फेसबुक, वॉट्सऐप, जूम पर जो करना है कर लो, सरकार नहीं करेगी तांक-झांक; ट्राई की सिफारिश- फिलहाल रेगुलेशन से अलग ही रखें ओटीटी प्लेटफॉर्म्स को

फेसबुक, वॉट्सऐप, जूम पर जो करना है कर लो, सरकार नहीं करेगी तांक-झांक; ट्राई की सिफारिश- फिलहाल रेगुलेशन से अलग ही रखें ओटीटी प्लेटफॉर्म्स को

दूरसंचार मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कई मौकों पर कहा है कि फेसबुक, वॉट्सऐप, टेलीग्राम समेत सभी ओटीटी प्लेटफॉर्म्स को जवाबदेही के दायरे में लाना आवश्यक है। इसके लिए केंद्र सरकार ने कोशिश भी शुरू की थीं। लेकिन, दूरसंचार नियामक ट्राई को लगता है कि इसकी कोई आवश्यकता नहीं है। यानी इन प्लेटफॉर्म्स पर यूजर को जो करना है, करने दो। सरकार को तांक-झांक नहीं करनी चाहिए। ट्राई की इन सिफारिशों पर सरकार को फैसला लेना है। ट्राई की सिफारिश से टेलीकॉम ऑपरेटर जरूर नाराज हो गए हैं। उनका कहना है कि जब हम पर इतने रेगुलेशन है तो इन ओटीटी प्लेटफॉर्म्स को क्यों छोड़ा जा रहा है। 5 सवालों में समझते हैं रेगुलेशन का मसला..

ओटीटी रेगुलेशन का मामला क्या है?

  • लंबे समय से मांग हो रही थी कि ओवर-द-टॉप (ओटीटी) प्लेटफॉर्म्स को भी जवाबदेह बनाना चाहिए। 2018 में तो इसके लिए सरकार पर दबाव भी बढ़ने लगा था, क्योंकि फेक न्यूज की वजह से मॉब लिंचिंग की घटनाएं लगातार सामने आ रही थीं।
  • ओटीटी कम्युनिकेशन सर्विसेस बुनियादी रूप से वह इंटरनेट ऐप्लिकेशंस हैं, जो मोबाइल ऑपरेटर्स के नेटवर्क से संचालित होती हैं। यह किसी न किसी तरह से टेलीकॉम कंपनियों की ही नहीं, बल्कि न्यूज चैनल्स और अखबारों की प्रतिस्पर्धी भी हैं।
  • दूरसंचार मंत्री रविशंकर प्रसाद ने 2018 में मॉब लिंचिंग की घटनाएं बढ़ने पर वॉट्सऐप से कहा था कि वह इन गैरकानूनी मैसेज का जरिया बताएं। साथ ही भड़काऊ संदेश भेजने वाले की पहचान करने में मदद करें। ट्राई की सिफारिशें इन निर्देशों के उलट हैं।

ट्राई की सिफारिशें क्या हैं?

  • ट्राई ने 'रेगुलेटरी फ्रेमवर्क फॉर ओवर-द-टॉप (ओटीटी) कम्युनिकेशन सर्विसेस' नाम से अपनी सिफारिशों में किसी भी फर्म का नाम नहीं लिया है। ट्राई ने साफ तौर पर कहा है कि ओटीटी प्लेटफॉर्म्स के लिए किसी तरह के रेगुलेशन की आवश्यकता नहीं है। इन सेवाओं में फेसबुक मैसेंजर, वॉट्सऐप, ऐपल फेसटाइम, गूगल चैट, स्काइप, टेलीग्राम और माइक्रोसॉफ्ट टीम्स, सिस्को वेबेक्स, जूम, गूगल मीट्स जैसी नई सर्विसेस भी शामिल हैं।
  • ट्राई ने यह भी कहा कि भविष्य में इंटरनेशनल टेलीकम्युनिकेशन यूनियन (आईटीयू) की स्टडी के आधार पर इस मुद्दे पर नए सिरे से देखने की आवश्यकता पड़ सकती है। पूरी दुनिया में इन ओटीटी प्लेटफॉर्म्स को रेगुलेट करने की संभावनाएं तलाशी जा रही हैं।
  • ट्राई ने सिक्योरिटी और प्राइवेसी के मुद्दे पर कहा कि ओटीटी कम्युनिकेशन सर्विसेस का ढांचा अभी विकसित हो रहा है। एंड-यूजर्स की प्राइवेसी को बनाए रखने के लिए एनक्रिप्शन टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल हो रहा है। यह किसी भी अथॉरिटी को क्लियर टेक्स्ट फॉर्मेट में कम्युनिकेशन हासिल करने से रोकती है।

ट्राई की सिफारिशें सही हैं या गलत?

