Volkswagen T-Roc की बुकिंग शुरू, जानिये कब से मिलेगी डिलीवरी

Volkswagen T-Roc की बुकिंग शुरू, जानिये कब से मिलेगी डिलीवरी

जर्मन वाहन निर्माता कंपनी की फॉक्सवैगन इस साल भारत में अपनी कई कारें पेश करेगा। इनमें कंपनी की पॉपुलर कार फॉक्सवैगन T-Roc का नाम भी शामिल है। कंपनी ने इसे इसी साल लांच किया है। जिसके बाद इसकी बुकिंग भी शुरू कर दी गई है। अब कंपनी की तरफ से कंफर्म कर दिया गया है कि इस एसयूवी को बुक करने वाले ग्राहकों को कार की डिलीवरी 21 मई 2021 से मिलना शुरु हो जाएगी। जर्मनी की प्रमुख वाहन निर्माता कंपनी ने भारत में इसे 21.35 लाख रुपये के एक्स-शोरूम कीमत पर पेश किया है।

कंपनी ने भारतीय बाजार के लिए एक अग्रेसिव प्रीमियम एसयूवी-आधारित रणनीति को बनाया है। इस रणनीति के एक हिस्से के तहत, जर्मन वाहन निर्माता कंपनी भारत में चार नई एसयूवी लॉन्च करने की तैयारी कर रही है। फॉक्सवैगन की यह T-ROC भारत में लांच करने के लिए बनाई गई योजना की चार एसयूवी में से एक है और इस एयूवी को मार्च 2021 में लॉन्च किया गया था।


जर्मन वाहन निर्माता की एसयूवी T-Roc के फ्रंट में, LED DRLs, LED कॉर्नरिंग लाइट्स और फॉग लैंप्स के साथ LED प्रोजेक्टर हैडलैंप्स दिए गए हैं। इसके अलावा एसयूवी में 17 इंच के एलॉय व्हील्स दिये गए हैं। इसके अलावा कार के इंटीरियर में 8 इंच का टचस्क्रीन इंफोटेनमेंट सिस्टम दिया गया है और जोकि एंड्रॉयड ऑटो और ऐप्पल कार प्ले के सपोर्ट के साथ आता है। अन्य बाहरी विशेषताओं में छत पर लगे स्पॉइलर, फॉक्स स्किड प्लेट्स आदि शामिल हैं, ग्राहक जल्द ही अपनी इस पसंदीदा एसयूवी की डिलीवरी ले सकेंगे।


इंजन : नई 2021 फॉक्सवैगन T-Roc एक इंजन विकल्प और एक गियरबॉक्स ऑप्शन के साथ उपलब्ध है। एसयूवी में 1.5-लीटर का TSI टर्बो-पेट्रोल इंजन दिया गया है जो अधिकतम 148bhp का पावर आउटपुट और 248Nm का पीक टॉर्क जनरेट करने में सक्षम है। इसे डिफ़ॉल्ट रूप से 7-स्पीड DSG गियरबॉक्स में रखा गया है। यह 8.4 सेकंड में 0-100 किमी / घंटा की रफ्तार पकड़ सकती है और इसकी टॉप स्पीड 205 किमी / घंटा की है।


गौतम अडाणी को एक हफ्ते में 12 अरब डॉलर का नुकसान, खोया दूसरे सबसे अमीर एशियाई का टैग

गौतम अडाणी को एक हफ्ते में 12 अरब डॉलर का नुकसान, खोया दूसरे सबसे अमीर एशियाई का टैग

भारत के दिग्गज उद्योगपति गौतम अडाणी (Gautam Adani net worth) एशिया के दूसरे सबसे अमीर व्यक्ति होने का प्रतिष्ठित टैग खो चुके हैं। इस हफ्ते शेयर बाजारों में गिरावट का सामना कर रहे अदाणी समूह के अध्यक्ष गौतम अडाणी मई में ही दूसरे सबसे अमीर अरबपति बने थे। FPI के स्वामित्व को लेकर चिंता के कारण अडानी को महज 4 दिनों में 12 अरब डॉलर से ज्‍यादा का नुकसान हुआ है।

Forbes रियल टाइम बिलियनेयर्स इंडेक्स के अनुसार, इस सप्ताह की शुरूआत में अडाणी की कुल संपत्ति 74.9 बिलियन डॉलर से घटकर 62.7 बिलियन डॉलर हो गई है। रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी के बाद चीन के फार्मास्युटिकल मैग्नेट झोंग शानशान ने एशिया के दूसरे सबसे अमीर व्यक्ति का अपना स्थान फिर से हासिल कर लिया है।

अमीरों की सूची में झोंग शानशान की संपत्ति 68.9 अरब डॉलर है जबकि अंबानी की 85.6 अरब डॉलर है। अडाणी एंटरप्राइजेज, अडाणी पावर, अडाणी टोटल गैस, अडाणी ट्रांसमिशन, अडाणी पोर्ट्स और अडाणी ग्रीन एनर्जी के शेयर एफपीआई के स्वामित्व की रिपोर्ट के बाद सोमवार को गिरने लगे।

फोर्ब्स रियल टाइम बिलियनेयर्स लिस्ट के मुताबिक अडाणी को 4 दिनों में लगभग 12 बिलियन डॉलर का नुकसान हुआ, जो दुनिया के सबसे अमीर लोगों की संपत्ति पर नजर रखता है। सप्ताह की शुरुआत में अडाणी की कुल संपत्ति 77 अरब डॉलर से कुछ ही ऊपर थी।

मई में ब्लूमबर्ग बिलिनियर्स इंडेक्स ने बताया था कि संपत्ति के मामले में चीन को झोंग शानशान (Zhong Shanshan) को पछाड़कर अडाणी ने यह स्थान हासिल किया था। अडाणी समूह के कंपनियों के शेयरों में बीते कुछ माह में जबरदस्त तेजी की बदौलत गौतम अडाणी की पोजिशन लगातार सुधरी। वह ब्लूमबर्ग की लिस्ट में 14वें स्थान पर पहुंच गए थे और एशिया के सबसे अमीर व्यक्ति मुकेश अंबानी 13वें स्थान पर थे। इस तरह अडाणी ब्लूमबर्ग लिस्ट में अंबानी से एक पायदान ही पीछे रह गए थे।

 
Bloomberg Billionaire Index के मुताबिक मई में अडाणी का कुल नेट वर्थ 66.5 बिलियन डॉलर पर पहुंच गया था। इस साल अडाणी की संपत्ति में 32.7 डॉलर का इजाफा हुआ। वहीं, अंबानी की कुल संपत्ति 76.5 बिलियन डॉलर आंकी गई है। वहीं, शानशान के कुल नेट वर्थ का मूल्यांकन 63.6 बिलियन डॉलर किया गया था।