आरबीआई ने एचडीएफसी बैंक को डिजिटल गतिविधियों और नए क्रेडिट कार्ड जारी करने से रोका

आरबीआई ने एचडीएफसी बैंक को डिजिटल गतिविधियों और नए क्रेडिट कार्ड जारी करने से रोका

नई दिल्ली। निजी क्षेत्र के एचडीएफसी बैंक ने गुरुवार को कहा कि भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने उससे अपनी आगामी डिजिटल कारोबार गतिविधियों और नए क्रेडिट कार्ड जारी करने को अस्थायी रूप से रोकने के लिए कहा है। केंद्रीय बैंक ने एचडीएफसी के डेटा सेंटर में पिछले महीने कामकाज प्रभावित होने के चलते यह आदेश दिया।

एचडीएफसी ने शेयर बाजार को बताया, ‘‘आरबीआई ने एचडीएफसी बैंक लिमिटेड को दो दिसंबर 2020 को एक आदेश जारी किया है, जो पिछले दो वर्षों में बैंक के इंटरनेट बैंकिंग/ मोबाइल बैंकिंग/ पेमेंट बैंकिंग में हुई परेशानियों के संबंध में है, जिसमें हाल में 21 नवंबर 2020 को प्राइमरी डेटा सेंटर में बिजली बंद हो जाने के चलते बैंक की इंटरनेट बैंकिंग और भुगतान प्रणाली का बंद होना शामिल हैं।’’

एचडीएफसी बैंक ने कहा कि आरबीआई ने आदेश में ‘‘बैंक को सलाह दी है कि वह अपने कार्यक्रम डिजिटल 2.0 और अन्य प्रस्तावित आईटी अनुप्रयोगों के तहत आगामी डिजिटल व्यापार विकास गतिविधियों और नए क्रेडिट कार्ड ग्राहकों की सोर्सिंग को रोक दे।’’

एचडीएफसी बैंक ने कहा कि इसके साथ ही बैंक के निदेशक मंडल से कहा गया है कि वे कमियों की जांच करें और जवाबदेही तय करें। एचडीएफसी बैंक ने कहा कि पिछले दो वर्षों में उसने अपने आईटी सिस्टम को मजबूत करने के लिए कई उपाय किए हैं और शेष काम को तेजी से पूरा करेगी।

बैंक ने कहा है कि वह डिजिटल बैंकिंग चैनलों में हालिया परेशानियों को दूर करने के लिए ठोस कदम उठा रहा है और उम्मीद जताई की उसके मौजूदा क्रेडिट कार्ड, डिजिटल बैंकिंग चैनलों और मौजूदा परिचालन पर ताजा नियामकीय फैसले का कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा।

बैंक का मानना ​​है कि इन उपायों से उसके समग्र व्यवसाय पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा।


जल्दी हटाईये इसे, लोन देने वाले 453 ऐप्स को गूगल ने किया बैन

जल्दी हटाईये इसे, लोन देने वाले 453 ऐप्स को गूगल ने किया बैन

नई दिल्ली: आम आदमी हो या ख़ास सबको कभी न कभी लोन की जरूरत पड़ती है। लोन उपलब्ध कराने के वाले ऐसे बहुत सारे ऐप्स हैं जो बड़े आसानी से लोन उपलब्ध कराते हैं। कुछ ऐप्स इस काम में धोकेबाजी भी करते हैं। गूगल ने पर्सनल लोन देने वाले 453 ऐप्स को प्ले स्टोर से हटा दिया है। बता दें कि ये ऐप्स कंपनी की यूजर सेफ्टी पॉलिसी का उल्लंघन कर रहे थे। इनके जरिए लोन लेने वाले यूजर के डेटा से छेड़खानी भी की जा रही थी।

यूजर की सेफ्टी हमारे लिए सबसे ऊपर-गूगल
गूगल ने बताया कि यूजर की सेफ्टी हमारे लिए सबसे ऊपर है। अगर इन्हें किसी अन्य प्लेटफॉर्म से इन्स्टॉल किया जाता है, तो डेटा सिक्योरिटी को लेकर गूगल जिम्मेदार नहीं होगा। गूगल ने ऐसे ऐप्स की लिस्ट जारी नहीं की है, लेकिन सोशल मीडिया पर एक लिस्ट वायरल हो रही है, जिसमें ऐसे 453 ऐप्स दिए गए हैं और ये प्ले स्टोर पर ओपन भी नहीं हो रहे हैं।

