Gold Loan लेने से पहले ये बातें दिमाग में बैठा लें, जानिए क्या बता रहे एक्सपर्ट

Gold Loan लेने से पहले ये बातें दिमाग में बैठा लें, जानिए क्या बता रहे एक्सपर्ट

नकदी संकट से जूझ रहे लोगों के लिए Gold loan एक बेहतर विकल्प है। इसके लिए बहुत ज्यादा कागजी कार्रवाई की जरूरत नहीं पड़ती है। इसके लिए कर्जदाता क्रेडिट स्कोर की जांच नहीं करता है या लोन के बदले उधारकर्ता के रीपेमेंट क्षमता का मूल्यांकन भी नहीं करता है। इस तरह के लोन छोटे व्यवसाय के मालिकों को अस्थायी तौर पर नकदी संकट से निजात दिलाते हैं, ऐसे लोग जिन्हें इमरजेंसी में कैश चाहिए वे गोल्ड लोन ले सकते हैं। आप बैंक और गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनी (NBFC) से गोल्ड लोन ले सकते हैं। हम इस खबर में कुछ ऐसी बातें बता रहे हैं जो गोल्ड लोन लेते वक्त आपको ध्यान में रखना चाहिए।  

टैक्स और इन्वेस्टमेंट एक्सपर्ट बलवंत जैन कहते हैं, 'इमरजेंसी में पैसे की जरूरत पड़े तो पर्सनल लोन लेने से बेहतर है कि गोल्ड लोन लिया जाए। गोल्ड लोन में सिक्योरिटी रहने की वजह से यह कम ब्याज दर पर मिल जाता है। लोन लेने के बाद डिफ़ॉल्ट की संभावना भी रहती है, इसलिए ऐसी सूरत में लेंडर क्या एक्शन ले सकता है, इसका ध्यान रखना चाहिए।'

Banks versus NBFCs

बैंकों और NBFC के बीच एक महत्वपूर्ण अंतर है। बैंक बेहतर ब्याज दर दे सकता है जबकि, एनबीएफसी ज्यादा मात्रा में उधार दे सकते हैं। मसलन, NBFC मुख्य रूप से सोने के बदले लोन देते हैं, वे जल्दी और तुरंत लोन दे सकते हैं। सभी बैंक ब्रांच में यह सुविधा नहीं हो सकती है। बलवंत जैन कहते हैं, ' लोन लेने से पहले तीन-चार जगह यह जांच लें कि कहां कम ब्याज पर लोन मिल सकता है, इससे आप फायदे में रहेंगे।'


लेंडर गोल्ड बार स्वीकार नहीं करते

उधारदाता न्यूनतम 18 कैरेट शुद्धता स्वीकार करते हैं। अधिकांश कर्जदाता इस शुद्धता के नीचे सोने पर विचार नहीं कर सकते हैं। हालांकि, आप आभूषण और सोने के सिक्के गिरवी रख सकते हैं। सिक्कों के मामले में लेंडर उच्च शुद्धता के लिए पूछ सकते हैं और वजन पर प्रतिबंध लगा सकते हैं। कई लोग 50 ग्राम से ऊपर के सिक्के स्वीकार नहीं करते हैं।

रीपेमेंट

कई सारे रीपेमेंट ऑप्शन हैं, आप इनमें से किसी को भी चुन सकते हैं। आप समान मासिक किस्तों (ईएमआई) में भुगतान कर सकते हैं, या आप केवल कर्ज अवधि और अंत में एकमुश्त मूल भुगतान के दौरान ब्याज का भुगतान कर सकते हैं। बुलेट रीपेमेंट में बैंक मासिक आधार पर ब्याज लेते हैं। यह छह महीने से एक वर्ष के छोटे कार्यकाल के लिए उपयुक्त है। इस तरह के गोल्ड लोन में आपको ईएमआई की जरूरत नहीं होती है। टैक्स और इन्वेस्टमेंट एक्सपर्ट बलवंत जैन कहते हैं, गोल्ड लोन लेने से पहले प्रीपेमेंट का पता जरूर कर लें। क्या बैंक आपको प्रीपेमेंट की अनुमति देता है या नहीं। अगर देता है और आपके पास एक बार ज्यादा राशि एकत्रित हो जाती है और आप लोन चुकता करना चाहते हैं तो यह देखना चाहिए कि इसका चार्ज क्या है।       

भुगतान में चूक

यदि आप समय पर कर्ज नहीं चुका पाते हैं, तो उधारदाता को आपका सोना बेचने का अधिकार है। इसके अलावा अगर सोने की कीमत गिरती है, तो कर्जदाता आपसे अतिरिक्त सोना गिरवी रखने के लिए कह सकता है।