  • किसी भी नतीजे पर पहुंचने से पहले यह सोचना होगा कि इसके परिणाम क्या हो सकते हैं। पूरी तरह से रेगुलेशन न होना खतरनाक हो सकता है। फेसबुक, वॉट्सऐप जैसे प्लेटफॉर्म न्यूज और सूचना हासिल करने के साधन बन चुके हैं। जब टीवी चैनल और न्यूजपेपर को हिंसा भड़काने या समुदाय में नफरत फैलाने का दोषी ठहरा सकते हैं तो सोशल मीडिया को क्यों नहीं?
  • अगर ट्राई की मानें तो सोशल मीडिया की इस पर कोई जवाबदेही नहीं होगी। सिर्फ इतना कहा जाएगा कि सामग्री हटा लीजिए। इतने पर जवाबदेही भी खत्म हो जाएगी। जब कानूनों ने भी सोशल मीडिया को एक मीडिया मान लिया है तो इसका रेगुलेशन भी होना ही चाहिए।
  • ट्राई की सिफारिशों ने मोबाइल ऑपरेटरों के ग्रुप सीओएआई यानी सेलुलर ऑपरेटर एसोसिएशन ऑफ इंडिया को नाराज कर दिया है। उसका कहना है कि यह तो बराबरी नहीं हुई। ओटीटी सेवाएं इस तरह के रेगुलेशन न होने पर राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा बनी रहेंगी।
  • सीओएआई के डीजी एसपी कोचर का कहना है कि दूरसंचार कंपनियों को सख्त रेगुलेटरी और लाइसेंसिंग फ्रेमवर्क में बांधा गया है। यह ओटीटी सेवाएं दूरसंचार सेवाओं का स्थान ले सकती हैं तो इन्हें रेगुलेशन में क्यों नहीं बांधा गया है। यह दूरसंचार कंपनियों के साथ अच्छा नहीं है।

रेगुलेशन पर इन कंपनियों का क्या कहना है?

  • नैस्कॉम, यूएस-इंडिया बिजनेस काउंसिल जैसे डिजिटल ऐप्लिकेशन प्रोवाइडर ओटीटी के लिए किसी भी तरह के रेगुलेटरी फ्रेमवर्क के खिलाफ हैं। ओटीटी कंपनियों का दावा है कि उनकी सेवाएं मोबाइल ऑपरेटर्स से अलग हैं। कम्युनिकेशन के लिए कोई डेडिकेटेड एंड-टू-एंड चैनल नहीं है।
  • वॉट्सऐप का कहना था कि यदि ट्रेसेबिलिटी का फीचर विकसित किया तो यह एंड-टू-एंड एनक्रिप्शन को कमजोर करेगा। वॉट्सऐप के प्राइवेट नेचर को भी प्रभावित करेगा। गंभीर दुरुपयोग की संभावना बढ़ जाएगी। हम प्राइवेसी प्रोटेक्शन को कमजोर नहीं करना चाहते।

क्या मोबाइल कंपनियों को ओटीटी सर्विसेस की वजह से नुकसान हो रहा है?

  • लगता तो नहीं है। 5-6 साल पहले टेलीकॉम ऑपरेटर्स ने मांग उठाई थी कि ओटीटी प्लेटफॉर्म्स को 'वन सर्विस, वन रूल' के तहत रेगुलेटरी फ्रेमवर्क में लाना चाहिए। उस समय वॉट्सऐप, फेसबुक, स्काइप से कॉल करना फ्री था और इसका नुकसान टेलीकॉम ऑपरेटर्स को होता था।
  • हालांकि, अब समय बदल गया है। उस समय डेटा 50 रुपए प्रति जीबी था और वॉयस व मैसेज सर्विस के पैसे वसूले जाते थे। जियो के आने के बाद डेटा 3-5 रुपए प्रति जीबी हो गया है। टेलीकॉम कंपनियां भी कॉलिंग सेवाएं लगभग मुफ्त ही कर चुकी हैं। मैसेज भी फ्री ही हैं।

आरबीआई द्वारा रेपो रेट को लेकर किए गए इस निर्णय से आज शेयर मार्केट में आई जबरदस्त रौनक

आरबीआई द्वारा रेपो रेट को लेकर किए गए इस निर्णय से आज शेयर मार्केट में आई जबरदस्त रौनक

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) द्वारा रेपो रेट में परिवर्तन नहीं करने के निर्णय से आज शेयर मार्केट में जबरदस्त रौनक रही. बैंक, ऑटो और रियल्टी कंपनियों के शेयरों ने ऐसी तेजी पकड़ी कि सेंसेक्स और निफ्टी ने रिकॉर्ड कायम कर दिया.

