएं शेयर करने से सुझावों का आदान-प्रदान होता है। इससे भी तनाव कम होता है। इसलिए समस्याओं को शेयर करने में संकोच न करें।

5. फिजिकल हेल्थ पर ध्यान दें

आप मानसिक तौर पर कैसा महसूस कर रहे हैं, यह आपके शारीरिक स्वास्थ्य पर भी निर्भर करता है। इसलिए फिजिकल हेल्थ पर जरूर फोकस करें। आप घर पर सेल्फ-चेकअप के लिए बेसिक चीजें जैसे थर्मामीटर, बीपी मशीन और फर्स्ट-एड किट रख सकते हैं।

6. स्मोकिंग, ड्र्ग्स और अल्कोहल छोड़ने के लिए मदद लें

ड्रग्स, अल्कोहल और स्मोकिंग की लत भी मानसिक समस्या है। इससे डिप्रेशन में खुदकुशी का रिस्क भी होता है। इससे छुटकारा पाने के लिए किसी ऐसे साथी से सपोर्ट मांगे, जो आपकी आदतों पर नजर रखे और लत से रोके।

यह ऐसी आदत है, जिसे तलब के चलते आप छोड़ नहीं पाते। ऐसे में दूसरों के प्रति जवाबदेह बनना कारगर तरीका है।

7. पूरी नींद लें

न सोना या कम सोना भी मानसिक बीमारी की वजह बन सकता है। बिस्तर पर जाने के बाद सोचना, चिंता करना, तनाव में रहना और मोबाइल यूज करना गलत है। यह स्लीप टाइम को कम कर देता है। इससे लोग इनसोम्निया के शिकार हो जाते हैं, ये भी मानसिक बीमारी है।

अच्छी और पूरी नींद लेने से मानसिक बीमारियों का जोखिम 50% तक कम हो जाता है। इसलिए अच्छी नींद की आदत डालें।

8. वह काम करें, जो अच्छा लगता हो

जब आप अकेलापन, एंग्जाइटी या तनाव महसूस कर रहे हों तो उसमें ज्यादा न उलझें। इसे जितना महसूस करेंगे, उतना परेशान होंगे। ऐसी स्थिति में आप अपना पसंदीदा काम करें, जैसे- कोई फेवरेट हॉबी, कुछ नया सीखने की कोशिश करें। इससे आप तनाव को कम करने में सफल हो जाएंगे।

एंग्जाइटी दुनिया की सबसे बड़ी मानसिक समस्या

मानसिक बीमारी से जुड़ी हजारों समस्याएं हैं। एंग्जाइटी ऐसी बीमारी है जो दुनिया के 3.76% मानसिक पीड़ितों में है। दूसरे नंबर पर डिप्रेशन है, जो दुनिया के 3.44% मानसिक पीड़ितों में है। तीसरे नंबर पर एल्कोहल यूज डिसऑर्डर है। आप सोच रहे होंगे कि शराब और ड्रग्स का लेना क्या कोई मानसिक समस्या है? हम पहले भी इससे जुड़ी एक खबर कर चुके हैं। भोपाल में साइकेट्रिस्ट सत्यकांत त्रिवेदी के मुताबिक ड्रग्स की लत एक मानसिक बीमारी है।


यात्रियों के लिए खुशखबरी! अब आसान होगा सफर       जल्दी हटाईये इसे, लोन देने वाले 453 ऐप्स को गूगल ने किया बैन       इस खिलाड़ी ने ब्रिस्बेन टेस्ट में किया डेब्यू       भारतीय खिलाड़ी हुए परेशान, ऑस्ट्रेलियाई दर्शकों की बदतमीजी       ऐसी महान टेनिस खिलाड़ी, जिन्होंने कम उम्र में बनाए इतने खिताब       वाॅशिंगटन ने स्मिथ को ऐसे किया आउट, बताया...       इस खिलाड़ी के पिता का निधन, खिलाड़ियों के घर शोक       यूपी दिवस: होगा तीन दिवसीय कार्यक्रम, सीएम योगी करेंगे शुभारम्भ       CM योगी लगवाएंगे वैक्सीन! कर दिया बड़ा एलान       यूपी: कोहरे में यात्रा करना पड़ा भारी, एक्सप्रेस वे पर 25 गाड़ियां टकराई       राजनाथ सिंह ने कहा कि भारतीय सेना ने हमेशा देश का हौसला बढ़ाया       मंदिर पर बोले अखिलेश यादव, राजनीति में लिया जाता है चंदा       सीएम योगी ने कोविड-19 वैक्सीनेशन का किया अवलोकन       पहले दिन 223 लोगों को लगी वैक्सीन, अब इस दिन को लगेगी अगली डोज       ईडी ने TMC के इस बड़े नेता पर कसा शिकंजा, कोर्ट में हुई पेशी, जानें       अभी अभी: वैक्सीन के बाद दो महिलाओं की तबियत बिगड़ी, भारत में दिखा पहला मामला       छत्तीसगढ़ में इस महिला को लगा कोरोना का पहला टीका       TMC विधायकों ने नियमों की उड़ाई धज्जियां       छत्तीसगढ़: CRPF जवान शराब तस्करी में गिरफ्तार       कोरोना वैक्सीनेशन, दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान