जानिए, आखिर क्या है भारतीय महिला बैंक बिजनेस कर्ज़ स्कीम?

जानिए, आखिर क्या है भारतीय महिला बैंक बिजनेस कर्ज़ स्कीम?

भारतीय महिला बैंक बिजनेस कर्ज़ स्कीम भारतीय महिला बैंक द्वारा प्रारम्भ की गयी थी, लेकिन 2017 में यह स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया ( भारतीय स्टेट बैंक Bank ) से मर्ज हो गयी. 

इस योजना के तहत महिला उद्यमियों ( Woman Entrepreneur Schemes ) को व्यवसाय प्रारम्भ करने, अपना बिज़नेस आगे बढ़ाने या फिर कोई मैन्युफैक्चरिंग एंटरप्राइज के लिए 20 करोड़ रुपये तक का बिज़नेस कर्ज़ उपलब्ध कराया जाता है. इस योजना के तहत बैंक महिला उद्यमियों ( Schemes for Women Entrepreneurs ) के लिए सस्ती दरों पर विशेष ऋण की सुविधा उपलब्ध कराती है. इन योजना के तहत महिलाएं न सिर्फ खुद का बिजनेस प्रारम्भ कर सकेंगी, बल्कि आत्मनिर्भर भी होगी.

क्या है भारतीय महिला बैंक बिजनेस कर्ज़ स्कीम? ( What is Bharatiya Mahila Bank Business Loan Scheme )
भारतीय महिला बैंक व्यवसायिक ऋण ( Bharatiya Mahila Bank Business Loan ) भारतीय महिला बैंक व्यवसायीक ऋण को उन महिला उद्यमियों के लिए लागू किया गया है, जो नया उद्यम खुदरा क्षेत्र में संपत्ति व SME से प्रारम्भ करना चाहती है. महिला उद्यमी को इस योजना के तहत अधिकतम ऋण राशि 20 करोड़ तक दी जाती हैं व जिस पर 0.25% की छूट भी दी जाती है. इसे ऋण राशि पर ब्याज दर आमतौर पर 10.15% या फिर उससे अधिक की होती है.

भारतीय महिला बैंक व्यवसाय ऋण के लिए पात्रता मानदंड ( Bharatiya Mahila Bank Business Loan Scheme Eligibility )
भारतीय महिला बैंक व्यवसाय ऋण के लिए कुछ पात्रता मानदंड निर्धारित किए गए हैं.
एकमात्र स्वामी
साझेदारी फर्म
प्रा. Ltd. / Ltd. कंपनी
को-ऑप समाज

भारतीय महिला बैंक व्यवसाय ऋण के फायदे
महिला उद्यमियों को ब्याज दर में 0.25% की रियायत दी जाती है
अधिकतम 7 सालों तक एक लचीला पुनर्भुगतान प्रदान करता है.
यदि आपकी ऋण राशि रु या उससे कम है, तो आपको किसी भी संपार्श्विक को गिरवी रखने की जरूरत नहीं है.

भारतीय महिला बैंक व्यवसाय ऋण की ब्याज दर ( Bharatiya Mahila Bank Business Loan Interest Rates )
भारतीय महिला बैंक व्यवसाय ऋण की ब्याज दर 10.15% से 13.65% सालान होती है. भारतीय महिला बैंक द्वारा प्रदान की जाने वाली अधिकतम व्यवसाय ऋण राशि आवेदकों की विभिन्न श्रेणियों के लिए भिन्न-भिन्न है.
सेवा उद्यमों व खुदरा व्यापारियों के लिए अधिकतम 5 करोड़, विनिर्माण उद्यमों के लिए अधिकतम 20 करोड़. वहीं, बिना किसी संपार्श्विक मुक्त ऋण एक करोड़ तक भारतीय महिला बैंक व्यवसाय ऋण के तहत दिया जाता है.