यूजर को सभी तरह की जानकारी देनी होगी-गूगल
गूगल की पॉलिसी के मुताबिक, पर्सनल लोन देने वाले ऐप्स को यूजर को सभी तरह की जानकारी देनी होगी। जैसे- पेमेंट की मिनिमम और मैक्सिमम समय-सीमा क्या है? अधिकतम ब्याज दरें क्या हैं? ग्राहकों को ये बताना होगा कि लोन की कुल लागत कितनी होगी? लोन के फीचर्स, फीस, रिस्क और बेनिफिट्स के बारे में ट्रांसपेरेंसी रहे, ताकि लोग सही फैसला ले सकें।

लिस्ट में इन लोन ऐप्स के नाम हैं…पर्सनल और इंस्टेंट लोन वाले चुनिंदा ऐप्स की लिस्ट
कैश

VN कार्ड

मनी मोर

मनी फॉर पीपुल

वन लोन

कैश ऑन

क्रेडिट

कैश गुरु

रूपी क्लिक

कैश नाउ

कैच कैश

क्रेडी मी

क्रेडिट बस

ईजी क्विक

कैश काऊ

फ्लैक्स सैलेरी

वर्ल्ड मनी

रूपी प्लस

फास्ट रूपी

कैश बाजार

लोन

ईजी

वी कैश

कैश बाउल फोन

एक ऐप भारत इंस्टेंट लोन, 10 हजार से ज्यादा बार इन्स्टॉल किया गया
सोशल मीडिया पर वायरल हो रही लिस्ट में एक ऐप भारत इंस्टेंट लोन भी है। हालांकि, इस ऐप को गूगल प्ले स्टोर से अब भी इन्स्टॉल किया जा सकता है। इसे अब तक 10 हजार से ज्यादा बार इन्स्टॉल किया गया है। वहीं, 260 यूजर्स ने इसे 5 में से 3.1 स्टार रेटिंग दी है। ज्यादातर यूजर्स ने रिव्यू के दौरान इसकी सर्विस को अच्छा नहीं बताया।

ऐप ने लोन से जुड़ी डिटेल मेंशन की है। जैसे-
-लोन अमाउंट: 10,000 रुपए मैक्सिमम

-लोन टर्म्स: 91 दिन (कम दिन, एक्सटेंड टाइम के साथ) – 365 दिन (अधिक दिन, एक्सटेंड टाइम के साथ)

-मैक्सिमम APR: 36%

-ट्रांजेक्शन फीस: नहीं

-प्रोसेसिंग फीस: 10%

-डॉक्युमेंट्स: पैन कार्ड, आधार नंबर, फोटो, अकाउंट डिटेल।

उदाहरण: यदि आप 5,000 रुपए का लोन एक साल के लिए लेते हैं, तब इस पर कुल ब्याज 5000 रुपए X 36% = 1800 रुपए होगा।
प्ले स्टोर पर पर्सनल लोन के कई ऐप्स

गूगल पर अभी भी पर्सनल लोन देने वाले ऐसे कई ऐप्स मौजूद हैं। जैसे ही प्ले स्टोर पर LOAN लिखकर सर्च किया जाता है, तो लंबी लिस्ट खुल जाती है। इनमें सरकारी ऐप्स के साथ कई प्राइवेट बैंक और फर्म के ऐप्स भी शामिल हैं।

ऐप्स लोन के चलते किसी ने सुसाइड किया, तो किसी को बदनाम किया गया
मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, इंस्टेंट लोन ऐप्स की वजह से कुछ सुसाइड के मामले भी सामने आए हैं। वहीं, दिसंबर में इंस्टेंट मनी लेंडिंग ऐप घोटाले में हैदराबाद और गुड़गांव से 19 लोगों को गिरफ्तार भी किया गया था।

केस नंबर-1
तेलंगाना में लॉकडाउन के दौरान 28 वर्षीय व्यक्ति ने अपनी नौकरी खो दी थी। उसने कर्ज लिया, लेकिन चुका नहीं पाया। ऐसे में कर्ज चुकाने के लिए किसी ऐप से इंस्टेंट लोन लिया। जब ऐप का लोन नहीं चुका पाया, तब रिकवरी एजेंट उसके पीछे लग गए। उसे बार-बार मैसेज भेजने लगे। उसके कॉल लिस्ट के लोगों को फोन करने लगे। परेशान होकर उसने दिसंबर में सुसाइड कर लिया।