 बीएसई का 30 शेयरों वाला प्रमुख संवेदी सूचकांक सेंसेक्स शुक्रवार को पहली बार 45,100 अंक का स्तर पार कर लिया. सेंसेक्स आज ऑल टाइम हाई 45,148.28 के स्तर को छू लिया. आज सेंसेक्स 446.90 अंकों की उछाल के साथ 45,079.55  के स्तर पर बंद हुआ. वहीं 13,177 के स्तर पर खुलने वाला निफ्टी भी कुलांचे भरते हुए 13,280.05 के नए शिखर को छूकर लौटा और 124.65 अंकों की बढ़त के साथ 13,258.55  के स्तर पर बंद हुआ.

निफ्टी टॉप गेनर में आज अडाणी पोर्ट, आईसीआईसीआई बैंक, हिन्डाल्को, अल्ट्राटेक सीमेंट, सन फार्मा जैसे स्टॉक प्रमुख रहे तो वहीं रिलायंस, एचडीएफसी लाइफ, बीपीसीएल और एचसीएल टेक नुकसान के साथ बंद हुए. यदि सेक्टोरल इंडेक्स की बात करें तो निफ्टी मीडिया, आईटी,   बैंक,  पीएसयू बैंक, रियल्टी इंडेक्स , फाइनेंशियल सर्विसेज,  प्राइवेट बैंक , मेटल जैसे सभी हरे निशान के साथ आज बंद हुए.

सपाट शुरुआत

आज शेयर मार्केट की आरंभ हरे निशान के साथ हुई. शुरुआती कारोबार में आज सेंसेक्स 33.26 की बढ़त के साथ 44,665.91  के स्तर पर खुला.  वहीं नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी में भी कारोबार की आरंभ सपाट हुई. निफ्टी 35 अंक चढ़कर 13,177.40 के स्तर पर खुला. शुरुआती कारोबार में सेंसेक्स 97.00 अंक चढ़कर 44,729.65 पर और निफ्टी 32.25 अंक बढ़कर 13,166.15  पर कारोबार कर रहा था.

गुरुवार का हाल: सेंसेक्स 45 हजारी बनने से चूका

वैश्विक स्तर पर मिले-जुले रुख के बीच घरेलू शेयर मार्केट गुरुवार को हल्की बढ़त के साथ बंद हुए. एनएसई निफ्टी रिकार्ड स्तर पर बंद हुआ. तीस शेयरों पर आधारित बीएसई सेंसेक्स कारोबार के दौरान 44,953.01 तक चला गया था. बाद में यह कुछ नीचे आया और अंत में 14.61 अंक यानी 0.03 फीसदी की बढ़त के साथ 44,632.65 अंक पर बंद हुआ. नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी कारोबार के दौरान 13,216.60 अंक तक चला गया था. अंत में यह 20.15 अंक यानी 0.15 फीसदी की तेजी के साथ 13,133.90 अंक पर बंद हुआ. 


जावेद जाफरी की ये बातें नहीं जानते होंगे आप       कंगना और दलजीत के फैंस में हुआ बड़ा जंग, ट्विटर पर किए ये कमेंट       इस एक्ट्रेस का सबसे बड़ा खुलासा, कहा...       बॉलीवुड के नेचुरल एक्टर, काजोल की नानी से था रिश्ता       फैशनेबल युग फैशन प्रीन्योर, चौंका दिया सबको       किसानों के प्रदर्शन पर धर्मेंद्र ने ट्वीट किया डिलीट, लोगों ने किया ट्रोल       किसानों पर बयान के बाद निशाने पर कंगना       ओम प्रकाश शर्मा ने कहा कि धांधली से चुनाव जीती BJP, 13 को करेंगे आंदोलन का ऐलान       सड़क पर दिखे सांप ही सांप, लोगों में मचा हड़कंप       इस बड़े नेता ने ममता बनर्जी के लिए किया इस शब्दों का इस्तेमाल       उत्तराखंड दौरे पर जेपी नड्डा, संतों से करेंगे मुलाकात       वैक्सीन पर राहुल ने BJP को घेरा, कहा...       एक के बाद एक गिरा दिए चीन ने, लगातार नष्ट कर रहा वजूद       चांद से 2 किलो मिट्टी लेकर चीन का यान लौट रहा धरती की ओर       रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा,''एचडीएफसी बैंक के ऊपर की जाएंगी कार्रवाई       भारतीयों के लिए बड़ी खबर, अमेरिका ने लिया ये बड़ा फैसला!       आरबीआई द्वारा रेपो रेट को लेकर किए गए इस निर्णय से आज शेयर मार्केट में आई जबरदस्त रौनक       कश्मीर पर तुर्की हमला, भयानक जंग की तैयारियां       OMG! बच्ची पैदा हुई तो उम्र थी 27 साल, जानें पूरा मामला       आतंकियों ने बिछाई लाशें: कई सेना-अधिकारियों की हत्या, हिल गया पूरा देश