ग्राहकों के ऑनलाइन पेमेंट की सुरक्षा सुनिश्चित करें बैंक : रिजर्व बैंक

ग्राहकों के ऑनलाइन पेमेंट की सुरक्षा सुनिश्चित करें बैंक : रिजर्व बैंक

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने बैंकों और कार्ड जारी करने वाली संस्थाओं के लिए न्यूनतम साझा मानक जारी किए हैं। इसका मकसद डिजिटल भुगतान की सुरक्षा सुनिश्चित करना है। इसके तहत इंटरनेट बैंकिंग, मोबाइल पेमेंट, कार्ड पेमेंट, ग्राहक सुरक्षा व शिकायत निपटान तंत्र से संबंधित दिशा-निर्देश शामिल हैं। ये नियम सभी शेड्यूल्ड कॉमर्शियल बैंकों, स्मॉल फाइनेंस बैंक, पेमेंट बैंक तथा क्रेडिट कार्ड जारी करने वाली गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों यानी एनबीएफसी पर लागू होंगे। आज के समय जब बैंकिंग धोखाधड़ी के मामलों में लगातार तेजी देखने को मिल रही है, केंद्रीय बैंक के ये दिशा-निर्देश काफी अहम हो जाते हैं। 


दिशा - निर्देश में कहा गया है कि साइबर हमलों की बढ़ती बारंबारता और उनसे होने वाले नुकसानों को देखते हुए इलेक्ट्रॉनिक माध्यम से भुगतान व फंड ट्रांसफर तथा एटीएम, माइक्रो एटीएम या बिजनेस कोरेस्पांडेंट्स के माध्यम से रकम की निकासी में कई चरणों के सुरक्षा मानक अपनाए जाएं। माना जा रहा है कि इससे भुगतान के डिजिटल माध्यमों और ग्राहकों, दोनों की सुरक्षा सुनिश्चित हो सकेगी। 

दिशा - निर्देश में कहा गया है कि इंटरनेट व मोबाइल बैंकिंग तथा कार्ड पेमेंट जैसे मामलों में बैंक व संबद्ध संस्थाएं मजबूत सुरक्षा मानकों का पालन करेंगी। वे ग्राहकों को बेहद प्रचलित जोखिमों के बारे में लगातार जानकारी देंगी। मोबाइल एप के बारे में आरबीआइ ने कहा है कि संबंधित इकाई को अपने एप का नया संस्करण जारी करने के छह महीनों के भीतर पुराने संस्करण को निष्क्रिय कर देना होगा।


ट्रंप बनाएंगे अलग पार्टी! राष्ट्रपति चुनाव लड़ने के दिए संकेत       रात में चमकीली रोशनी से खौफ में आए लोग, फिर...       असम दौरे पर प्रियंका गांधी, कामाख्या देवी मंदिर में की पूजा       इन राज्यों में 5 दिन होगी भारी बारिश, IMD ने जारी किया अलर्ट       पहला डोज लिया पीएम ने, वैक्सीनेशन का दूसरा फेज शुरू       इन राज्यों में बारिश का अलर्ट, जमकर बरसेंगे बादल       आखिर क्या होती है वीगन डाइट? आज़माने से पहले जानें नुकसान       सोते समय क्या करना चाहिए और क्या नहीं करना चाहिए, जानें       कब्ज दूर करने से लेकर वजन घटाने तक में बेहद फायदेमंद है ये...       रहना चाहते हैं सेहतमंद तो अपने डाइट में इन चीज़ों को जरूर जोड़ें, जानें       वक्त पर हो जाए इलाज तो ब्रेन ट्यूमर भी नहीं खतरनाक       World Brain Tumor Day 2020: कैसे होती है ब्रेन ट्यूमर की शुरुआत, जानें       जब बच्चे करें हैंड सैनिटाइज़र का इस्तेमाल तो जरूर रखें ध्यान       जीना चाहते हैं लंबी उम्र, तो रोज़ाना करें ये काम       पथरी की समस्या से तुरंत निजात पाने के लिए अपनाएं ये घरेलू उपाय       बॉडी की इम्युनिटी पावर को बढाती है किशमिश       श्वेता तिवारी ने किया गज़ब का ट्रांसफॉर्मेशन       Bigg Boss 15: मेकर्स ने शुरू किए ‘बिग बॉस 15’ के लिए ऑडिशन       Rubina Dilaik के लिए कॉफी न लाना बन गई थी उनके तलाक का वजह       Rakhi Sawant की मां की कैंसर की खबर सुनकर सन्न रह गईं काम्या पंजाबी, लिखा...