केस नंबर-2
इंदौर की एक महिला ने ऐप से 20,000 रुपए का लोन लिया था। जब लोन की EMI मिस हो गई, तो उसे परेशान करना शुरू कर दिया गया। उसके फोटो को शेयर किए जाने लगे। धमकी दी गई कि कलेक्शन के लिए एजेंट को घर भेजेंगे। पुलिस से भी शिकायत करेंगे। उन्होंने महिला की कॉन्टैक्ट लिस्ट में मौजूद लोगों को भी परेशान किया।

प्ले स्टोर पर ऐप्स को लेकर RBI सर्टिफिकेट जरूर देखें
भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) का कहना है कि लोन देने वाली किसी लिस्टेड वेबसाइट या उसके ऐप पर जाते हैं, तब यह जरूर देखें कि वो RBI से रजिस्टर्ड है। या फिर RBI से रजिस्टर्ड किसी बैंक या NBFC के साथ काम कर रहा है। लोने देने वाली सभी कंपनियों को अपनी कंपनी पहचान संख्या (CIN) और सर्टिफिकेट ऑफ रजिस्ट्रेशन (CoR) को साफ तौर पर दिखाना होगा।

ऐप्स को हटाने के पहले नोटिस भी नहीं दिया जाएगा- गूगल
गूगल ने ब्लॉगपोस्ट में कहा कि कंपनी ऐप्स का रिव्यू करना जारी रखेगी। जिन ऐप्स को यूजर की सेफ्टी पॉलिसी का उल्लंघन करते पाया जाएगा, उन्हें तुरंत हटा दिया जाएगा। ऐप्स को हटाने के पहले नोटिस भी नहीं दिया जाएगा। सुरक्षा मानकों का पालन नहीं करने वाले सभी ऐप्स पर कार्रवाई होगी। कंपनी उन एजेंसियों की मदद करना जारी रखेगी, जो फर्जी पर्सनल लोन ऐप्स के जांच का काम कर रही हैं।

दूसरी तरफ, लोन ऐप के जरिए उत्पीड़न की घटनाओं के बीच RBI ने एक वर्किंग ग्रुप का गठन किया है। यह ग्रुप डिजिटल लेंडिंग के व्यवस्थित विकास के लिए सुझाव देगा। पिछले महीने RBI ने लोगों को अनधिकृत डिजिटल लेंडिंग प्लेटफॉर्म और मोबाइल ऐप के झांसे में नहीं आने के लिए चेताया था।


यात्रियों के लिए खुशखबरी! अब आसान होगा सफर       जल्दी हटाईये इसे, लोन देने वाले 453 ऐप्स को गूगल ने किया बैन       इस खिलाड़ी ने ब्रिस्बेन टेस्ट में किया डेब्यू       भारतीय खिलाड़ी हुए परेशान, ऑस्ट्रेलियाई दर्शकों की बदतमीजी       ऐसी महान टेनिस खिलाड़ी, जिन्होंने कम उम्र में बनाए इतने खिताब       वाॅशिंगटन ने स्मिथ को ऐसे किया आउट, बताया...       इस खिलाड़ी के पिता का निधन, खिलाड़ियों के घर शोक       यूपी दिवस: होगा तीन दिवसीय कार्यक्रम, सीएम योगी करेंगे शुभारम्भ       CM योगी लगवाएंगे वैक्सीन! कर दिया बड़ा एलान       यूपी: कोहरे में यात्रा करना पड़ा भारी, एक्सप्रेस वे पर 25 गाड़ियां टकराई       राजनाथ सिंह ने कहा कि भारतीय सेना ने हमेशा देश का हौसला बढ़ाया       मंदिर पर बोले अखिलेश यादव, राजनीति में लिया जाता है चंदा       सीएम योगी ने कोविड-19 वैक्सीनेशन का किया अवलोकन       पहले दिन 223 लोगों को लगी वैक्सीन, अब इस दिन को लगेगी अगली डोज       ईडी ने TMC के इस बड़े नेता पर कसा शिकंजा, कोर्ट में हुई पेशी, जानें       अभी अभी: वैक्सीन के बाद दो महिलाओं की तबियत बिगड़ी, भारत में दिखा पहला मामला       छत्तीसगढ़ में इस महिला को लगा कोरोना का पहला टीका       TMC विधायकों ने नियमों की उड़ाई धज्जियां       छत्तीसगढ़: CRPF जवान शराब तस्करी में गिरफ्तार       कोरोना वैक्सीनेशन, दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान